जान की दुश्मन बन गई डॉ.बलसारा की संपत्ति, कभी बेटा किडनैप करता है कभी बेटी

डॉक्टर एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं. मरीजों के मुफ्त इलाज का डॉक्टर का रिकार्ड रहा है. लेकिन अब इस डॉक्टर की संपत्ति जान की दुश्मन बन गई है. कभी बेटा किडनैप करता है तो कभी बेटी.

 कभी थे झारखंड के सबसे बड़े डॉक्टर, संपत्ति के लिए बेटी ने अमेरिका में बनाया बंधक
डॉक्‍टर.एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं.

जमशेदपुर: अक्सर माना जाता है कि बुढ़ापे में बच्चे अपने परिजनों का सहारा बनते हैं लेकिन कई बार बच्चे रिश्तों को ताक पर रख मानवता को भी शर्मसार कर देते हैं. झारखंड के  जमशेदपुर में संपत्ति को लेकर बच्चों द्वारा पिता को बंधक बनाकर रखने का मामला सामने आया है. झारखंड के जमशेदपुर में एक डॉक्टर को उसके ही बेटे और बेटी ने बंधक बनाकर अमेरिका में रखा था. संपत्ति के कारण डॉक्टर छोटे बेटे व बेटी उन्हें किडनेप कर अमरीका में रखा था. बड़े बेटे ने दूतावास के मदद से उन्हें छुड़वाया और भारत वापस ले कर आ गया.डॉक्‍टर. एबी बलसारा झारखंड के काफी प्रसिद्ध न्यूरो फिजिशियन रहे हैं. मरीजों के मुफ्त इलाज का डॉक्टर का रिकार्ड रहा है. लेकिन अब इस डॉक्टर की संपत्ति जान की दुश्मन बन गई है. कभी बेटा किडनैप करता है तो कभी बेटी.

अब इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. डॉ. एबी बलसारा को अमेरिका में बेटी ने बंधक बना लिया था. बेटे डॉक्‍टर फरहाद बलसारा अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास की मदद से उन्हें छुड़ाकर यहां लाया है। शनिवार को डॉक्‍टर बलसारा ने अपने बेटे और वकील संग मीडिया से आपबीती साझा की। उन्होंने बताया कि वस्तुस्थिति से जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना की पुलिस को भी अवगत करा दिया है।वे बड़ी मशक्कत के बाद बंधक मुक्त होकर जमशेदपुर लौट आए हैं. उन्होंने बताया है कि बेटी की योजना किसी तरह जान ले लेने की थी ताकि चल-अचल संपत्ति पर कब्जा जमा सकें. बड़े बेटे डॉक्‍टर. फरहाद बलसारा ने अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास की मदद से उन्हें छुड़ाकर यहां लाया है. डॉ. बलसारा पारसी परिवार से ताल्लुक रखते हैं. शनिवार को डॉक्‍टर बलसारा ने अपने बेटे और वकील संग मीडिया से आपबीती साझा की. उन्होंने बताया कि वस्तुस्थिति से जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना की पुलिस को भी अवगत करा दिया है. गौरतलब हो कि डॉ बलसारा ने अपने बेटे डॉक्‍टर फरहाद बलसारा के खिलाफ बिष्टुपुर थाना में मामला दर्ज कराया था और उसके बाद यह बात सामने आई थी कि वह बेटी के यहां अमेरिका चले गए हैं. क्योंकि उन्हें यहां बेटे से जान को खतरा और उनकी देखरेख भी ठीक ठंग से नहीं हो पा रही थी.बहरहाल डॉक्‍टर तो अब भारत लौट चुके है और अपने बड़े बेटे के साथ रह रहे है लेकिन उन्होंने के कभी नही सोचा था कि मुफ्त में इलाज करने वाले के साथ उनके खुद के सगे बेटा और बेटी संपति के लिए इस तरह से रवैया अपनाएंगे और दुश्मन बन जाएंगे.

