विधायक महेश नेगी पहुंचे महिला आयोग कार्यालय, दूसरे पक्ष के न पहुंचने से सुनवाई टली

ज्ञापन देने पहुंची एडवा की महिलायें
विधायक पहुंचे महिला आयोग, नहीं हुई सुनवाई
एक महिला की ओर से महिला आयोग में की गई शिकायत पर जारी नोटिस का जवाब देने भाजपा विधायक महेश नेगी बुधवार को आयोग पहुंचे।…
देहरादून 26 अगस्त: एक महिला की ओर से महिला आयोग में की गई शिकायत पर जारी नोटिस का जवाब देने भाजपा विधायक महेश नेगी बुधवार को आयोग पहुंचे। महिला ने द्वाराहाट सीट से विधायक महेश नेगी पर दुष्कर्म और अपनी बच्ची के जैविक पिता होने के आरोप लगाए हैं। हैरानी की बात यह है कि आरोप लगाने वाली महिला खुद आयोग नहीं पहुंची। जिसके कारण मामले में बयान दर्ज नहीं हो सके। अब दोनों पक्षों को आयोग दोबारा सुनवाई के लिए एक और नोटिस भेजेगा।

आयोग ने करीब एक हफ्ते पहले महिला की शिकायत पर अल्मोड़ा के द्वाराहाट सीट से विधायक महेश नेगी को नोटिस भेज बुधवार को पेश होने का आदेश दिया था। साथ ही महिला को भी आयोग में आकर अपना पक्ष रखने को कहा था। बुधवार को दिन में साढ़े ग्यारह बजे सुनवाई होनी थी। विधायक महेश नेगी तो समय से आयोग पहुंच गए, लेकिन महिला ने आयोग अध्यक्ष विजया बड़थ्वाल को वाट्सएप पर एक संदेश भेजकर बुधवार को सुनवाई में आने में असमर्थता जता दी। आयोग अध्यक्ष विजया बड़थ्वाल ने बताया कि महिला का संदेश सुबह 11 बजे के करीब प्राप्त हुआ। जिसमें उसने लिखा है कि उसकी बच्ची की तबीयत खराब है। जिस वजह से वह आयोग के समक्ष पेश होने में असमर्थ है। आयोग के नियम के अनुसार दोनों पक्षों के एक साथ मौजूद होने पर ही एक दूसरे के सामने आयोग में बयान दर्ज होते हैं। हालाकि, विधायक ने अपनी मौजूदगी दिखाने के लिए आयोग के रिकॉर्ड रजिस्टर में हस्ताक्षर किए। आयोग अध्यक्ष ने बताया कि शिकायतकत्र्ता महिला की समस्या को समझते हुए उनसे अगली सुनवाई के लिए समय मांगा गया है। महिला द्वारा अनुकूल समय बताने के बाद दोनों पक्षों को सुनवाई के लिए एक और नोटिस जारी किया जाएगा। साथ ही फोन से भी सूचना दी जाएगी, जिससे कम समय में बयान दर्ज करने में आसानी हो। हालांकि, दो सितंबर को सुनवाई के प्रयास किए जा रहे हैं।

दो सुनवाई में नहीं पहुंची महिला तो शिकायत रद्द

महिला आयोग के प्रविधान के अनुसार दो नोटिस जारी होने के बाद भी अगर शिकायतकत्र्ता सुनवाई में नहीं पहुंचता है तो आयोग में की गई शिकायत रद मानी जाती है। आयोग अध्यक्ष विजया बड़थ्वाल ने बताया कि शिकायत रद होने के बाद महिला के पास दोबारा शिकायत करने का विकल्प भी मौजूद रहता है। नई शिकायत पर नए सिरे से नोटिस जारी कर दोनों पक्षों को बयान दर्ज कराने के लिए बुलाया जाता है।

आज बयान देने आएंगे विधायक व महिला का पति

सीओ अनुज कुमार ने गुरुवार को विधायक महेश नेगी और उन पर आरोप लगाने वाली महिला के पति को बयान के लिए बुलाया है। सीओ ने बताया कि दोनों के बयान बुधवार को होने थे, लेकिन महिला आयोग में पेशी के चलते संभव नहीं हो सका। अब गुरुवार को दोनों के बयान लिए जाएंगे। बयान में जो तथ्य सामने आएंगे, उसके अनुसार जांच आगे बढ़ाई जाएगी।

पुलिस को मिली विधायक व महिला की सीडीआर

पुलिस को द्वाराहाट विधायक महेश नेगी और उन पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला के मोबाइल की सीडीआर (कॉल डिटेल रिकॉर्ड) मिल गई है। पुलिस सीडीआर से यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि दोनों के बीच में कब और कितनी बार बात हुई है। वहीं, पुलिस वाट्सएप चैट की भी जांच कर रही है। इसके साथ ही प्रकरण की जांच कर रहे सीओ (पुलिस क्षेत्राधिकारी) सदर अनुज कुमार बुधवार को पूरे दिन घटनाक्रम से जुड़े अन्य साक्ष्यों की पड़ताल करते रहे।

होटलों के सीसीटीवी फुटेज जुटाने के प्रयास

महिला ने विधायक पर आरोप लगाया है कि उन्होंने उसके साथ मसूरी, नैनीताल समेत नेपाल के होटलों में दुष्कर्म किया है। यह बात उसने अपने बयान और तहरीर दोनों में कही है, लेकिन महिला की ओर से इन होटलों में ले जाने की तारीख नहीं बताई गई है। पुलिस के अनुसार जब तक तारीख के बारे में पता नहीं चल जाता है, तब तक सीसीटीवी फुटेज एकत्र करना भी आसान नहीं होगा। हालांकि, इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

बच्चे व विधायक का हो डीएनए टेस्ट

अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति (एडवा) के प्रतिनिधि मंडल ने बुधवार को सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भेजा। उन्होंने कहा कि पीड़ित महिला बार-बार अपने बच्चे और विधायक के डीएनए की जाच कराने की माग कर रही है, ताकि सच्चाई सामने आ सके। इस पर जल्द से जल्द कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही महिला की तहरीर पर मुकदमा दर्ज करते हुए उसे सुरक्षा मुहैया कराई जाए। वहीं, आरोपित विधायक को भी बर्खास्त किया जाना चाहिए। इस दौरान समिति की प्रातीय अध्यक्ष इंदु नौडियाल, महामंत्री दमयंती नेगी, देहरादून की जिलाध्यक्ष नूरेसा अंसारी व रीता मौजूद रहीं।

————-

महिला आयोग के नोटिस पर तय समय पर आयोग के समक्ष हाजिर हो गया था,जबकि दूसरे पक्ष से महिला हाजिर नही हुई। अब आगे आयोग का जो आदेश हो।
-महेश नेगी, विधायक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *