आरोपितों ने ही पंक्चर की थी डॉक्टर की स्कूटी, जबरन पिलाई शराब,मुंह बंदकर गैंगरेप

फ्लाईओवर के नीचे मिली थी महिला डॉक्टर की जली हुई लाश.14 दिन की रिमांड पर भेजे गए चारों आरोपी
नई दिल्‍ली. हैदराबाद (Hyderabad) में वेटेनरी डॉक्‍टर गैंगेरप और हत्या के मामले (Hyderabad Doctor Gangrape Murder Case) में कोर्ट ने चारों आरोपियों को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत (Judicial Remand) में भेज दिया है. गुस्‍साए लोगों के विरोध प्रदर्शन के कारण पुलिस आरोपियों को कोर्ट नहीं ले जा पा रही थी. इस कारण आरोपियों की पुलिस स्‍टेशन से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मजिस्‍ट्रेट के सामने पेशी कराई गई.
वहीं महिला आयोग ने इस मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्‍त जांच की मांग की है. आयोग का कहना है कि अगर इस मामले में पुलिस ने तुरंत गंभीरता दिखाई होती तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती.
हैदराबाद में महिला डॉक्टर से गैंगरेप और हत्या मामले (Hyderabad Veterniary Doctor Gangraped Murder) में नए खुलासे हुए हैं. पुलिस के मुताबिक, चारों आरोपितों ने महिला डॉक्टर को टोल प्लाजा पर स्कूटी पार्क करते देखा था. तभी एक आरोपित ने उसकी स्कूटी की हवा निकाल दी. ताकि वे महिला डॉक्‍टर को अपने जाल में फंसा सके.
हैदराबाद. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप के बाद हत्या (Hyderabad Veterniary Doctor Murder) और फिर लाश को जला देने की घटना में कई बड़े खुलासे हुए हैं. पुलिस ने इस मामले में अभी तक 4 युवकों को गिरफ्तार किया है. इनकी पहचान मोहम्मद आरिफ, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के तौर पर हुई है. पुलिस के मुताबिक सभी आरोपियों को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया है.पुलिस जांच में पता चला कि आरोपितों ने वारदात को अंजाम देने के लिए साजिश में महिला डॉक्टर की स्कूटी पंक्चर की थी. ताकि वे महिला डॉक्‍टर को अपने जाल में फंसाकर वारदात को अंजाम दे सके.आरिफ की उम्र 26 साल है,जबकि बाकी आरोपियों की उम्र 20 साल है। सभी की गिरफ्तारी नारायणपेट जिले से हुई। ये सभी ट्रक ड्राइवर और क्लीनर हैं, जिन्होंने शराब पीने के बाद 7 घंटे तक डॉक्टर के साथ दरिंदगी की थी। इसके बाद पीड़ित को शादनगर के बाहरी इलाके में जला दिया था। मुख्य आरोपित आरिफ के पिता ने कहा – “मैं पूरी तरह से जानता था कि मेरे बेटे का स्वभाव आपराधिक है। अगर मेरा बेटा दोषी पाया जाता है तो उसे दंडित किया जाना चाहिए।”
पुलिस के मुताबिक, चारों आरोपितों ने महिला डॉक्टर को टोल प्लाजा पर स्कूटी पार्क करते देखा था.जानकारी के मुताबिक घर से शाम 5.50 बजे निकल कर टोंदुपल्ली टोल गेट पर शाम 6 बजे स्कूटर पार्क कर वहीं से गची बोली में अपने क्लीनिक के लिए कैब से निकली. इस बीच वहां खड़े एक ट्रक के साथ मौजूद चार लोगों ने यह साजिश रची. उसके वापस लौटने से पहले ही स्कूटर को पंक्चर कर दिया गया. जब वेटेरिनरी डॉक्टर वापस लौटी करीब 9 बजे तो उसने देखा कि स्कूटर फ्लैट है.
ऐसे में उसे मदद कि ज़रूरत थी. उसने अपनी बहन को फोन कर बताया कि कुछ ट्रक वालों से उसे डर लग रहा है. इस बसी हाईवे पर युवती का मुंह बंद कर उसे ट्रक के पीछे ले जाया गया. वहीं पास में एक ग्राउंड है जहां उसे घसीट कर ले गए. और इस घिनौने वारदात को अंजाम दिया..हैरानी वाली बात यह कि इस ग्राउंड में वॉचमैन का घर भी है लेकिन उसने भी इसे नोटिस नहीं किया. तभी एक आरोपित शिवा ने उसकी स्कूटी की हवा निकाल दी. जब महिला डॉक्टर अपनी ड्यूटी पूरी कर घर के लिए निकली, तो उसने देखा कि स्कूटी पंक्चर है. रात काफी होने के कारण महिला डॉक्टर ने अपनी छोटी बहन को फोन किया और स्कूटी खराब होने के बारे में बताया. साथ ही बहन से ये भी कहा कि उन्हें कुछ ठीक महसूस नहीं हो रहा. डर लग रहा है.https://www.abplive.com/videos/news/india-watch-top-news-of-the-day-in-fatafat-style-1246800
पुलिस में दिए परिवार के बयान के मुताबिक, छोटी बहन ने महिला डॉक्टर को स्कूटी वहीं छोड़कर कैब से घर आने की सलाह दी थी. इस दौरान आरोपित चिंताकुंता केशावुलु और शिवा वहां मदद के लिए पहुंच गए. शिवा स्कूटी ठीक कराने के बहाने महिला डॉक्टर को कुछ दूर ले गया, जहां बाकी आरोपित ताक लगाए बैठे थे. जैसी ही महिला डॉक्टर वहां पहुंची, आरोपियों ने उसे बंधक बना लिया.
गैंगरेप से पहले जबरन पिलाई शराब
पुलिस जांच में पता चला है कि दरिंदगी से पहले आरोपितों ने खूब शराब पी. महिला डॉक्टर को भी जबरन शराब पिलाई. इसके बाद आरोपित मोहम्‍मद आरिफ ने महिला डॉक्टर का मुंह हाथ से बंद कर दिया, ताकि वो चीख न सके. इस दौरान चारों आरोपितों ने बारी – बारी से महिला डॉक्टर से रेप किया. माना जा रहा है कि सांस नहीं ले पाने के कारण महिला डॉक्टर का दम घुट गया और मौत हो गई.
प्रीति के शव को आग लगाने के बाद आरोपित ये पता लगाने के लिए वापस आए कि शरीर पूरी तरह से जला है या नहीं। जानकारी के मुताबिक 2 से 2.30 बजे के बीच शादनगर के चटनपल्ली में पुलिया के नीचे शव को आग लगाने के बाद चारों आरोपित ट्रक और स्कूटर से अपराध स्थल से निकल गए। आरिफ और चेन्नेकशवुलु ट्रक से वहाँ से निकले, जबकि शिवा और नवीन स्कूटर पर निकले। लेकिन कुछ देर बाद नवीन और शिवा वापस लौटकर वापस अपराध स्थल पर लौटकर आए कि प्रीति का शरीर पूरी तरह से जला है या नहीं।
साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वी सी सज्जनर ने कहा कि आरोपित ये देखने के लिए मौके पर वापस आए थे कि शरीर पूरी तरह से तो जल गया है न, जिससे कि पहचान में न आए। इसके बाद फिर उन्होंने स्कूटर पर सवार होकर पुलिया से लगभग 11 किलोमीटर दूर जाकर कोथुर में स्कूटर को छोड़ दिया और फिर चारों ट्रक से आरामगढ़ चौराहे पर गए। वहाँ से शिवा, नवीन और चेन्नेकशवुलु अपने घरों के लिए रवाना हुए, जबकि आरिफ शहर में ट्रक को अनलोड करने चला गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *