ढह गया चीनी सीमा से जोड़ने वाला वैली ब्रिज

उत्तराखंड-चीन सीमा पर LAC के पास टूटा वैली ब्रिज, देखें VIDEO
उत्तराखंड-चीन सीमा पर LAC के पास टूटा वैली ब्रिज देहरादून,। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में आज सोमवार को मुनस्यारी-मिलम सड़क पर वैली ब्रिज टूट गया। भारत-चीन सीमा पर एलएसी (Line of Actual Control) से 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह ब्रिज टूटा है। दुर्घटना उस वक्त हुआ जब पोकलैंड मशीन लेकर जा रहा ट्राला ब्रिज के ऊपर से गुजर रहा था। इस पुल के टूटने से सीमांत में सेना के साथ ही 15 से अधिक गांवों का शेष दुनिया से सड़क संपर्क कट गया है।
सोमवार सुबह करीब नौ बजे मुनस्यारी-मिलम सड़क निर्माण के लिए एक ट्राला (यूके-04/सीबी-5138 ) पोकलैंड मशीन लेकर जा रहा था। सेनरगाड़ नदी पर बना वैली ब्रिज इस ट्राले व पोकलैंड का भार सहन नहीं कर सका और भरभराकर गिर गया। दुर्घटना में ट्राला चालक अल्मोड़ा निवासी गोधन सिंह और पोकलैंड ऑपरेटर पंजाब निवासी लकविंदर सिंह गंभीर रूप से घायल हो गये। दोनों का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुनस्यारी में उपचार चल रहा है।
पुल टूटने से इन गांवों के लोगों की बढ़ी दिक्कत
वर्ष 2009में बीआरओ ने उच्च हिमालयी क्षेत्रों को सड़क संपर्क से जोड़ने के लिए सेनरगाड़ में वैली ब्रिज बनाया था। वैली ब्रिज टूटने से उच्च हिमालयी क्षेत्र स्थित धापा, लिलम, साई पोलो, बुई, पातो, जिमीघाट, कुरी जिमिया, मिलम, पाछू, गनघर, लास्पा, ल्वा, बुरफू, बिल्जू, रेलकोट सहित 15 से अधिक गांवों का सड़क संपर्क पूरी तरह कट गया है। ये गांव अलग-थलग पड़ गए हैं।

18 टन की क्षमता के पुलपर चढ़ा दिया 26 टन का पोकलैंड लदा ट्राला
सेनरगाड़ में बने वैली ब्रिज की क्षमता महज 18 टन की थी। बावजूद इसके उस पर आठ टन अधिक भार का पोकलैंड लदा ट्राला चढ़ा दिया गया। नतीजा यह रहा कि पुल ट्राला, पोकलैंड समेत नदी में समा गया। इस पूरे घटनाक्रम में बीआरओ के अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं। वर्ष 2009 में बने इस वैली ब्रिज की एक माह पहले ही रिपेयरिंग की गई थी। मुनस्यारी-मिलम सड़क निर्माण को अंजाम तक पहुंचाने के लिए इस पुल की महत्वपूर्ण भूमिका थी। इसी पुल से होकर बीआरओ सड़क निर्माण की सामग्री मिलम पहुंचाता है। सोमवार सुबह पोकलैंड मशीन लेकर सेनरगाड़ पहुंचे ट्राले का वजन 26 टन था,लेकिन ट्राले को 18 टन भार क्षमता वाले पुल पर चढ़ाने की अनुमति दे दी गई। नतीजा यह रहा कि पुल ट्राले का भार नहीं सह सका और ट्राला, पोकलैंड समेत सेनरगाड़ में समा गया। वैली ब्रिज टूटने से बीआरओ व मुनस्यारी-मिलम सड़क निर्माण की कार्यदाई कंपनी की मुश्किल बढ़ गई है। कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन से तीन माह से अधिक समय तक सड़क निर्माण का कार्य रोकना पड़ा था। लॉकडाउन से छूट मिलते ही फिर से सड़क निर्माण का काम रफ्तार पकड़ने की उम्मीद थी। बीआरओ को मुनस्यारी से मिलम तक 58 किमी सड़क निर्माण करना है। अभी तक 37 किमी सड़क काट दी गई है। अब भी 21किमी सड़क का निर्माण होना शेष है। पुल टूटने से निर्माण सामग्री सहित मशीनरी आगे पहुंचाना बीआरओ के लिए मुश्किल हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *