जम्मू ।अभी भी घाटी के पूरे इलाके में धारा 144 लागू है, कई जगह बाजार बंद हैं. ग्रुप में लोगों का सड़कों पर निकलना मना है. फिर भी श्रीनगर में अब हालात सामान्य होने लगे हैं, जिसका असर सड़कों पर दिख रहा है. शुक्रवार को श्रीनगर के अलावा घाटी के अन्य शहरों में भी नमाज़ के लिए लोग मस्जिदों में पहुंचे. दरअसल, इससे पहले कई बार शुक्रवार की नमाज़ के बाद मस्जिदों के बाहर हंगामा होता आया है. कई बार अलगाववादी नेताओं की अगुवाई में पत्थरबाजों ने जुमे की नमाज के बाद मस्जिदों के बाहर भारत विरोधी और आतंक समर्थक नारे लगाए हैं.

जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाने और धारा 370 को खत्म करने के बाद ये पहला शुक्रवार था, इसलिए किसी तरह का हंगामा ना हो इसके लिए चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबलों को तैनात किया गया था. एक तरफ श्रीनगर से मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने की तस्वीरें सामने आई तो दूसरी ओर जम्मू क्षेत्र में फिर स्कूल खोल दिए गए हैं.

शुक्रवार को धारा 370 हटने के बाद पहली बार जम्मू में स्कूल खुले, बच्चे एक बार फिर बस्ता लेकर स्कूल पहुंचे. जम्मू में कर्फ्यू में कुछ छूट भी दी गई, बाजारों को सुबह 11 से शाम 5 बजे तक खुला रखा गया है. जम्मू में भी लोग लगातार रोजमर्रा का सामान लेने के लिए बाजारों का रुख कर रहे हैं.

जिला प्रशासन द्वारा लगाई गई धारा 144 के बीच शुक्रवार को सामान्य दिनों की तरह दुकानें खुली रहीं। हालांकि, यात्री वाहनों को प्रशासन ने चलने की इजाजत नहीं दी, लेकिन दोपहर बाद कुछ रूट की मिनी बसें दौड़ती देखी गई। उधर, उधमपुर में आज फिर से स्कूल खुल गए। उधमपुर के पुलिस उपायुक्त पीयूष सिंगला ने बताया कि धारा 144 अभी भी लागू है, लेकिन कुछ क्षेत्रों में कुछ अपवादों के साथ। सुरक्षा योजना लागू है। विवादित क्षेत्रों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। बाजार भी सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक खुले रहेंगे।

जम्मू सिटी नॉर्थ (पुराने शहर) में पाबंदियों में राहत देते हुए जिला पुलिस ने शहर की सड़कों पर लगाए गए कंटीले तारों को हटा कर किनारे रख दिया। निजी वाहनों की आवाजाही पर किसी प्रकार की रोक टोक नहीं थी। बाजार खुलने के बीच सुरक्षाबलों की तैनाती पहले जैसी ही रही।

पुलिस के अलावा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान पिछले दिनों की तरह हीं तैनात रहे, ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना को रोका जा सके। पाबंदियां लागू होने के चलते शहर में जुलूस या रैली निकालने की इजाजत नहीं दी गई। वहीं, सिटी साउथ पुलिस डिवीजन के अंतर्गत आने वाले पुलिस थाना क्षेत्रों में पाबंदियों का असर बिल्कुल भी नहीं दिखा। वहां सामान्य दिनों की तरह ही यातायात चल रहा था। सभी दुकानें खुली थीं।

हालांकि, मिनी बसें सड़कों पर नहीं दौड़ीं, जबकि सवारी ऑटो पहले की तरह ही चले। गांधी नगर, बागे बाहु, छन्नी हिम्मत, सतवारी, गंग्याल और त्रिकुटा नगर पुलिस थानों के अधीन आने वाले क्षेत्रों से तारबंदी को हटा दिया गया। पुलिस कंट्रोल रूम की वैन लगातार सड़कों पर चक्कर लगा कर स्थिति पर नजर रखे हुए थी।श्रीनगर: धारा 144 के बीच जुमे की नमाज के लिए इमेज परिणाम

उधर, शहर से लगते ग्रामीण क्षेत्रों में तैनात पुलिसकर्मी नदारद दिखे। सुबह से ही दूध, फल और सब्जियों से भरे वाहन सब्जी मंडी में बेरोकटोक पहुंचे। इससे पूर्व सोमवार और मंगलवार को मंडियां बंद रहने से किसानों को खासी परेशानी हुई थी। दोमाना, कानाचक्क, खौड़, अखनूर, नगरोटा, झज्जरकोटली थाना क्षेत्रों में पूर्ण रूप से शांति रही। वहां भी धारा 144 का असर देखा गया। बाजारों में अन्य दिनों से कम रौनक देखी गई।

यात्रियों के लिए लगाया लंगर

कश्मीर घाटी छोड़ कर जम्मू पहुंचे प्रवासी श्रमिकों के लिए प्रशासन के अलावा कई सामाजिक संगठनों ने जम्मू रेलवे स्टेशन के भीतर व बाहर लंगर की व्यवस्था की। अखिल भारतीय धर्म प्रचार सेवा समिति के सदस्यों ने लंगर लगा कर लोगों को भोजन परोसा। रेडक्रॉस की ओर से भी रेलवे स्टेशन में लंगर लगाया गया।

सरकारी कार्यालयों में सामान्य दिनों की तरह कामकाज

बुधवार को कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या काफी कम थी। इसके विपरीत वीरवार व शुक्रवार को सभी सरकारी कार्यालयों में सामान्य दिनों की तरह कामकाज हुआ। कार्यालयों में लोग अपने लंबित पड़े काम करवाने के लिए पहुंचे।

दिन भर चलते रहे सवारी ऑटो

प्रशासन के आदेश पर अधिकतर यात्री वाहन सड़कों पर नहीं उतरे। हालांकि, सवारी ऑटो तीन दिन के बाद सामान्य तौर पर स्टॉप पर मौजूद रहे, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली। हालांकि, लोगों ने ऑटो चालकों पर उनसे मनमाना किराया वसूलने का आरोप लगाया।

सांबा, कठुआ, ऊधमपुर में खुले स्कूल, अन्य जिलों में आज बंद रहेंगे

हालात की समीक्षा के बाद प्रशासन ने जम्मू संभाग के तीन जिलों सांबा, कठुआ और ऊधमपुर में शुक्रवार से स्कूल खोलने का फैसला किया है, जबकि एहतियात के तौर पर जम्मू संभाग के जम्मू समेत अन्य सात जिलों व कश्मीर संभाग में शुक्रवार को पांचवें दिन भी स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे।

मोबाइल इंटरनेट पर प्रतिबंध जारी :

रविवार देर रात से जम्मू-कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट पर लगा प्रतिबंध अभी जारी रहेगा। प्रशासन ने अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवा को बंद किया है। यह सेवा शुरू करने का फैसला राज्य के हालात की समीक्षा के बाद किया जाएगा।

डेबिट, क्रेडिट कार्ड से नहीं हो पा रहा भुगतान :

मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद होने से लोगों को परेशानी भी हो रही है। लोगों के डेबिट, क्रेडिट कार्ड से भुगतान नहीं हो रहा है। ऐसे में सारा भुगतान नकद करना पड़ रहा है, जिस कारण शहर के कई एटीएम भी खाली हो गए हैं।

आज 11 बजे से शाम 5 बजे तक खुले रहेंगी दुकानें :

जम्मू में हालात की समीक्षा के बाद प्रशासन ने शुक्रवार को बाजार भी सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक दुकानें खोलने की छूट दी है। वीरवार सुबह भी जम्मू में प्रशासन ने कुछ छूट दी थी। इस दौरान पूरी तरह शांति बनी रही और दुकानें भी खुलीं।