बेटी ने उठाया पिता की मानसिक कमजोरी का फायदा

डॉक्‍टर एबी बलसारा के बेटे डॉक्‍टर फरहाद बलसारा ने पिता की मौजूदगी में बताया कि बेटी और दामाद ने डॉक्‍टर बलसारा की मानसिक स्थिति का फायदा उठाया और उन्हें यह समझाया कि कामिनी बलसारा में रांची हाई कोर्ट में उनके खिलाफ दुष्कर्म का केस दायर कर दिया है। बचाव के लिए कामिनी और फरहाद के खिलाफ केस करना होगा। इसी के बाद फरहाद और कामिनी के खिलाफ बिष्‍टुपुर थाने में केस किया गया। थाने में केस दर्ज कराने के बाद बेटी नवाज बलसारा झा डॉक्‍टर बलसारा को लेकर अमेरिका चली गई। उन्‍हें अमेरिका ले जाने में नवाज की करीबी शर्मिना पारीख ने मदद की। उसने डॉक्‍टरबलसारा के मन में यह बैठाया कि उनके लिए जमशेदपुर के सीएच एरिया आवास छोड़कर अमेरिका में बेटी के यहां रहना ही सुरक्षित रहेगा।

नये खुलासे में बिष्टुपुर के तत्कालीन थाना प्रभारी श्रीनिवास की भूमिका पर भी सवाल उठाए गए हैं। बताया कि थाना प्रभारी डॉक्‍टर बलसारा की बेटी नवाज झा बलसारा और दामाद प्रकाश झा से मिले थे। उन्होंने दोनों के इशारे पर डॉक्‍टर बलसारा के कमरे में लगे सीसीटीवी को हटवा दिया था। थाना प्रभारी कई बार डॉक्‍टर फरहाद और उसकी पत्नी को घर खाली कर देने की सलाह दे चुके थे और धमकाया था कि झूठे मुकदमें में फंसा दिया जाएगा। डॉक्‍टर बलसारा के पड़ोसी अवतार सिंह तारी और उनके बेटे रवि सिंह तारी भी बेटा-बेटी के घर बेचने की योजना में कथित तौर पर शामिल थे और कई बार घर छोड देने के लिए डॉ फरहाद को धमका चुके थे। धन हड़पने की बेटी -दामाद की साजिश में डॉक्‍टर बलसारा का पुराना चालक जफर खान भी शामिल था।

अमेरिका ले जाकर बेटी ने रख दिया ओल्ड एज होम में

डॉक्‍टर फरहाद बलसारा ने बताया कि अमेरिका जाने के कुछ ही दिनों बाद पिता का फोन आया कि बेटी-दामाद ने अपने आवास से हटाकर उन्‍हें ओल्‍ड एज होम में रख दिया है। किसी से मिलने और बात करने पर बंदिश लगा दी गई है। बेटी-दामाद मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताडि़त कर रहे हैं। उनका ई मेल आइडी भी हैक कर लिया गया है। वे भारत वापस आना चाहते हैं, लेकिन उनके  फ‍िजिकल कस्टडी की पावर ऑफ एटर्नी अपने नाम करा ली है। इतना ही नहीं उनसे छल कर बैं‍क डिलिंग, फ‍िनांस, प्रोपर्टी आदि की पावर ऑफ एटॉर्नी भी उनसे धोखे में करा ली है।

बेटे ने साधा विदेश मंत्रालय से संपर्क, मांगी मदद

डॉक्‍टर बलसारा से बातचीत के बाद बेटे डॉक्‍टर फरहाद ने भारतीय विदेश मंत्रालय से संपर्क साधा और डॉक्‍टर एस जयशंकर, तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पत्रकार रविश कुमार समेत कई लोगों को ट्वीट कर मदद मांगी। इंडियन कांसुलेट ने संपर्क  कर मदद मांगी और उसके बाद डॉक्‍टर बलसारा वापस लौट सके।

बेटी का था खतरनाक प्लान

बेटी की योजना थी कि ओल्ड एज में पिता को मरने के लिए छोड दिया जाए और घर को बेचेने के साथ ही उनकी नगदी भी अपने नाम करा ली जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *