नोएडा, । देश की राजधानी दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में एसटीएफ,उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (Uttar Pradesh Task Force) बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले गैंग के सरगना समेत चार शातिरों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार चारों आरोपित मनोज ठाकुर, संजय ठाकुर और अनिमेश ठाकुर बिहार के सीतामढ़ी जिला तो और अजीत शर्मा मुज़फ़्फ़रपुर का रहने वाला है।

गिरफ्तारी के बाद पूछताछ के आधार पर नोएडा पुलिस ने बताया कि ये शातिर साजिश के तहत लोगों के साथ बैंकों को भी चूना लगाते थे। धोखाधड़ी की कड़ी में ये शातिर सबसे पहले एक फर्जी कंपनी बनाते फिर फर्जी कागजात के जरिये लोन के लिए आवेदन देते। इसके बाद कुछ समय तक सैलरी रोटेट करने के बाद कर्मचारी का पर्सलन लोन और कार लोन लेकर फरार हो जाए।

यही तरीका अपनाकर इस गैंग ने नामी अंतरराष्ट्रीय बैंक आईसीआईसीआई बैंक से 2 करोड़ रुपये और सिटी बैंक से 10 लाख का फ़र्ज़ी लोन कराया था। इस बाबत नोएडा में थाना फ़ेज़ 3 और थाना 20 में अभियोग पंजीकृत था। इसके अलावा दर्जनों बैंक और फ़ाइनेंस कंपनियों से इसी प्रकार फर्जी दस्तावेज़ों का इस्तेमाल करके करोड़ों के लोन कराने की बात प्रकाश में आई है। अब तक इस संगठित गिरोह के 56 बैंक अकाउंट पता चले हैं।

बरामदगी

  •  क़रीब 22 लाख बैंक खाते में फ़्रीज़ किया गया
  •  60,000 नेपाली करेन्सी कैश
  •  1 नेपाली पास्पोर्ट
  •   2 नेपाली नागरिकता प्रमाणपत्र
  •  42 पैन कार्ड
  •  8 आधार कार्ड
  •   24 वोटर कार्ड
  •  56 ATM/ Debit कार्ड
  •   17 विभिन सरकारी डिपार्टमेंट और बैंको की मोहरें
  •   44 चेक बुक
  •  21 पास बुक
  •  4 गाड़ियाँ ( स्कॉर्पीओ, डस्टर, वैगनार, बाइक)
  •  25 मोबाइल फ़ोन
  •  23,000 रुपये कैश
  •  3 रिक्त भारतीय ड्राइविंग लाइसेन्स बुक
  •  56 क्रेडिट कॉर्ड्ज़
  •  टेकडेटा कम्पनी के 30 एम्प्लॉई कार्ड
  •   अन्य महत्वपूर्ण काग़ज़ात