जमीन हड़पने में आजम को हो सकती है 10 साल जेल

रामपुर के किसान सपा सांसद आजम खान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने हाईकोर्ट पहुंच गए हैं. जबरन जमीन हथियाने के खिलाफ 26 किसानों ने हाईकोर्ट में कैविएट एप्लिकेशन फाइल की है. आजम खान के खिलाफ अजीम नगर थाने में मुकदमें दर्ज हैं.जमीन हड़पने के मामले में आजम खान को हो सकती है 10 साल की जेलआजम खान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने हाईकोर्ट पहुंचे 26 किसान

रामपुर से सपा सांसद मोहम्मद आजम खान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. ताजा मामले में जौहर अली यूनिवर्सिटी के लिए किसानों की जमीन जबरन हड़पने को लेकर आजम खान के खिलाफ किसानों ने 26 मुकदमे दर्ज कराए हैं. आजम खान के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने वाले ये 26 किसान अब इलाहाबाद हाईकोर्ट भी पहुंच गए हैं.
किसानों ने हाईकोर्ट में कैविएट एप्लीकेशन दाखिल कर एफआईआर को चुनौती दिए जाने की दशा में अदालत से उनका पक्ष सुने जाने की मांग की है. किसानों ने कहा है कि आजम खान की ओर से अगर एफआईआर को हाईकोर्ट में चुनौती दी जाती है तो अदालत उन्हें और उनके वकील को सुनवाई का पूरा मौका दे. वहीं पुलिस ने मुकदमा दर्ज होने के बाद आईपीसी की धारा 389 को भी बढ़ा दिया है. यह गैर जमानतीधारा है और इस धारा में 10 साल तक की सजा का भी प्रवाधान है.
26 किसानों की ज़मीन हड़पने का आरोप
आजम खान पर वर्ष 2003 से लेकर 2005 के बीच 26 किसानों की जमीन जबरन हड़पने और उसे जौहर अली यूनिवर्सिटी परिसर में शामिल करने का गम्भीर आरोप है. सभी किसानों ने जमीन हड़पे जाने के मामले में हाल ही में रामपुर के अजीम नगर थाने में सपा सांसद आजम खान के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 242, 447, 506 और 389 के तहत मुकदमा पंजीकृत कराया है.
गौरतलब है कि सपा सांसद मोहम्मद आजम खान लगातार मुश्किलों में घिरते जा रहे हैं. उनके खिलाफ जमीन हड़पने के मामले में कुल 27 मुकदमे अब तक दर्ज हो चुके हैं. 26 मुकदमे किसानों की ओर से दर्ज कराए गए हैं, जबकि एक मुकदमा राज्य सरकार की ओर से राजस्व निरीक्षक ने दर्ज कराया है, इस मुकदमे में भी उन पर जमीन हड़पने का आरोप लगाया गया है.
रामपुर के किसान मतलूब, भुल्लन, मोहम्मद अलीम और अन्य ने हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता विजय गौतम के मार्फत इलाहाबाद हाईकोर्ट में कैविएट ऐप्लीकेशन दाखिल की है. गौरतलब है कि आजम खान से जुड़े कई मामलों की सुनवाई पहले से ही इलाहाबाद हाईकोर्ट में चल रही है.

एक और केस दर्ज

आजम खान के गढ़ रामपुर की मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी भी विवादों में है. मदरसा आलिया ने शिकायत दर्ज कराई कि उसके यहां रखे सैकड़ों साल पुराने ऐतिहासिक इस्लामिक ग्रंथ चोरी हो गए. छापेमारी में पुलिस ने उन किताबों को विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी से बरामद किया है.समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता और रामपुर से सांसद आजम खान की मुश्किलें इन दिनों कम होती नजर नहीं आ रही हैं. उनके खिलाफ अब जमीन कब्जाने के मामले में एक और मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. बीते कुछ दिनों में सपा सांसद के खिलाफ अब तक कुल 27 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं.

इससे पहले शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने आजम खान पर कार्रवाई की थी. ईडी ने आजम खान पर अब मनी लॉन्ड्रिंग (PMLA) के तहत केस दर्ज किया है. उत्तर प्रदेश पुलिस के जरिए दर्ज की गई 26 एफआईआर पर संज्ञान लेते हुए ईडी ने FIR दर्ज की थी.आजम खान पर किसानों की जमीन हड़पने के 27 मामले दर्ज हो चुके हैं. जिसके चलते आजम खान पर अब करोड़ों रुपये के जमीन घोटाले का आरोप है. वहीं उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग ने आजम खान को रामपुर में लग्जरी रिसॉर्ट हमसफर के लिए सरकारी जमीन कब्जाने को लेकर नोटिस भी जारी किया है.प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) आजम खान के निजी विश्वविद्यालय के खाते में विदेशों से दान मिलने से संबंधित कथित धनशोधन के आरोपों की जांच कर रहा है. ईडी ने रामपुर पुलिस से आजम खान के खिलाफ दर्ज मामलों की सूची मांगी थी.

आजम खान के गढ़ रामपुर की मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी भी विवादों में है. मदरसा आलिया ने शिकायत दर्ज कराई कि उसके यहां रखे सैकड़ों साल पुराने ऐतिहासिक इस्लामिक ग्रंथ चोरी हो गए. छापेमारी में पुलिस ने उन किताबों को विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी से बरामद किया है.यूनिवर्सिटी में छापेमारी का विरोध करने के चक्कर में आजम खान के बेटे अब्दुल्लाह को हिरासत में ले लिया गया था. कई वर्ग किलोमीटर में बसी अली जौहर यूनिवर्सिटी साल 2006 में आजम खान ने शुरू की थी.

मुश्किलें और बढ़ी, आयकर के रडार पर संपत्ति

सपा नेता आजम खां के खिलाफ ईडी ने भले ही गुरुवार को मामला दर्ज किया है लेकिन आयकर के रडार पर आजम की संपत्ति करीब सालभर से है। बीते वर्ष जुलाई माह से आयकर विभाग गोपनीय जांच कर रहा है। नोटबंदी के बाद कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खां लाला ने तत्कालीन राज्यपाल राम नाईक से राजभवन में मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा था। जिसमें आरोप लगाया गया था कि जौहर ट्रस्ट के कालेधन को जिला सहकारी बैंक से गलत तरीके से बदला गया है। वर्ष 2016 में 17 नवंबर को दिए इस पत्र में जौहर ट्रस्ट को आय से अधिक चंदा देने वालों की जांच तथा आजम खां द्वारा आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की जांच की मांग की गई थी। राज्यपाल ने तत्कालीन वित्तमंत्री को फैसल लाला की शिकायत भेजी थी और नियमानुसार कार्रवाई के लिए लिखा था। जिस पर आयकर विभाग को जांच सौपी गई थी।

वहीं, सांसद आजम खां ने अपने वीडियो मैसेज में कहा है कि हमने मेडिकल कॉलेज और अस्पताल बंद कर दिया है। आरोप लगाया कि अफसर यूनिवर्सिटी से ट्रकों से सामान भरकर ले गए। आजम खां ने गुरुवार को एक वीडियो मैसेज जारी किया है, जिसमें कहा है कि चुनाव जीतने का नतीजा यह हुआ हमारी ईडी और एसआईटी से जांच कराई जा रही है। अब विधानसभा का उपचुनाव होना है तो अफसरों ने हमारी यूनिवर्सिटी को लूट लिया है। जो सामान और किताबें हमने खरीदी हैं, उन्हें चोरी का बताया जा रहा है। कलकत्ता से पुराना फर्नीचर खरीदा था, जिसके बिल हैं हमारे पास। मलवा खरीदा था, जिसके पेपर हैं। उसका सामान भी ट्रकों से ले जाया जा रहा है। मैं देखना चाहता हूं बीएचयू और एएमयू की जमीनों के कागज कहां हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *