बरेली, । भारतीय जनता पार्टी के बिथरी चैनपुर के विधायक राजेश मिश्रा इन दिनों सुर्खियों में हैं। इनकी पुत्री साक्षी ने दलित अजितेश के साथ प्रयागराज के एक मंदिर में विवाह किया है। साक्षी का आरोप है कि पिता इस शादी से खफा हैं और वह हम दोनों की हत्या करा देना चाहते हैं।

विधायक राजेश मिश्रा ने इन सभी आरोप का खंडन किया है। साक्षी के आरोप कि अजितेश अनुसूचित जाति के हैं, इसलिए पिता शादी का विरोध कर रहे। जान से मारने की धमकी दी जा रही। बिथरी विधायक राजेश मिश्र उर्फ पप्पू भरतौल ने ऐसे हर सवाल का जवाब दिया। उन्होंने अलग-अलग टीवी चैनलों से हुई बातचीत में जाति के अंतर वाली बात को सिरे से नकारा। उन्होंने कहा कि अजितेश तो उनके घर खाना तक खाता था।

उन्होंने कहा कि मेरी साक्षी से कोई नाराजगी नहीं है वो जहां रहे खुश रहे।  विधायक पप्पू ने कहा कि उन्हें अजितेश की उम्र पर एतराज है। वह इस बात का विरोध नहीं कर रहे कि साक्षी ने अनुसूचित जाति के युवक से शादी की है। एतराज इस बात पर है कि अजितेश उनकी बेटी से नौ साल बड़ा है। बतौर पिता मुझे भी बेटी के भविष्य की फिक्र है। बेटी बालिग है उसे अपनी मर्जी से फैसले लेने का अधिकार है। जहां तक राजीव राणा की बात है तो उसकी कॉल डिटेल निकलवा ली जाए। स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। बेटी को बराबर का दर्जा देने के सवाल पर पप्पू ने कहा कि बेटी मेरे लिए बेटे से बढ़कर है। वह किसी के सिखाए में आकर उनके ऊपर उल्टे सीधे आरोप न लगाए।

बेटी को आशीर्वाद देने के बाद विधायक ने फोन काटा
एक टीवी स्टूडियो में साक्षी व अजितेश के साथ अजितेश के पिता की मौजूदगी में विधायक राजेश मिश्रा के पास भी फोन लगाया गया। पहले तो उन्होंने थोड़ी देर बात करके और बेटी को खुश रहने का आशीर्वाद देकर फोन काट दिया। इसके बाद जब उनसे दोबारा संपर्क किया गया तो उन्होंने बेटी साक्षी से थोड़ी बात की। उन्होंने अपनी बेटी को शुभकामनाएं दी। साक्षी के पिता विधायक राजेश मिश्रा ने उसको शुभकामनाएं देकर फिर से फोन काट दिया। इसके बाद जब उनसे दोबार संपर्क किया गया तो बेटी साक्षी ने पिता से बात की और उनसे सवाल भी पूछे। जब विधायक से पूछा गया कि उन्होंने बेटी के मन की बात क्यों नहीं सुनी तो उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से उसे कोई खतरा नहीं होगा।

दहेज में पांच लाख मांगने पर टूटा था अजितेश का रिश्ता
विधायक के समर्थकों का कहना है कि अजितेश की 2016 में सगाई हुई थी। पांच लाख का दहेज मांगने पर लड़की पक्ष ने रिश्ता तोड़ दिया था।

साक्षी का मां पर गंभीर आरोप
साक्षी ने बताया कि जयपुर में पढ़ाई के दौरान जब मम्मी मेरे पास रहने गई तो वह मुझे बहुत डराती थीं। अखबार में निगेटिव खबरें दिखाती थीं कि कैसे किसी बागी लड़की को घर वाले मार देते हैं। वो मुझे हॉरर किलिंग का डर दिखाती थी। इसके बाद ऐसी बातों से मेरी हिम्मत बढ़ गई। इसके बाद तो मैं वही करने लगी जिसका डर ये लोग दिखाते थे। साक्षी ने यह भी आरोप लगाया कि जिस प्रकार मेरे भाई को सारी छूट दी जाती थी वो मुझे कभी नहीं दी गई।

बेटी ने भी बताई आपबीती
वहीं साक्षी ने रो-रो कर अपनी आपबीती बताई कि कैसे उसे पिता ने कभी घर से बाहर नहीं जाने दिया। उसने कहा कि मुझे कभी पढ़ाई नहीं करने दी। अगर वो मुझे पढऩे देते तो मैं शादी नहीं करती। उन्होंने कहा कि मुझे घर से निकलने नहीं देते थे। साक्षी ने कहा मैं उनसे कहना चाहती हूं कि आप अपनी सोच बदलो और जितना महत्व बेटे को देते हो उतना ही मुझे और मेरी बहन को भी दो। साक्षी ने अपने पिता से फिर कहा कि जो लोग मेरे बारे में गलत-गलत बातें कर रहे हैं उन्हें आप क्यों नहीं रोकते। मेरे बारे में आपके लोग सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक बातें लिख रहे हैं उन्हें आप क्यों नहीं रोकते। साक्षी ने अपने पिता से कहा कि आपके आदमी हमें ढूंढ रहे हैं और हम पर इल्जाम लगा रहे हैं, आप उन्हें क्यों नहीं रोक रहे हैं। बार-बार यह कहा जा रहा है कि मेरी जैसी बेटी ना पैदा हो, तो मैं कह रही हूं, हां सच में, मेरी जैसी बेटी किसी घर में पैदा नहीं होनी चाहिए. क्योंकि जितना दुख और दबाव मैंने झेला है वो किसी और को ना झेलना पड़े।

खत्म करें मामला, हम तो उन्हें तलाशने तक नहीं गए

विधायक राजेश मिश्र ने कहा कि मामला खत्म करिए, हम अपना पक्ष रख चुके हैं। साक्षी बालिग है, अपने निर्णय ले सकती है। उन्होंने दोहराया कि धमकी तो दूर, हमने तो उन्हें तलाशने का प्रयास तक नहीं किया। साक्षी ने टीवी चैनल पर कहा कि जयपुर में रहने के दौरान पहरेदारी कराई गई। इस पर पहले तो बिथरी विधायक ने इस पर चुप्पी साधी। फिर बोले, परीक्षा के समय बच्चों पर काफी दबाव होता है, इसलिए मदद के लिए मां को साथ भेजा। ताकि उसे समय से खाना आदि मिल सके। पहले वायरल वीडियो में साक्षी ने राजीव राणा का भी नाम लिया है। बिथरी विधायक ने पुत्री के इस आरोप को नकार दिया।

अजितेश के पिता ने कहा था- विश्वासघात ठीक नहीं

टीवी चैनल में कार्यक्रम में अजितेश के पिता हरीश कुमार भी थे। बोले कि दो जुलाई को अजितेश का जन्मदिन था। तीन जुलाई को अजितेश ने उनसे कहा था कि वह साक्षी से शादी करना चाहता है और साथ जा रहा है। यह सुनकर वह हैरान रह गया।

अजितेश को समझाया था कि विधायक के घर उनका 20 साल से आना-जाना है। उनके  के साथ विश्वासघात सही नहीं है। लेकिन बच्चों के सामने क्या मजबूरी होगी, इसका उन्हें पता नहीं। हमें पहले बताते तो शायद हम विधायकजी से बात करते। फिलहाल, अब बच्चों की सुरक्षा की बात है इसलिए उनके साथ हूं।

घर से निकलकर यहां गए दोनों

साक्षी व अजितेश ने पूरा घटनाक्रम बताया। उन्होंने कहा कि घर से निकलकर वे सीधे इलाहाबाद पहुंचे। वहां चार जुलाई को मंदिर में शादी करने के बाद बांदा होकर मध्य प्रदेश के लिए निकल गए। इंदौर में रहे। वहां से वापस उत्तर प्रदेश लौट आए।

भाई के साथ शोरूम पर बैठते हैं अजितेश

अजितेश के पिता हरीश नायक बैंक में मैनेजर हैं। बड़े भाई अभिषेक का पीलीभीत बाईपास पर टाइल्स का शोरूम है। अजितेश ने ग्रेजुएशन किया है और भाई के साथ शोरूम पर ही बैठते हैं।

राजेश मिश्रा का आरोप-दो साथी विधायकों की साजिश

बिथरी चैनपुर के विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्र के प्रेमविवाह कर लेने के मामले ने अब तो राजनीतिक रूप ले लिया है। विधायक ने अपने दो साथी विधायकों पर साजिश रचने का आरोप लगाया है, जिससे भाजपा में खलबली मच गई है। जिलाध्यक्ष रङ्क्षवद्र सिंह राठौर ने कहा है कि अगर यह मामला मीडिया से इतर पार्टी फोरम पर आता है तो एक्शन होगा।

भाजपा विधायक पप्पू भरतौल ने साजिश रचने वाले दोनों विधायकों के नाम नहीं खोले हैं। उनके आरोप से पार्टी में उथल-पुथल मच गई है। अंदरखाने खूब चर्चा हो रही है लेकिन बाहर कोई खुलकर बोलने को तैयार नहीं है। साजिश रचने वाले दो विधायक कौन हैं, राजनीतिक गलियारों में चर्चा के दौरान उनके नाम भी लिए जा रहे हैं। एक विधायक तो पूर्व में पप्पू भरतौल के खास भी रह चुके हैं। दोनों राजनीतिक महफिल में अकसर साथ देखे जाते थे। एक अन्य विधायक से पप्पू भरतौल का गांव में विकास कार्यो को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। बहरहाल इंतजार पप्पू भरतौल के नाम लेने का है। वह विधायकों के नाम लेंगे, तभी पार्टी कुछ फैसला लेगी।

बेटी ने सिर्फ सहानुभूति बटोरने की खातिर लगाए आरोप : राजेश मिश्रा

बेटी साक्षी के आरोपों पर बिथरी चैनपुर के विधायक राजेश मिश्र ने अपनी सफाई दी। उन्होंने कहा कि बेटी सिर्फ सहानुभूति बटोरने के लिए मेरे , परिवार तथा मेरे समर्थकों पर आरोप लगा रही है।

अजितेश के अनुसूचित जाति का होने पर शादी का विरोध करने के आरोप पर विधायक ने कहा कि अजितेश तो उनके घर पर कई बार खाना तक खाता था। महज सहानुभूति बटोरने के लिए आरोप लगाए जा रहे। अगर उनकी बेटी किसी के इशारे पर ऐसा कर रही है तो उन्हें कुछ नहीं कहना।

राजीव राणा पर राजेश मिश्रा ने कहा कि राजीव राणा की काल डिटेल निकलवा ली जाए। जिस दिन बेटी को धमकी देने का आरोप लग रहे हैं, उस दिन वह ऑफिस में थे। सीसीटीवी फुटेज में भी राजीव राणा नजर आ रहे।

साक्षी ने क्या-क्या बोला

साक्षी मिश्रा ने कहा कि उन्हें व पति को अपने पिता पप्पू भरतौल व भाई विक्की से खतरा है। वीडियो वायरल इसलिए किए ताकि उनसे अपने जान बचा सकें। हाईकोर्ट में 15 तारीख को पेश होना है। वहां जाने और सुनवाई के बाद सही जगह तक पहुंचने के लिए सुरक्षा मिलनी चाहिए। घर से जाने के बाद मैंने बरेली के एसएसपी को भी फोन किया मगर उन्होंने ठीक रेस्पांस नहीं दिया।

सोशल मीडिया पर : साक्षी ने कहा कि सोशल मीडिया पर उनके व अजितेश को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की जा रहीं कि उसकी जैसी बेटी पैदा ही न हो।

परिवार के माहौल पर : साक्षी का आरोप है कि घर में उनके भाई विक्की को छूट दी गई और उन्हें दबाया गया। मां ने पापा को उनके बारे में गलत बातें बताईं। इसके बाद ऐसी बातों से उसकी हिम्मत बढ़ गई और वह वहीं करने लगी, जिसका डर वे उसको दिखाते थे। मां जब जयपुर पहुंची तो डराती थीं।

तीन जुलाई की शाम को अपने घर से गई थी साक्षी

तीन जुलाई को विधायक राजेश मिश्र शाम साढ़े छह बजे लखनऊ से वापस लौटे, तब पता चला कि शाम साढ़े चार बजे साक्षी घर से निकली थी। उनके घर से कुछ दूरी पर अजितेश की कार खड़ी थी, उसी में बैठकर वह चली गईं।

जयपुर के रास्ते में हुई बातचीत के बाद बढ़ी थी नजदीकियां

साक्षी अपने पति अजितेश को भाई के दोस्त के तौर पर जानती थी। जयपुर के एक कॉलेज से मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई कर रहीं साक्षी कुछ महीने पहले घर आई थीं। वापस कॉलेज छोडऩे के लिए भाई विक्की भरतौल जयपुर गए। साथ में विक्की ने अजितेश को भी ले लिया था। इस दौरान रास्ते में बातचीत के बाद दोनों एक दूसरे को फोन करने लगे।

अजितेश पर हो गया था शक

बताते है कि साक्षी व अजितेश के हाव-भाव से परिवार के लोगों का शक हो गया था। एक चैनल को दिए साक्षात्कार में भी साक्षी ने यह बात कही कि शक में पापा अक्सर मम्मी से कहते थे कि वह किसी के साथ चली जाएगी। यही वजह थी कि पेपर खत्म होने के बाद एक महीने पहले साक्षी घर आईं। अजितेश के वहां आने पर एतराज जताया जाने लगा। तीन जुलाई को अजितेश की कार में बैठकर चली गईं और वापस नहीं आईं तो परिवार वालों को शक हुआ।

 विधायक की बेटी की शादी में नया मोड़, पति अजितेश की पहले हो चुकी है सगाई

बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा की शादी में नया मोड़ आ गया है। एक परिवार ने दावा किया है कि साक्षी के पति अजितेश ने उनकी बेटी से सगाई की थी।

Sakshi Mishra, Ajitesh Kumarसाक्षी और अजितेश

मुख्य बातें

  • बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी ने दलित अजितेश से की शादी
  • शादी के बाद साक्षी ने अपनी जान को खतरे में बताया
  • विधायक ने एक टीवी चैनल पर कहा- परेशान किया तो आत्महत्या कर लूंगा

विधायक ने दी सुसाइड की धमकी अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है। दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भोपाल के एक परिवार ने अब दावा किया है कि उनकी बेटी की सगाई साक्षी मिश्रा के पति अजितेश से हुई थी। परिजनों के मुताबिक, कुछ महीने पहले अजितेश ने उनकी बेटी से सगाई की थी, लेकिन लड़के के पक्ष वालों की तरफ से अत्यधिक दहेज की मांग के बाद सगाई तोड़ दी गई थी। परिवार ने अपने दावे को पुष्ट करने के लिए सगाई समारोह की तस्वीरें भी जारी की हैं। 

इस बीच भाजपा विधायक ने मीडिया और लोगों से कहा है कि वे उन्हें या उनकी पत्नी को इस मामले में ज्यादा शामिल न करें अन्यथा वो परेशान होकर आत्महत्या कर लेंगे। एक टेलीविजन चैनल पर मिश्रा ने कहा, ‘मेरी पत्नी टेलीविजन और समाचार पत्रों में चल रही खबरों से परेशान है, वह बीमार हो गई है और दवा नहीं ले रही है।’ विधायक ने कहा कि वह जानता है कि अजितेश की पहले ही किसी से सगाई हुई थी।

वीडियो में किया शादी का खुलासा

दूसरी ओर साक्षी ने दावा किया है कि वह बहुत सारे प्रतिबंधों में रह रही थी और उसे अपने घर से बाहर जाने की अनुमति नहीं थी। साक्षी ने यह भी आरोप लगाया कि उसे अपनी पढ़ाई करने की अनुमति नहीं थी। बुधवार को शेयर किए गए वीडियो में साक्षी (23) ने दलित युवक अजितेश कुमार (29) से अपनी शादी का ऐलान किया था।

वीडियो में साक्षी ने अपने विधायक पिता, भाई और एक अन्‍य से जान का खतरा बताया। उसने कहा है कि वे अजितेश और उनके परिवार से दूर रहें, वरना उन्‍हें इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। साथ ही उसने बरेली के सांसद व प्रशासन से भी मदद मांगी है और कहा कि वे उसके पिता की मदद न करें।

इसके अलावा दिलचस्प बात यह है कि साक्षी और अजितेश के विवाह प्रमाण पत्र में वर्णित मंदिर के पुजारी ने इस तरह के किसी भी दस्तावेज को जारी करने से इनकार करते हुए दावा किया कि यह प्रामाणिक नहीं है। पुजारी ने यह भी कहा कि वह इस संबंध में एक औपचारिक शिकायत दर्ज कराएंगे।बेटी का वीडियो वायरल होने के बाद मिश्रा ने कहा था कि उनकी बेटी वयस्क है और अपनी पसंद के व्यक्ति से शादी करने के लिए स्वतंत्र है। उन्होंने कहा कि मैंने कोई धमकी नहीं दी है और उनकी बेटी फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है।

विधायक ने अजितेश के बारे में कहा कि उसकी भोपाल में एक लड़की से सगाई हो चुकी है। लड़की वालों ने अजितेश के पिता को सात लाख रुपए दिए थे। हालांकि बाद में शादी टूट गई। इस पर अजितेश ने भी एक चैनल पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में सगाई हुई थी। उसके कुछ दिन बाद ही ऐसी परिवारिक स्थिति बनी कि शादी टूट गई।

साक्षी मांग करें तो सुरक्षा जरूर देंगे

साक्षी ने वीडियो वायरल कर जान को खतरा बताया, जिसके बाद स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने भी मामला संज्ञान लिया। एसएसपी ने मुनिराज. जी कहा कि यदि मांग हुई तो दोनों को सुरक्षा दी जाएगी। लेकिन अभी तक ऐसी कोई मांग नहीं की गई है। फिर भी अजितेश के घर पुलिस तैनात कर दी गई है। इंस्पेक्टर केके वर्मा का कहना है कि अजितेश के घर पुलिस तैनात है। उनके परिवार वालों से संपर्क नहीं हो पा रहा।

कमिश्नर रणवीर प्रसाद ने कहा कि अगर वह लोग सुरक्षा की मांग करते हैं तो उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। हालांकि अभी तक उनकी लोकेशन नहीं पता है लेकिन कोर्ट का आदेश होगा या उनके द्वारा सुरक्षा की मांग की जाएगी तो पूरी सुरक्षा दी जाएगी। डीएम वीरेंद्र कुमार ने कहा कि इस मामले में अभी तक किसी ने संपर्क नहीं किया है। अगर उनकी तरफ से लिखित में सुरक्षा मांगी जाती है तो सुरक्षा का इंतजाम किया जाएगा। इस मामले को एसएसपी देख रहे हैं।

एडीजी अविनाश चंद्रा ने कहा कि अभी तक साक्षी ने हमने कोई बात नहीं की। न ही कोई हमसे शिकायत करने आया है। एसएसपी इस बारे में उचित कार्रवाई करेंगे। भाजपा जिलाध्यक्ष रविंद्र सिंह राठौर ने कहा कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया। अभी पार्टी के एक कार्यक्रम में मथुरा में हूं। अगर बिथरी चैनपुर विधायक पार्टी फोरम पर आकर कोई बात कहते हैं तो फिर इसे लेकर निर्णय होगा।

घटनाक्रम इस प्रकार

3 जुलाई : दोनों घर से गए।

4 जुलाई : प्रयागराज में शादी की।

9 जुलाई : पहला वीडियो वायरल हुआ।

10 जुलाई : दूसरा वीडियो वायरल हुआ।

11 जुलाई : अजितेश के घर पुलिस तैनात।