हिंदू पार्टनर से सबरीमाला में प्रवेश तक, कई विवादों से जुड़ी हैं रेहाना फातिमा

रेहाना फातिमा

रेहाना फातिमा –
केरल के सबरीमाला में भगवान अयप्पा के मंदिर में प्रवेश की कोशिश करने वाली बीएसएनएल की कर्मी रेहाना फातिमा का तबादला शहर के पलारीवत्तोम टेलीफोन एक्सचेंज में कर दिया गया है। इस एक्सचेंज में उन्हें जनसंपर्क का काम नहीं करना होगा। उन्हें इसलिए निकाला गया है क्योंकि सबरीमाला कर्म समिति ने मंगलवार को पलारीवत्तोम के बीएसएनएल दफ्तर तक विरोध मार्च कर फातिमा के निष्कासन की मांग की थी।

फातिमा ने अपने काम में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती थी। केवल हिंदू ही नहीं बल्कि फातिमा मुस्लिम धर्म के लोगों का विरोध भी झेल रही हैं। सूत्र से मिली जानकारी के अनुसार  केरल मुस्लिम जमात काउंसिल ने ‘लाखों हिंदू श्रद्धालुओं की भावनाएं आहत करने’ को लेकर फातिमा को मुस्लिम समुदाय से निष्कासित कर दिया था। फातिमा केवल इसी विवाद से नहीं जुड़ी हैं। बल्कि उनका नाम और भी कई विवादों में सामने आ चुका है।

सबरीमाला विवाद

सुप्रीम कोर्ट के मंदिर पर सुनाए फैसले के बाद फातिमा ने भारी पुलिस बल के बीच मंदिर में प्रवेश की कोशिश की थी। लेकिन उन्हें प्रदर्शनकारियों ने मंदिर में जाने से रोक दिया। उनके घर में भी तोड़फोड़ की गई। फातिमा को जान से मारने की भी धमकी दी। उन्होंने अपने और अरने परिवार के लिए पुलिस सुरक्षा की मांग की है।

दूसरे धर्म के व्यक्ति के साथ रहना
Image result for रेहाना फातिमा
31 साल की फातिमा एक हिंदू के साथ ओपन रिलेश्नशिप में रहती हैं। वह बचपन से ही धर्म के रूढ़िवादी रिवाजों के खिलाफ आवाज उठाती रही हैं। फातिमा का कहना है कि जिस दिन से उन्होंने एक हिंदू को अपना जीवनसाथी चुना है तभी से मुस्लिम काउंसिल उन्हें निशाना बना रही है। साथ ही परिवार सहित निष्कासित करने की धमकी दे रही है। सरकारी नौकरी करने वाली फातिमा के दो बच्चे भी हैं।

सभी धर्मों का करती हैं सम्मान

रेहाना फातिमा

रेहाना फातिमा

फातिमा का कहना है कि उन्होंने अपने एक्टिविस्ट के जुनून के कारण मंदिर में प्रवेश की कोशिश नहीं की। बल्कि यह तो उनकी इच्छा थी कि वह भगवान अयप्पा को देखें। उनका कहना है कि वह सभी धर्मों का सम्मान और विश्वास करती हैं। और सभी रीति रिवाजों को भी मानती हैं इसी कारण वह मंदिर में भगवान के दर्शन भी करना चाहती थीं।

जब तस्वीर से आईं विवादों मेंImage result for रेहाना फातिमा

रूढ़िवादी प्रथाओं के खिलाफ आवाज उठाने वाली फातिमा के फेसबुक पेज के इंट्रो पर लिखा है, ‘ब्रेक द रूल्स।’ जिसका अर्थ है नियमों को तोड़ना। इसी साल मार्च में वह अपनी एक तस्वीर के कारण विवादों में आईं। उन्होंने अपनी टॉपलेस तस्वीर पोस्ट की थी। साथ ही वह दो तरबूजों के साथ भी नजर आ रही थीं।उनका कहना है कि उन्होंने यह कदम इसलिए उठाया क्योंकि कोझीकोड के एक मुस्लिम प्रोफेसर ने महिलाओं के स्तनों को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। इसी के विरोध में उन्होंने अपनी ऐसी तस्वीर पोस्ट की थी।Image result for रेहाना फातिमा

प्रोफेसर ने अपने बयान में कहा था, ‘आजकल लड़कियां ऐसे कपड़े पहनती हैं, जिनसे सीना दिखता है। यह उनके शरीर का वह भाग है जो पुरुषों को आकर्षित करता है। इस्लाम में इसे ढंककर रखने की बात कही जाती है।’ उन्होंने जैसे ही अपनी ये तस्वीर अपलोड की तो उन्हें ट्रोल किया जाने लगा और उन्हें लोगों की धमकियों का भी सामना करना पड़ा। जिसके बाद फेसबुक को ही उनकी तस्वीर हटानी पड़ी।

फिल्म अभिनेत्री भी हैं फातिमा

सरकारी नौकरी करने के अलावा फातिमा मॉडल और अभिनेत्री भी हैं। उन्होंने एका नाम की एक फिल्म में काम किया है। जिसे उनके पार्टनर मनोज के. श्रीधर ने ही प्रड्यूस किया है। यह फिल्म इंटरसेक्सुअलिटी की थीम पर बनी थी। जिसमें फातिमा ने कई न्यूड और बोल्ड सीन दिए हैं।Image result for रेहाना फातिमा

किस ऑफ लव कैंपेन में हिस्सा

रेहाना फातिमा

रेहाना फातिमा

फातिमा ने साल 2014 में कोच्चि में आयोजित ‘किस ऑफ लव’ कैंपेन में भी हिस्सा लिया था। ये कैंपेन मॉरल पोलिसिंग के खिलाफ हुआ था। फातिमा के पार्टनर मनोज ने किस की वीडियो क्लिप फेसबुक पर पोस्ट कर दी थी। जिसके बाद वह विवादों में आ गईं।

इसलिए करती हैं शरीर का इस्तेमालImage result for रेहाना फातिमा

फातिमा अक्सर अपनी तस्वीरों को लेकर विवादों में आती हैं। उनका कहना है कि वह अपने शरीर का इस्तेमाल उन लोगों के विरोध में करती हैं जो महिलाओं के शरीर को लेकर परंपरावादी सोच रखते हैं। वह कहती हैं कि वह जो भी राय देती हैं, वो किसी भी मुद्दे पर समाज के रवैये को लेकर होती हैं।फातिमा का कहना है कि बेशक उन्हें सबरीमाला मंदिर में दर्शन न करने दिया गया हो लेकिन वह इस बात से बेहद खुश हैं कि वह मंदिर के इतना करीब तक गईं। वो भी भारी विरोध होने के बावजूद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *