नई दिल्ली. बरेली बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा और अजितेश कुमार की शादी को सुप्रीम कोर्ट वैध करार दे दिया है. इसी बीच मामले में फरीदपुर से दलित बीजेपी विधायक और अजितेश के मामा श्याम बिहारी की एंट्री हुई है, दरअसल विधायक जी की व्हाट्सएप चैट वायरल हो रही है. जिसमें वह किसी विवेक तिवारी नाम के युवक से चैटिंग कर रहे हैं. इस चैटिंग से साफ पता चलता है कि यह पूरा मामला विधायक श्याम बिहारी का रचा हुआ है, जो कि मीडिया रिपोर्टस के अनुसार अजितेश का मामा है.

हालांकि विधायक जी ने मीडिया के सामने आकर साफ कह दिया है कि वायरल हुई चैट फेक है, अजितेश मेरा दूर का रिश्तेदार है और में राजेश मिश्रा के साथ हुई इस घटना की निंदा करता हूं. हालांकि अब इस केस में जब विधायक श्याम बिहारी का नाम सामने आया तो लोग इसे राजनीतिक मोड़ दे रहे हैं. क्योंकि रिपोर्ट्स के अनुसार लोग कह रहे हैं कि दोनों विधायकों में कुछ बात को लेकर बवाल हो गया था और कुछ दिन पहले श्याम बिहारी को धमकियां भरे मैसेज भी आ रहे थे.

इसके साथ ही मंडल के चार और विधायकों को इस तरह के मैसेज मिले थे लेकिन राजेश मिश्रा को धमकियों को मैसेज नहीं मिले थे. इसके बाद से यह अंदाजा भी लगाया जा रहा है कि राजेश मिश्रा का भी इस केस में हाथ है. अब रिपोर्ट्स के अनुसार विधायक श्याम बिहारी पर आरोप लग रहा है कि उन्होंने ही बरेली के विधायक राजेश मिश्रा के खिलाफ साजिश रची है.

बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी ने अजितेश नाम के दलित युवक से प्रेम विवाह तो कर लिया लेकिन उसका परिवार उसके खिलाफ हो गया और बेटी के अनुसार विधायक राजेश मिश्रा ने उसे मारने के लिए गुंडे भी भेजे थे. इस बात को उसने एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर करके बताया था. कई चैनलों पर भी साक्षी ने अपने मां और भाई के लिए कहा था कि वह मुझे मारते थे. वहीं जिस सोसायटी में अजितेश रहता था वहां के लोगों का कहना है कि वह दलित नहीं था यहां तो वह ठाकुर बनकर रहता था हमें तो तब पता चला जब उसने साक्षी से शादी कर ली.

भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी के प्रेम विवाह का प्रकरण हर दिन या यूं कहें कि हर पहर एक नया मोड़ ले रहा है। प्रेम विवाह, फिर बेटी की सुरक्षा की गुहार, साजिश के साथ ही अब राजनीति ने भी कदम रख दिया।

रविवार को विधायक राजेश मिश्रा के कथित समर्थक ने सोशल मीडिया पर वाट्सअप चैट वायरल कर दी। इसमें जिले की ही फरीदपुर सीट से भाजपा विधायक श्यामबिहारी को सीधे तौर पर इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया। चैट का कथित रूप से फरीदपुर विधायक ने भी जवाब दिया। तीखी बहस वायरल हुई तो विधायक ने इस चैट को फर्जी करार दिया। देर शाम मामले में उनके प्रतिनिधि ने एसएसपी को तहरीर भी दी है।

चैट करने वाला शख्स विकास तिवारी सोशल मीडिया पर खुद को बिथरी विधायक का समर्थक बताता है। जो चैटिंग वायरल हो रही है उसमें विकास ने फरीदपुर विधायक पर अंगुली उठाई तो यह दिखाया गया कि पलटकर विधायक ने भी लिखा है कि आगे देखिए क्या होता है।

फोन ‘पहुंच से बाहर’, फेसबुक पर सफाई

इस संबंध में फरीदपुर विधायक से बात करने की कोशिश की गई लेकिन फोन ‘पहुंच से बाहर’ था। हालांकि उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट डालकर वायरल हुई चैटिंग को फर्जी बताया है। लिखा कि इस व्यक्ति को वह नहीं जानते, न उसका नंबर उनके पास है।

सात दिन में अजितेश ने बदले 10 मोबाइल

प्रेम विवाह के पीछे की कहानी की परतें भी धीरे-धीरे खुलने लगी हैं। आरोप है कि अजितेश ने 26 जून से तीन जुलाई के बीच एक दो नहीं 10 फोन बदले और सिमकार्ड भी।

मुख्यमंत्री के पास पहुंचा मामला !

बिथरी चैनपुर से भाजपा विधायक राजेश कुमार उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी के अजितेश से प्रेम विवाह करने का मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंच गया है। इसके बाद गहन जानकारी जुटाई जा रही है। मामला जब बरेली से निकलकर दिल्ली तक पहुंच गया, तब राजेश मिश्र ने अपनी ही पार्टी के दो विधायकों पर साजिश करने का आरोप लगाया था। हालांकि उन्होंने सीधे किसी का नाम नहीं लिया था। इससे पार्टी में खलबली मची हुई है।

एक पुराने मामले में शनिवार को पूर्व ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी गौरव अरमान की गिरफ्तारी के बाद बिथरी चैनपुर की राजनीति में हलचल मची हुई है। भाजपा के सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कई लोगों से इस बारे में जानकारी ली है। भाजपा विधायकों के साजिश में शामिल होने के आरोप पर भाजपा जिलाध्यक्ष रवींद्र सिंह राठौर पहले ही कह चुके हैं कि यदि पप्पू भरतौल इस मामले में पार्टी फोरम में रखेंगे तो इसकी जांच कराई जाएगी। हालांकि मुख्यमंत्री के मामले में विधायक कुछ भी बोलने से इन्कार कर रहे हैं। उनका कहना है कि मुझे इस मामले में कुछ भी नहीं कहना है। इन आरोप-प्रत्यारोप पर भाजपा कार्यकर्ताओं सहित अन्य पदाधिकारियो से भी संपर्क किया जा रहा है। हालांकि इस मामले को लेकर अधिकतर लोग चुप्पी ही साध रहे हैं। गौरव अरमान की गिरफ्तारी को भी मामले में साजिशकर्ताओं की मुख्य कड़ी के रूप में देखा जा रहा है। इस मामले में अभी जल्द ही कई और परतें खुलेंगी।

गौरव अरमान को भेजा जेल

बीते साल सावन में बिथरी में कांवड़ यात्र नहीं निकलने देने को लेकर काफी बवाल हुआ था। इसके बाद मोहर्रम के जुलूस को लेकर विवाद हुआ था। बिथरी और कैंट में कई मुकदमे लिखे गए थे। इसमें विधायक पप्पू भरतौल व उनके समर्थकों के खिलाफ भी मुकदमे लिखे गए थे। अब बिथरी से पूर्व ब्लाक प्रमुख प्रत्याशी गौरव अरमान को रविवार को जेल भेज दिया गया। गौरव की गिरफ्तारी कैंट और बिथरी के मुकदमों में की गई है। इधर जेल जाते समय गौरव ने कहा कि जिनकी खातिर वह लड़े उन्हीं ने उनको जेल भिजवा दिया।

फर्जी चैटिंग के खिलाफ फरीदपुर विधायक ने दी तहरीरफरीदपुर विधायक श्याम बिहारी के लिए इमेज परिणाम

फर्जी चैटिंग कर बदनाम करने की साजिश रचने वाले के खिलाफ फरीदपुर विधायक ने एसएसपी से शिकायत की है। देर शाम विधायक श्याम बिहारी अपने प्रतिनिधि के साथ एसएसपी के यहां पहुंचे। उन्होंने एसएसपी को स्क्रीन शॉट देते हुए फर्जी चैटिंग करने वाले के खिलाफ तहरीर दी। एसएसपी के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

श्याम बिहारी के प्रतिनिधि संतोष कुमार की तरफ से एसएसपी को दी गई तहरीर में कहा गया है कि विधायक ने सुबह जब अपना फेसबुक एकाउंट खोला तो उसमें विकास तिवारी नाम की फेसबुक आइडी से श्यामबिहारी व विकास तिवारी की चैटिंग को अभद्र भाषा के साथ फेसबुक वाल पर पोस्ट किया गया था जिस पर लोगों ने अभद्र टिप्पणियां कीं। विधायक प्रतिनिधि का कहना है कि फर्जी चैटिंग से विधायक के सम्मान को ठेस पहुंची है तथा मानसिक आघात भी हुआ है। पुलिस ने फर्जी चैटिंग करने वाले विकास तिवारी के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया है।

अयूब खां चौराहे पर प्रदर्शन, पुतला फूंका

भारतीय संस्कृति को नष्ट करने का प्रयास करने से नाराज संयुक्त सनातन धर्म संघर्ष समिति के लोगों ने रविवार को अयूब खां चौराहे पर प्रदर्शन कर पुतला फूंका। विरोध करने वालों का कहना था कि धर्मगुरुओं को बैठाकर उनका अपमान करना। उनसे उल्टे सीधे सवाल पूछना गलत है। विधायक पप्पू भरतौल को भी जानबूझ कर निशाना बनाया जा रहा है। अयूब खां चौराहे पर लोगों ने पुतला फूंका साथ ही नारेबाजी भी की।

बागी बेटी के अनुसूचित जाति युवक अजितेश से प्रेमविवाह रचाने पर विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल पहले ही कह चुके थे कि पूरे प्रकरण के पीछे राजनीतिक साजिश है। पूरे दिन चर्चा रही कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी मामले का संज्ञान लिया। सामने आया कि उन्होंने प्रमुख सचिव से पूरे प्रकरण की रिपोर्ट तलब की है। ऐसा होने पर बरेली प्रशासन को रिपोर्ट बनाकर भेजनी होगी। हालांकि स्थानीय अधिकारी इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे।

भाजपा से जुड़े सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री ने पूछा है कि यह सिर्फ प्रेमविवाह है, या फिर सियासी साजिश तो नहीं। इस मामले की रिपोर्ट भेजने से पहले अफसर बिथरी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ विधायक पप्पू भरतौल का पक्ष भी जानेंगे। हालांकि वह पहले ही कह चुके हैैं कि उनके खिलाफ साजिश की जा रही है। उन्होंने अपनी ही पार्टी के दो विधायकों पर ऐसा करने का आरोप भी लगाया है। एक विधायक से गांव में विकास कार्यों को लेकर तो दूसरे से उनके घरेलू मामले में दखलंदाजी पर विवाद हुआ था। आरोप है कि दोनों ने बदला लेने के लिए ही साक्षी-अजितेश के प्रेमविवाह को हवा दी। राष्ट्रीय चैनलों पर बहस का मुद्दा बनवाने में उनकी भूमिका रही है। कानूनन इस मामले में भले ही कुछ न हो लेकिन पार्टी स्तर पर कार्रवाई की संभावना प्रबल हो गई है।

साक्षी के अभी शहर आने की उम्मीद कम

सोमवार को साक्षी व अजितेश हाईकोर्ट में पेश हुए। उनकी शादी को वैध मानते हुए पुलिस सुरक्षा दे दी गई मगर अभी उन दोनों के शहर आने की उम्मीद कम ही है। घर पर ताला लगा है।

विधायक बोले, प्रयागराज में मेरी मौजूदगी की बात झूठी

सोमवार दोपहर को विधायक राजेश मिश्रा ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी किया जिसमें कहा कि एक चैनल ने भ्रामक सूचना दी कि सोमवार को जिस वक्त अजितेश से प्रयागराज में मारपीट की गई, तब मैं उस शहर में मौजूद था। उन्होंने कहा कि मैं अपने विधानसभा क्षेत्र में पार्टी की सदस्यता में लगा हूं। मेरे प्रयागराज में होने की बात झूठी है।

फरीदपुर विधायक के नाम से वायरल हुई थी फर्जी चैट

प्रकरण में विवाद यहां तक पहुंच गया कि रविवार को फरीदपुर विधायक प्रो. श्याम बिहारी लाल के नाम से एक फर्जी वाट्सएप चैट वायरल हुई, जिसमें राजेश मिश्रा को लेकर बातें लिखी गईं थी। उसी रात प्रो. लाल ने फर्जी चैट दिखाने वाले पर मुकदमा भी कराया। माना जा रहा है कि अब खींचतान खुलकर सामने आ रही, ऐसे में लखनऊ से संज्ञान लेना शुरू कर दिया है।

मामला चैनलों और अखबारों में छाया हुआ है, हर स्तर तक इसकी जानकारी है। रिपोर्ट मांगी जाती है, तो भेजी जाएगी। – रवींद्र सिंह राठौर, भाजपा जिलाध्यक्ष, बरेली

इस प्रकरण में मुझे जो कहना था मैं कह चुका हूं। – राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल, विधायक व साक्षी के पिता

शासन ने नहीं मांगी जानकारी 

एसएसपी मुनिराज जी ने कहा कि अभी इस संबंध में शासन स्तर से जानकारी नहीं मांगी गई है। मांगे जाने पर स्थिति से अवगत कराया जाएगा।

अभी कोई अधिकृत सूचना नहीं

डीएम वीरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि सीएम के रिपोर्ट मांगे जाने की सूचना मैंने भी टीवी पर ही देखी है। मेरे पास अभी ऐसी कोई भी अधिकृत सूचना नहीं आई है। जिसमें इस मामले की रिपोर्ट मांगी गई हो।