सरकार के फैसले से टूटा शेयर बाजार! सेंसेक्स 560 लुढ़का,  डूबे 2 लाख करोड़ 

कारोबार के अंत में सेंसेक्स 560.45 अंक टूटकर 38,337 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 117.65 अंकों की गिरावट के साथ 11,419.25 के स्तर पर क्लोज हुआ.
बाजार में चौतरफा बिकवाली की वजह से शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ बंद हुआ. विदेशी निवेशकों द्वारा बाजार में बिकवाली से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 560.45 अंक टूटकर 38,337 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 117.65 अंकों की गिरावट के साथ 11,419.25 के स्तर पर बंद हुआ. बाजार का यह स्तर दो महीने का निचला स्तर है. सेंसेक्स 30 के 26 शेयरों में कमजोरी रही है. निफ्टी 50 के 43 शेयर लाल निशान में रहे.एक्सपर्ट्स की मानें तो एफपीआई पर सरचार्ज को लेकर भी निराशा हाथ लगी है, जब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कहा था कि विदेशी निवेशक टैक्स पर बढ़े हुए सरचार्ज से छूट चाहते हैं तो कंपनी के तौर पर रजिस्ट्रेशन कर निवेश कर सकते हैं. एक्सपर्ट के मुताबिक इस वजह से भी बाजार के सेंटीमेंट बिगड़े हैं. वहीं कंपनियों के तिमाही नतीजे अनुमान से बेहद कमजोर आ रहे है. इसीलिए विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में तेज बिकवाली की है.

अब क्या करें निवेशक- एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल ने न्यूज18 हिंदी को बताया है कि इस फैसले से शेयर बाजार के सेंटीमेंट पर निगेटिव असर होगा. ऐसे में शेयर बाजार में गिरावट बढ़ने की आशंका है. वहीं, म्यूचुअल फंड में निवेश करने वालों पर भी इसका असर होगा.

आसिफ बताते हैं कि मौजूदा समय में अच्छी बात म्यूचुअल फंड की ओर से शेयर बाजार में निवेश बढ़ना है. निवेशकों को फिलहाल शेयर बाजार में अच्छी फंडामेंटल और गुड गवर्नेंस वाली कंपनियों के शेयर में पैसा लगाना चाहिए. वहीं, म्यूचुअल फंड में एसआईपी के जरिये निवेश को फिलहाल रोकना नहीं चाहिए. लेकिन पोर्टफोलियो में सरकारी बॉन्ड्स वाली स्कीमों को शामिल कर सकते हैं.

निवेशकों के डूबे 2 लाख करोड़-बाजार में बड़ी गिरावट से निवेशकों को बड़ा झटका लगा है. एक दिन में निवेशकों के 2.08 लाख करोड़ रुपये डूब गए. गुरुवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,47,46,534.89 करोड़ रुपये था. वहीं आज यह 2,08,149.77 करोड़ रुपये घटकर 1,45,38,385.12 करोड़ रुपये हो गया.

विदेशी निवेशकों ने अब तक 7000 करोड़ बाजार से निकाले-पिछले 5 महीने से घरेलू शेयर बाजार में लगातार खरीदारी कर रहे विदेशी निवेशक जुलाई महीने में बिकवाली कर रहे हैं. विदेशी निवेशकों ने जुलाई महीने में अब तक बाजार से करीब 7000 हजार करोड़ रुपये की निकासी की है.

सबसे ज्यादा गिरने वाले शेयर-बाजार में गिरावट की वजह से एमएंडएम में 4.39%, बजाज फाइनेंस 4.20%, बजाज फिनसर्व 3.87%, आयशर मोटर्स 3.84% और इंडसइंड बैंक 3.56% तकर लुढ़के. वहीं बाजार में कमजोरी के बीच एनटीपीसी में 2.20%, टाइटम में 1.01%, कोल इंडिया में 0.82%, टीसीएस में 0.68% और पावरग्रिड में 0.51% फीसदी की तेजी दर्ज की गई.

>> बीएसई का मिडकैप इंडेक्स आज करीब 2 फीसदी और स्मॉलकैप 1.8 फीसदी टूटकर बंद हुआ है. तेल गैस शेयरों से भी बाजार को सहारा नहीं मिला है. बीएसई का ऑयल एंड गैस इंडेक्स 0.58 फीसदी कमजोरी के साथ बंद हुआ है.

>> बैंक निफ्टी 600 प्वाइंट फिसल गया. छोटे और मझोले शेयरों में भी जोरदार बिकवाली देखने को मिली. पावर छोड़ सभी सेक्टर में बिकवाली रही. ऑटो शेयरों में आज सबसे ज्यादा बिकवाली देखने को मिली निफ्टी ऑटो आज सवा तीन साल के निचले स्तर पर चला गया.

>> बैंक शेयरों पर भी भारी दबाव देखने को मिला जिसके चलते बैंक निफ्टी 2.17 फीसदी टूटकर 29,770.35 के स्तर पर बंद हुआ है. निफ्टी का पीएसयू बैंक इंडेक्स 1.90 फीसदी और प्राइवेट बैंक इंडेक्स 2.45 फीसदी टूटकर बंद हुए हैं. निफ्टी का ऑटो इंडेक्स 3.3 फीसदी, एफएमसीजी इंडेक्स 1.78 फीसदी, आईटी इंडेक्स 0.74 फीसदी, मेटल इंडेक्स 1.3 फीसदी, फार्मा इंडेक्स 2.23 फीसदी और रियल्टी इंडेक्स 1.5 फीसदी टूटकर बंद हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *