मत: स्थिति मजबूत कर रहा है चीन वार्ता की आड़ में:ब्रह्म चेलानी

गलवान पर बातचीत के पीछे भी चाल, समय काटना चाहता है चीनः ब्रह्म चेलानी
भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में सलाहकार रह चुके प्रोफेसर प्रह्म चेलानी का कहना है कि चीन का आर्थिक और कूटनीतिक हर मोर्चे पर करारा जवाब देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि चीन (India China Stand Off) आसानी से यथास्थिति पर लौटने वाला नहीं है। चीनी आक्रामकता की ओर दुनिया का ध्यान केंद्रित रखने के लिए भारत को इस सैन्य गतिरोध को लंबा खींचना चाहिए। वहीं चीन बातचीत के बहाने समय काटकर अपना दावा पक्का करना चाहता है।

हाइलाइट्स:
राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में सलाहकार रह चुके ब्रह्म चेलानी ने कहा कि चीन आसानी से नहीें मानने वाला है
उन्होंने कहा कि भारत को हर स्तर पर आर्थिक और कूटनीतिक स्तर पर करारा जवाब देना चाहिए
चेलानी ने कहा कि चीन बातचीत के बहाने समय काटकर अपना दावा मजबूत करने की कोशिश कर रहा है


नई दिल्ली:गलवान घाटी में चीन की नापाक हरकत के बाद भारत ने भी उसे हर स्तर पर जवाब देना शुरू कर दिया है। भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में सलाहकार रह चुके प्रोफेसर ब्रह्म चेलानी का मानना है कि भारत को चीन की आक्रामकता का आर्थिक और कूटनीतिक,हर मोर्चे पर जवाब देना चाहिए। उनके मुताबिक चीन अतिक्रमण किए गए हमारे क्षेत्र को आसानी से खाली नहीं करने वाला है। इस पर अपने दावे को मजबूत करने के लिए वह बातचीत के बहाने समय काटना चाहता है। चेलानी ने यह भी कहा कि लेह जाकर प्रधानमंत्री ने अपने पहले के बयान को सुधारने का काम किया है जिसका इस्तेमाल चीन करने लगा था।
‘मोदी ने जवानों का मनोबल ऊंचा किया’
प्रोफेसर चेलानी ने कहा,’मोदी के लद्दाख के अग्रिम मोर्चे के दौरे ने चीन की आक्रामकता और अतिक्रमण के खिलाफ भारत की मजबूती और आक्रामकता को दिखाया है। हालांकि,हिमालयी क्षेत्र में चल रही तनातनी और चीन के अतिक्रमण को कई हफ्ते तक कम करके बताने का संगठित सरकारी प्रयास हुआ। लेकिन मोदी के इस दौरे ने युद्ध जैसी स्थिति का सामना कर रहे भारत के लिए सबका ध्यान खींचने में मदद की। उनका दौरा और उनका संबोधन जवानों का मनोबल ऊंचा करने वाला था। मोदी ने विस्तारवाद का जिक्र किया,चीन की साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षा के खिलाफ बढ़ती अंतरराष्ट्रीय चिंता की भावना का समर्थन करता है।’
लद्दाख जा मोदी ने सुधारी गलतीः ब्रह्म चेलानी
ब्रह्म चेलानी ने कहा कि चीन का नाम लिए बगैर मोदी ने चीन को साफ संदेश दे दिया। यह तो उनके भाषण पर चीन की प्रतिक्रिया से ही विदित है। उन्होंने कहा, ‘अगर किसी देश का नाम लिए बगैर संदेश उस तक पहुंचाया जा सकता है तो फिर उसका नाम लिए जाने की आवश्यता ही क्या है। लद्दाख के दौरे से दो हफ्ते पूर्व हालांकि प्रधानमंत्री ने सर्वदलीय बैठक में अपने संबोधन से भ्रामक स्थिति पैदा कर दी थी। उनके 19 जून के बयान ने चीन को दुष्प्रचार का मौका दिया। चीन की सरकारी मीडिया ने इसे इस तरह प्रसारित किया कि मोदी चीन के साथ आगे कोई टकराव नहीं चाहते। लद्दाख जाकर उन्होंने अपनी इस गलती में सुधार किया।’
हर मोर्चे पर देना चाहिए चीन को जवाब
उन्होंने कहा कि भारत को चीन की आक्रामकता का हर मोर्चे पर जवाब देना चाहिए,चाहे वह आर्थिक हो या कूटनीतिक। भारत को चीन के खिलाफ वैश्विक स्तर पर कूटनीतिक आक्रामकता दिखानी चाहिए। दुर्भाग्यवश,हॉन्गकॉन्ग के मुद्दे पर भारत की ओर से दिया गया बयान बेहद कमजोर रहा। चीन को भारत से व्यापार अधिशेष के रूप में सालाना लगभग 60 अरब डॉलर मिलते हैं। हालांकि भारत में उसका प्रत्यक्ष विदेशी निवेश बहुत कम है। चीन ने निवेश की बजाय अपने सामान को भारत में खपाने को ज्यादा तवज्जो दी। भारत के नीति निर्धारकों को यह बात कब समझ आएगी कि चीन को भारत की अत्यधिक जरूरत है,न कि भारत को चीन की।
यह भी पढ़ेंः चीन से जंग का खतरा,जापान से लेकर पश्चिम एशिया तक हजारों सैनिक भेज रहे अमेरिका और ब्र‍िटेन
पश्चिमी देशों से केवल कूटनीतिक समर्थन
चेलानी ने कहा कि भारत पश्चिम के देशों से कूटनीतिक समर्थन की उम्मीद तो कर सकता है लेकिन सैन्य समर्थन की नहीं। भारत और अमेरिका सामरिक साझेदार हैं, न कि सैन्य साझेदार। अमेरिका से भारत की सैन्य साझेदारी होती भी है तो इससे बहुत अंतर नहीं पड़ने वाला है। साल 2012 में जब चीन ने फिलीपीन से स्कारबोरो शोल छीना था तब अमेरिका ने कुछ नहीं किया जबकि दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग संबंधी समझौता है। कुछ शाब्दिक समर्थन के अलावा अमेरिका, चीन की सैन्य शक्ति के बारे में कुछ गोपनीय जानकारी ही भारत को मुहैया करा सकता है। भारत को खुद से ही चीन की आक्रामकता का जवाब देना होगा।
उन्होंने कहा कि चीन ने छल-कपट से अतिक्रमण करते हुए लद्दाख में यथास्थिति को बदल दिया है। भारत चाहता है कि यथास्थिति बरकरार रहे। इस बात की कम ही संभावना है कि चीन शांतिपूर्वक पीछे हटे। इस पृष्ठभूमि में भारत को ऐसे उपाय करने चाहिए कि चीन को उसकी आक्रामकता भारी पड़े। इसके लिए भारत को उसे आर्थिक और कूटनीतिक मोर्चे पर घेरना होगा। चीनी आक्रामकता की ओर दुनिया का ध्यान केंद्रित रखने के लिए भारत को इस सैन्य गतिरोध को लंबा खींचना चाहिए। साथ ही भारत को अपनी ‘वन-चाइना’ नीति समाप्त करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *