यश बैंक पर रिजर्व बैंक की सख्ती से बाजार धड़ाम, सरकार ने दिलाया भरोसा

RBI की YES BANK पर सख्ती से बाजार धड़ाम, 50 हजार निकासी की शर्त पर हंगामा
RBI की YES Bank पर सख्ती से बाजार धड़ाम, 50 हजार निकासी की शर्त पर हंगामा

वित्तीय संकट से जूझ रहे यस बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक ने पैसा निकालने की ऊपरी सीमा निर्धारित कर दी है. इसमें खाताधारक अब यस बैंक से 50 हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकेंगे. इससे बाजार में हड़कंप मच गया है.

मुंबई: कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच यस बैंक का संकट शेयर बाजार पर भारी पड़ा है. वित्तीय संकट से जूझ रहे यस बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक ने पैसा निकालने की ऊपरी सीमा निर्धारित कर दी है. इसके तहत खाताधारक अब यस बैंक से 50 हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकेंगे. निकासी की यह सीमा तीन अप्रैल, 2020 तक लागू रहेगी. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स सुबह 857 अंकों की गिरावट के साथ 37,613.96 पर खुला. थोड़ी ही देर में सेंसेक्स 1400 अंक तक टूट गया.

जानिये यस बैंक पर RBI की नकेल की कहानी

गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने यस बैंक पर सख्ती बरतते हुए इससे निकासी की सीमा 50 हजार रुपये निकासी की सीमा तय की है. आरबीआई का ये आदेश अगले एक महीने के लिए है. एनएसई ने यस बैंक के फ्यूचर और ऑप्शन सौदों पर रोक लगा दी है. इसकी वजह से देश भर के यस बैंक ग्राहकों में डर कायम हो गया है और गुरुवार रात कई शहरों में यस बैंक के एटीएम में ग्राहकों की कतारें देखी गईं.

चेयरमैन बदलने से यस बैंक की हालत हुई खराब

जब से यस बैंक के चेयरमैन राणा कपूर को हटाया गया तब से बैंक की हालत लगातार खराब होने लगी. आरबीआई को शक था कि यस बैंक एनपीए और बैलेंसशीट में गड़बड़ी कर रहा है. इसके बाद ये कार्रवाई की गई. अगर यस बैंक के इतिहास पर गौर करें तो समझ में आएगा कि आरबीआई को ये शक क्यों हुआ. छोटे से बैंक से शुरू होने वाला यस बैंक पिछले एक दशक में 3 लाख करोड़ का एसेट वाली कंपनी बन गई.

ग्राहकों को ATM से पैसे निकालने में दिक्कत

आरबीआई द्वारा मौद्रिक सीमा निर्धारित करने के बाद से यस बैंक के जमाकर्ताओं को एटीएम से धन निकालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा. लंबी कतारों में खड़े ग्राहकों को कहीं मशीनें बंद पड़ी मिलीं तो कहीं एटीएम में धन नहीं था. यस बैंक के ग्राहकों की मुसीबत और बढ़ गई जब उन्हें इंटरनेट बैंकिंग प्रणाली के माध्यम से धन स्थानांतरित करने में भी असुविधा झेलनी पड़ी.

यस बैंक संकट / वित्त मंत्री ने कहा- हर खाताधारक का पैसा सुरक्षित, बैंक को बचाने के लिए सरकार और आरबीआई साथ काम कर रहे

  • वित्त मंत्री ने कहा, पिछले दो महीनों से वह व्यक्तिगत रूप से यस बैंक की स्थिति पर नजर बनाए हुए हैंवित्त मंत्री ने कहा, पिछले दो महीनों से वह व्यक्तिगत रूप से यस बैंक की स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं
  • रिजर्व बैंक ने आर्थिक संकट से जूझ रहे यस बैंक के बोर्ड का नियंत्रण 30 दिन के लिए अपने हाथ में लिया है
  • वित्तमंत्री ने निर्मला सीतारमण ने कहा, सरकार यस बैंक के लिए जल्द ही रिजोल्यूशन प्लान लेकर आएगी

यस बैंक का समाधान बहुत तेजी से कर लिया जाएगा: आरबीआई गर्वनर
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि बैंक से जुड़े मुद्दों का समाधान बहुत जल्दी कर लिया जाएगा। इसके लिए 30 दिन की समय सीमा तय की गई है। रिजर्व बैंक इस दिशा में जल्द कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि यस बैंक पर रोक लगाने का निर्णय किसी एक इकाई को ध्यान में रखकर नहीं किया गया है। यह निर्णय देश के बैंकिंग और वित्तीय प्रणाली की सुरक्षा और स्थिरता को बनाए रखने के लिए किया गया है।

यस बैंक से खाताधारक अधिकतम 50 हजार रुपए ही निकाल सकेंगे
आरबीआई ने यस बैंक से पैसा निकालने की ऊपरी सीमा निर्धारित कर दी है। अब बैंक के खाताधारक अधिकतम 50 हजार रुपए ही निकाल सकेंगे। यस बैंक की आर्थिक स्थिति में गंभीर गिरावट आने के बाद रिजर्व बैंक ने 30 दिन के लिए उसके बोर्ड का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है। एसबीआई के पूर्व डीएमडी और सीएफओ प्रशांत कुमार को बैंक का प्रशासक बनाया गया है

शेयर बाजार / काेरोनावायरस और यस बैंक संकट से सेंसेक्स 1459 अंक नीचे आया; यस बैंक के शेयर 76% गिरे, एसबीआई 12 प्रतिशत लुढ़का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *