भारतीय सशस्‍त्र सेना झंडा दिवस है आज

7 दिसंबर का इतिहास

इतिहास में आज ही के दिन यानि 7 दिसंबर को कई महत्वपूर्ण घटनाएँ देश – विदेश के इतिहास में घटी आईये आज फिर से उन पर एक नजर डालते हैं।

7 December History

 भाप से चलने वाला पहला जहाज ‘इंटरप्राइज’ 1825 में कोलकाता पहुंचा।
  • देश में 1856 में पहली बार आधिकारिक रूप से ‘हिंदू विधवा’ का विवाह कराया गया।
  • विश्व में 1889 में वर्तमान रुप की पहली गाड़ी बनाई गयी।
  • अमेरिका 1917 में प्रथम विश्व युद्ध का हिस्सा बना और उसने ऑस्ट्रिया-हंगरी पर हमला किया।
  • ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर जैक फ्लिंगटन 1936 में लगातार चार टेस्ट पारियों में शतक लगाने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बने. इनमें से 3 शतक दक्षिण अफ्रीका और 1 इंग्लैंड के खिलाफ आया।1941: दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान जापानी वायुसेना ने हवाई के पर्ल हार्बर स्थित अमरीकी नौसैनिक अड्डे पर अचानक हमला कर दिया और ब्रिटेन और अमरीका के ख़िलाफ़ युद्ध की घोषणा कर दी. जापानी बमवर्षक विमानों ने अमरीकी जंगी जहाज़ों, विमानों और सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया था.World War II: Attack on Pearl Harbor

    इस आक्रमण के परिणामस्वरूप यूएसए भी द्वितीय विश्वयुद्ध में कूद पड़ा। जापान से इसी के साथ यूएस के अधिकृत फिलीपींस, ब्रिटेन के अधिकार किए गये मलायासिंगापुर तथा हांग कांग पर भी आक्रमण किया।वास्तव में यह आक्रमण एक सुरक्षात्मक कार्य था ताकि अमेरिकी प्रशान्त टुकड़ी जापान के भावी योजनाओं में दखल न दे पाए। जापान दक्षिण पूर्वी एशिया में यूके, नीदरलैण्ड्स तथा यूएस के अधिकृत क्षेत्रों पर सैनिक कार्यवाही करने की योजना बना रहा था।

    पर्ल हार्बर या ‘पर्ल बंदरगाह’ हवाई द्वीप में हॉनलूलू से 10 किमी उत्तर-पश्चिम, संयुक्त राज्य, अमरीका का प्रसिद्ध बंदरगाह एवं नौसैनिक अड्डा है। इस बंदरगाह के २० वर्ग किलोमीटर के नाव्य जल में सैकड़ों जहाजों के रुकने का स्थान है। हवाई द्वीप के शासकों ने यहाँ १८८७ ई. में संयुक्त राज्य, अमरीका को कोयला एवं जहाज मरम्मत केंद्र स्थापित करने के लिए स्वीकृति दी  थी। १९०० ई. में यह नोसैनिक अड्डा बना। तब से बंदरगाह के जहाज मार्गों, लदान एवं मरम्मत के घाटों का सुधार एवं विस्तार होता गया है।

    इस बंदरगाह के मध्य फोर्ड द्वीप है, जहाँ नौसैनिक एवं वायुअड्डा है। पर्ल बंदरगाह संसार के सुंदरतम एवं विशालतम सुरक्षित नौसैनिक अड्डों में से एक है। नौसेना द्वारा संचालित यहाँ समीप में ही जहाज मरम्मत स्थान, अस्पताल एवं प्रशिक्षण विद्यालय हैं।

    ७ दिसम्बर १९४१ को, जब वाशिंगटन में जापानी प्रतिनिधि के साथ द्वितीय विश्वयुद्ध की समझौता वार्ता चल रही थी, उस समय जापानी युद्धक विमानों ने पर्ल बंदरगाह पर यकायक हमला किया।  हमले से संयुक्त राज्य अमरीका का संपूर्ण बेड़ा, फोर्ड द्वीप स्थित नौसैनिक वायुकेंद्र एवं बंदरगाह बुरी तरह नष्ट हो गया था तथा ढाई हजार सैनिक मारे गए थे। एक हजार से अधिक घायल हुए एवं लगभग एक हजार लापता हो गए। फिर भी एक साल के अंदर ही बहुत से भागों एवं जलपोतों का पुनर्निर्माण कर लिया गया और यह बंदरगाह संयुक्त राज्य अमरीका के प्रशांत महासगरीय बेड़े का प्रधान कार्यालय हो गया।

    1949: भारतीय सशस्‍त्र बल फ्लैग डे मनाया जाता है.

    क्यों मनाया जाता है सशस्त्र सेना झंडा दिवस

    आज सेनाओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने का है दिन

    प्रतीकात्मक फोटोप्रतीकात्मक फोटो
    आज सशस्त्र सेना झंडा दिवस है. हर ये दिन 7 दिसंबर को मनाया जाता है. ‘सशस्त्र सेना झंडा दिवस’ देश की सेना के प्रति सम्मान प्रकट करने के दिन के रूप में मनाया जाता है.  ये उन जांबाज सैनिकों के प्रति एकजुटता दिखाने का दिन है जो देश की तरफ आंख उठाकर देखने वालों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए. सशस्त्र सेना झंडा दिवस 7 दिसंबर, 1949 से भारतीय सेना द्वारा हर साल मनाया जाता है.inner-flag-day
  • क्यों मनाया जाता है ये दिन

    सशस्त्र झंडा दिवस देश की सुरक्षा में शहीद हुए सैनिकों के परिवार के लोगों के कल्याण के लिए मनाया जाता है. इस दिन झंडे की खरीद से इकठ्ठा हुए धन को शहीद सैनिकों के आश्रितों के कल्याण में खर्च किया जाता है.

    ऐसे मिला ‘सशस्त्र’ नाम

    आजादी के बाद सरकार को लगा कि सैनिकों के परिवार वालों की जरूरतों का ख्याल रखने की आवश्यकता है, इसलिए 7 दिसंबर, 1949 को झंडा दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया गया. शुरुआत में इस दिन को झंडा दिवस के रूप में मनाया गया, लेकिन साल 1993 में इस दिन को ‘सशस्त्र सेना झंडा दिवस’ का नाम दे दिया गया. इसके बाद से ये दिन सशस्त्र सेना द्वारा मनाया जाने लगा. सशस्त्र झंडा दिवस के द्वारा जमा हुई राशि युद्ध वीरांगनाओं, सैनिकों की विधवाओं, दिव्यांग सैनिगक और उनके परिवार वालों के कल्याण पर खर्च की जाती है.

    तीन प्रमुख भाग

    भारतीय शस्‍त्र सेना में तीन प्रमुख भाग है. जिसमें भारतीय थलसेना, भारतीय जलसेना और भारतीय वायुसेना हैं. भारत के राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर हैं. भारतीय सशस्त्र बल भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय (रक्षा मंत्रालय) के तहत आता है. आइए, विस्तार से इनके बारे में जानते हैं.

    भारतीय थलसेना (Indian army): भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है. भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार स्टार जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं.

    भारतीय नौसेना (Indian Navy): भारतीय नौसेना अपने गौरवशाली इतिहास के साथ भारतीय सभ्यता और संस्कृति की रक्षक है. 55,000 नौसेनिकों से लैस यह विश्व की पांचवी सबसे बड़ी नौसेना है. ये भारतीय सीमा की सुरक्षा को प्रमुखता से निभाते हुए विश्व के अन्य प्रमुख मित्र राष्ट्रों के साथ सैन्य अभ्यास (मिलिट्री प्रैक्टिस) में भी सम्मिलित होती है.

    भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) : भारतीय सशस्त्र सेना का ये अंग है वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, और वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है. इसकी स्थापना 8 अक्टूबर, 1932 को की गई थी. साल 1950 से पहले इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था.

    आर्म्ड फोर्सेस वीकः रक्षामंत्री ने की अपील, शहीदों के सम्मान में लगाएं झंडा

    जितनी भी रकम जमा होगी वह युद्ध में शहीदों की विधवाओं, दिव्यांग हुए सैनिक और उनके परिवार-बच्चों के कल्याण के लिए खर्च की जाती है.

    रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण

    1949 से शहीदों और देश के सम्मान की रक्षा के लिए हमारी सीमाओं पर लड़ने वाले सैनिकों के सम्मान में हर साल 7 दिसम्बर को ‘सशस्त्र सेना झंडा दिवस’ मनाया जाता है. वहीं इससे पहले रक्षा मंत्रालय 1 दिसंबर से 7 दिसंबर तक ‘आर्म्ड फोर्सेस वीक’ मना रहा है.

    inner-flag-dday-2इस मौके पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक वीडियो के जरिए देशवासियों से कहा है कि सभी पूर्व सैनिकों के सम्मान में  आर्म्ड फोर्सेस फ्लैग बैच पहने और वेलफेयर फंड में योगदान दें. उन्होंने कहा हम भारत के नागरिक हैं और गर्व के साथ सभी को फ्लैग पहनना चाहिए. साथ ही जितना हो सके फंड में योगदान दें.

    Embedded video

    Raksha Mantri
    @DefenceMinIndia

    Thank those who protect the honour of the nation this . Wear Armed Forces Flag with pride between 1-7 Dec. To contribute to the welfare of ex-servicemen & their families and get a printable version of the flag go to http://ksb.gov.in  Jai Hind! @nsitharaman

     बता दें ‘आर्म्ड फोर्सेस डे फंड’ से मिलने वाली रकम वेलफेयर फंड में जाती है. वहीं इस दौरान जितनी भी रकम जमा होगी वह युद्ध में शहीदों की विधवा, दिव्यांग हुए सैनिक और उनके परिवार-बच्चों के कल्याण के लिए खर्च की जाती है.

    रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने देशवासियों से सोशल मीडिया पर एक वीडियो के जरिए ‘आर्म्ड फोर्सेस वीक’ में बैच लगाने और वेलफेयर फंड में योगदान देने की अपील की है. सभी देशवासी 7 दिसंबर 2017 तक तीनों सेवाओं का प्रतिनिधित्व करने वाले झंडों को अपनी वेशभूषा पर धारण कर गर्व की भावना प्रदर्शित कर सकते हैं.

    2001: तालिबान शासन ने कंधार का अपना गढ़ छोड़ दिया और इस तरह अफ़ग़ानिस्तान में 61 दिन की लड़ाई के अंत की शुरुआत हुई. अफ़ग़ानिस्तान के नए अंतरिम प्रशासन के प्रमुख हामिद करज़ई और तालेबान शासन के बीच हुए समझौते के आधार पर ही कट्टरपंथी तालेबान अपने धार्मिक गढ़ कंधार को छोड़ने के लिए तैयार हुए थे.

    दूसरे विश्व युद्ध के दौरान 1941 में आज ही के दिन जापान ने अमेरिका के पर्ल हार्बर पर मशहूर हवाई हमला किया।

  • जनरल रादेस्कू ने 1944 में रोमानिया में सरकार का गठन किया।
  • सन 1949 से आज के दिन भारतीय सशस्‍त्र बल फ्लैग डे मनाया जाता है।
  • पश्चिम जर्मनी और पोलैंड के बीच 1970 में संबंध सामान्य हुए।
  • पाकिस्तान में 1971 में राष्ट्रपति याहया खान ने गठबंधन सरकार बनाने का ऐलान किया जिसमें नुरुल अमीन प्रधानमंत्री तो जुल्फीकार अली भुट्टो उप-प्रधानमंत्री बने।
  • अमेरिका ने 1972 में चंद्रमा के लिये अपने अभियान के तहत अपोलो 17 का प्रक्षेपण किया।
  • सन 1992 में आज ही के दिन दक्षिण अफ्रीकी धरती पर पहली बार कोई वनडे मैच खेला गया।
  • भारत ने 1995 में संचार उपग्रह इनसेट-2सी का प्रक्षेपण किया।
  • अमेरिकी अंतरिक्ष अनुसन्धान संस्था नासा का अंतरिक्ष यान गैलीलियो 1995 में बृहस्पति पहुँच गया।
  • अर्मेनिया में 1988 में आये 6.9 तीव्रता वाले भूकंप से 25 हजार लोगों की मौत, लाखों बेघर।
  • तालिबान ने कई दिनों तक चली लड़ाई के बाद 2001 में अफगानिस्तान के कांधार पर कब्जा छोड़ा।
  • विक्रमसिंघे 2001 में श्रीलंका के नये प्रधानमंत्री नियुक्त।
  • तुर्की की आजरा अनिन 2002 में मिस वर्ल्ड बनीं।
  • रमन सिंह 2003 में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद पर आसीन।
  • हामिद करजई ने 2004 में अफ़ग़ानिस्तान के पहले निर्वाचित राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण की।
  • हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने 2008 में चन्द्रमोहन को उपमुख्यमंत्री पद से बर्ख़ास्त किया।
  • भारतीय गोल्फर जीव मिल्खा सिंह ने 2008 में जापान टूर का ख़िताब जीता।
  • डेनमार्क के कोपेनहेगन में 2009 में जलवायु शिखर सम्मेलन शुरू।

7 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति

  • भारतीय क्रांतिकारी जतीन्द्रनाथ मुखर्जी का जन्म 1879 में हुआ।
  • आधुनिक भारतीय संस्कृति और समाजशास्त्र के विख्यात विद्वान राधाकमल मुखर्जी का जन्म 1889 में हुआ।
  • पुर्तग़ाल के पूर्व राष्ट्रपति मारियो सोरेस का जन्म 1924 में हुआ।
  • एक भारतीय राजनेता अर्जुन राम मेघवाल का जन्म 1954 में हुआ।

7 दिसंबर को हुए निधन

  • फ़्रांस के गणितज्ञ, लेखक और कैल्कयुलेटर मशीन के आविष्कारक ब्लेज़ पास्कल का निधन 1662 में हुआ।
  • 18वीं शताब्दी के मध्य एक वीर योद्धा हैदर अली का निधन 1782 में हुआ।
  • भारत के पाँचवे राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद की पत्नी बेगम आबिदा अहमद का निधन 2003 में हुआ।
  • भारतीय अभिनेता, हास्य कलाकार, राजनीतिक व्यंग्यकार, नाटककार, फ़िल्म निर्देशक और अधिवक्ता चो रामस्वामी का निधन 2016 में हुआ।

7 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

  • सशस्त्र सेना झंडा दिवस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *