BARC: ‘आज तक’ को पीछे छोड़  ‘न्यूज18 इंडिया’ न्यूज चैनल नंबर वन कुर्सी पर

‘ब्रॉडकास्ट् ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) इंडिया ने 23वें हफ्ते के आंकड़े जारी किए हैं
Published – Thursday, 13 June, 2019

Barc

‘न्यूज18 हिंदी’ के वीकली इंप्रेशंस की बात करें तो इस हफ्ते यह 6.8 करोड़ रहे, जिसकी वजह से यह इस लिस्ट में टॉप पर आ गया, जबकि 5.9 करोड़ इंप्रेशंस के साथ ‘आजतक’ दूसरे स्थान पर खिसक गया। इसके बाद क्रमश: ‘इंडिया टीवी’ (India TV), ‘जी न्यूज’ (Zee News) और ‘रिपब्लिक भारत’ (Republic Bharat) का नंबर है।

इस बारे में ‘नेटवर्क18’ के सीईओ (हिंदी न्यूज क्लस्टर) मयंक जैन का कहना है, ‘न्यूज18 इंडिया अपने व्युअर्स को ध्यान में रखते हुए उनके लिए बेहतर कंटेंट और प्रोग्रामिंग फॉर्मेट पेश कर रहा है। इससे चैनल को तेजी से आगे बढ़ने और देश के नंबर वन न्यूज चैनल की पोजीशन पर पहुंचने में काफी मदद मिली है। हमने विभिन्न जरूरतों को देखते हुए अलग-अलग शो के माध्यम से अपने प्राइम टाइम को काफी मजबूती दी है। इनमें ‘सौ बात की एक बात’, ‘आर-पार’, ‘हम तो पूछेंगे’ और ‘भैयाजी कहिन’ जैसे शो शामिल हैं। यही कारण है कि ऑडियंस ने इस ब्रैंड के प्रति अपना झुकाव दिखाया है और व्युअरशिप नंबर्स में दर्शकों का यह झुकाव देखा जा सकता है।’

जेपी MLA के कोप का शिकार हुआ पत्रकार, विडियो वायरल,पत्रकार ने दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में की मामले की शिकायत

Rajeev Tiwari

आरोप है कि चैनल में दिखाई गई एक खबर से नाराज प्रणव चैंपियन ने राजीव तिवारी को जान से मारने की धमकी भी दी। यही नहीं, पिस्टल दिखाते हुए थप्पड़ भी मारा। बताया जाता है कि यह पूरा वाकया नई दिल्ली स्थित उत्तराखंड सदन का है। राजीव तिवारी ने दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में शिकायत दर्ज करा दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

राजीव तिवारी का कहना है कि वह न्यूज 18 की तरफ से उत्तराखंड की रिपोर्टिंग करते हैं। गुरुवार की सुबह चैंपियन ने उन्हें मिलने के लिए दिल्ली स्थित उत्तराखंड सदन के कमरा नंबर-204 में बुलाया था। आरोप है कि जब राजीव वहां पहुंचे तो चैंपियन ने अपनी पिस्तौल मंगाई और फिल्मी स्टाइल में टेबल पर रख दी। इसके बाद चैंपियन ने उन्हें धमकी दी कि अगर मेरे खिलाफ खबर चलाओगे तो गोली मार दूंगा।

आरोप है कि कुछ दिन पहले उत्तराखंड सदन में हरिद्वार नंबर के रजिस्ट्रेशन वाली एक गाड़ी पार्क की गई थी। इस गाड़ी का इस्तेमाल चैंपियन अपने काफिले में करते हैं। इस गाड़ी पर अवैध रूप से उत्तराखंड पुलिस लिखवाया हुआ है‌, जबकि यह निजी वाहन है। राजीव का कहना है कि यह खबर चलाने को लेकर चैंपियन उनसे नाराज थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पत्रकार को थप्पड़ मारने के आरोपों को चैंपियन ने गलत बताया है। उनका कहना है कि टीवी पत्रकार गुंडई दिखाकर अवैध वसूली करने आए थे। एक पत्रकार ने साजिश के तहत कैमरा ऑन कर उन्हें उकसाने के लिए गालियां दीं। उन्होंने कहा कि वीडियो में जो हाथ उठाने वाली बात दिखाई जा रही है, वह गलत है। वे पत्रकार को चुप कराने के लिए कुर्सी से भय दिखाने के लिए उठे थे और उसे बाहर निकलने का इशारा किया। टीवी पर थप्पड़ मारने की खबर देखने के बाद उन्होंने बहरोड कोतवाली पुलिस को पत्रकार के खिलाफ तहरीर दी है। चैंपियन का कहना है कि उनकी सामाजिक और राजनैतिक प्रतिष्ठा धूमिल करने के लिए ऐसा किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *