रविवार 1637 कोरोना केस नया रिकॉर्ड,दून में 623, हरिद्वार में 318 भी नया रिकॉर्ड

नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में मिले 1637 संक्रमित, 32 हजार के करीब पहुंची मरीजों की संख्या

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण ने आज फिर रिकॉर्ड तोड़ दिया। 24 घंटे के अंदर प्रदेश में 1637 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। इसके साथ ही अब प्रदेश में मरीजों की संख्या 31 हजार पार हो गई है। वहीं 12 संक्रमित मरीजों की आज मौत हुई है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली रिपोर्ट के अनुसार, आज देहरादून में भी रिकॉर्ड 623 और हरिद्वार में 318 संक्रमित मरीज आए हैं। वहीं, नैनीताल में 211 और ऊधमसिंह नगर में 240 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। अल्मोड़ा में 16, बागेश्वर में 13, चमोली में सात, चंपावत में 32, पौड़ी में 57, पिथौरागढ़ में 34, रुद्रप्रयाग में 12, टिहरी में 27 और उत्तरकाशी में 47 संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इसके साथ ही मरीजों की संख्या 31973 पहुंच गई है।

वहीं, आज प्रदेश में 1009 मरीज ठीक होकर घर लौटे हैं। प्रदेश में अब तक कुल 21040 मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि एक्टिव केस की संख्या 10397 हो गई है।

मैदानी जिलों में घटी, पहाड़ों में बढ़ी सैंपलों की प्रतीक्षा सूची
उत्तराखंड में पहले की तुलना में कोविड जांच की सैंपलिंग बढ़ी है। वर्तमान में प्रतिदिन आठ से 10 हजार सैंपलों की जांच रिपोर्ट आ रही है। जांच बढ़ने से मैदानी जिलों में जहां सैंपलों की प्रतीक्षा घटी है, वहीं पर्वतीय जिलों में संख्या बढ़ी है। टिहरी और चंपावत जिले में 26 हजार से ज्यादा सैंपलों की जांच लंबित है।

प्रदेश में अब तक 4.80 लाख से अधिक कोविड जांच की गई है। इसमें लगभग 4.50 लाख से अधिक लोगों के सैंपल में कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं मिला है। वर्तमान में प्रदेश भर से 13800 से ज्यादा सैंपलों की जांच प्रतीक्षा में है। टिहरी जिले में 2689, चंपावत में 2697 और चमोली में 1349 सैंपलों की जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। इसी तरह देहरादून जिले में 1398, हरिद्वार में 951, नैनीताल में 659, पौड़ी में 437, पिथौरागढ़ में 310, रुद्रप्रयाग में 292, उत्तरकाशी में 804, अल्मोड़ा में 671, बागेश्वर जिले में 361 सैंपलों की जांच प्रतीक्षा में है।

सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी का कहना है कि प्रदेश में स्थापित लैब क्षमता के अनुसार सैंपल टेस्ट कर हैं। सरकार का फोकस सैंपलिंग बढ़ाने पर है। जिससे जिलों से भी पहले की तुलना में प्रतिदिन ज्यादा सैंपल लिए जा रहे हैं। दून, श्रीनगर मेडिकल कालेज और आईवीआरआई मुक्तेश्वर में स्थापित लैब की क्षमता बढ़ाई जा रही है। वहीं, जल्द ही नई लैब भी शुरू की जा रही है। इससे आने वाले समय में सैंपल जांच का बैकलॉग नहीं रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *