फिल्म ‘सडक 2’ में गड्ढे ही गड्ढे,दो ट्रेलरों ने बनाया नफ़रत का रिकॉर्ड, संगीत चोरी का भी आरोप,

Sadak 2 में गड्ढे ही गड्ढे: महेश भट्ट पर अब गाना चुराने का आरोप!
दुनिया के सबसे बदनाम फिल्म ट्रेलर (Sadak 2 Trailer) का तमगा हासिल करने के बाद महेश भट्ट (Mahesh Bhatt) के निर्देशित आलिया भट्ट (Alia Bhatt),संजय दत्त (Sanjay Dutt) की फ़िल्म सड़क 2 (Sadak 2) के गाने इश्क कमाल (Ishaq Kamaal Controversy) पर पाकिस्तानी म्यूजिशिन शेजान सलीम के गाने रब्बा हो (Rabba Ho Sonh) की धुन चुराने का आरोप लगा है.
महेश भट्ट और आलिया भट्ट की फ़िल्म सड़क 2 (Sadak 2) एक के बाद एक विवादों में घिरती जा रही है. जहां एक तरफ सड़क 2 के ट्रेलर (Sadak 2 Trailer review) रिलीज होने के बाद से लगातार फैंस इस फ़िल्म के बहिष्कार करने की मांग कर रहे हैं, वहीं यूट्यूब पर सड़क 2 के ट्रेलर को 90 लाख से ज्यादा लोगों ने नापसंद करते हुए डिस्लाइक किया है.अब सड़क 2 से एक और विवाद जुड़ गया है.सड़क 2 के बेहद पॉप्युलर गाने ‘इश्क कमाल’ को पाकिस्तानी म्यूजिक प्रोड्यूसर शेजान सलीम ने अपना कंपोजिशन बताते हुए इस गाने के म्यूजिक डायरेक्टर सुनीलजीत पर म्यूजिक चोरी के आरोप लगाए हैं.शेजान ने दावा किया कि उन्होंने साल 2011 में एक एल्बम बनाया था,जिसमें रब्बा हो नाम का गाना था.इस गाने को जैद खान ने गाया था.शेजान ने दावा किया कि दोनों ही गाने की धुन एक जैसी है.शेजान ने इश्क कमाल के साथ ही अपने गाने का म्यूजिक वीडियो ट्विटर पर शेयर करते हुए सड़क 2 के प्रोड्यूसर फॉक्स स्टार हिंदी को टैग किया और पूछा कि ऐसा क्यों हुआ और अब क्या करना चाहिए.एक बार को सुनने पर इश्क कमाल और रब्बा हो के संगीत में काफी समानता दिखती है.
सड़क 2 के गाने इश्क कमाल के कंपोजर सुनीलजीत ने पाकिस्तानी म्यूजिक प्रोड्यूसर शेजान सलीम के आरोपों का खंडन करते हुए कहा है कि इश्क कमाल गाना उनका ओरिजिनल कंपोजिशन है और इस गाने के लिए उन्होंने खूब मेहनत की है.इश्क कमाल गाने को शालु वैश ने लिखा है और इसे सुरों से पिरोया है फेमस सिंगर जावेद अली ने. इश्क कमाल गाना सड़क 2 के ट्रेलर में फीचर है,जो कि संजय दत्त और पूजा भट्ट पर फिल्माया गया है.एक के बाद एक विवाद से जुड़ने के बाद सड़क 2 की काफी फजीहत हो रही है और सोशल मीडिया पर लोग भट्ट कंपनी और इनके साथ काम करने वाले म्यूजिशियंस की काफी आलोचना कर रहे हैं.यहां बता दूं कि साल 1991 में आई महेश भट्ट की फ़िल्म सड़क म्यूजिकल हिट थी और उस फिल्म में संजय दत्त,पूजा भट्ट के साथ ही बाकी कलाकारों पर फिल्माए गाने बेहद खूबसूरत और कर्णप्रिय थे.ऐसे में लोगों की उम्मीदें सड़क 2 के गानों से भी काफी ज्यादा है.लेकिन अब इश्क कमाल गाने पर चोरी के आरोप लगने के बाद सारा खेल बिगड़ गया है.इस मामले में सुनीलजीत को छोड़ किसी ने कुछ नहीं बोला है.

@foxstarhindi What do we do about this. Copied from a song that I produced in Pakistan and launched in 2011.Let’s talk guys. pic.twitter.com/BtKAHzPYMI

— Shezan Saleem a.k.a JO-G (@ssaleemofficial) August 12, 2020

इश्क कमाल की धुन चोरी की है?
बीते हफ्ते इश्क कमाल गाने को लेकर पूजा भट्ट और महेश भट्ट ने सुनीलजीत की काफी सराहना करते हुए कहा था कि चंडीगढ़ के एक म्यूजिक टीचर ने क्या खूब गाना कंपोज किया है, जिसे सुनकर दिल को तसल्ली मिलती है. पूजा भट्ट ने तो सुनीलजीत की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा था कि सुनीलजीत बिना किसी पैरवी के महेश भट्ट के ऑफिस में आए थे और उन्हें अपना गाना सुनाया था, जो कि भट्ट साहब को काफी पसंद आया और उन्होंने अपनी फ़िल्म सड़क 2 में इस गाने को जगह दी. महेश भट्ट ने भी इश्क कमाल गाने के लिए सुनीलजीत की काफी सराहना की. लेकिन अब सुनीलजीत पर म्यूजिक चोरी के आरोप लगने के बाद खेल ही बिगड़ गया है. जिस धुन को सुनकर लोग खुश हो रहे थे, वो धुन पड़ोसी मुल्क के एक गाने की है, यह सोचकर और जानकर लोग सोशल मीडिया पर महेश भट्ट के साथ ही सुनीलजीत पर भी गुस्सा निकाल रहे हैं.

म्यूजिक चोरी की बात फ़िल्म इंडस्ट्री में नई नहीं है
ऐसा पहली बार नहीं है, जब भट्ट कैंप की फ़िल्म या उनके साथ काम करने वाले म्यूजिक डायरेक्टर पर म्यूजिक चोरी के आरोप लगे हैं. भट्ट कैंप के साथ काम करने वाले पॉप्युलर म्यूजिक डायरेक्टर प्रीतम पर अक्सर म्यूजिक चोरी के आरोप लगते रहते हैं. सलीम सुलेमान और अनु मलिक समेत फ़िल्म इंडस्ट्री के ऐसे कई फेमस म्यूजिक डायरेक्टर हैं, जिनपर म्यूजिक चुराने या म्यूजिक से प्रभावित होकर अपनी धुन बनाने के आरोप लगे हैं, साहित्य चोरी की तरह ही म्यूजिक चोरी से भी फ़िल्म इंडस्ट्री काफी विवादों में रही है. अब एक बार फिर भट्ट कैंप पर म्यूजिक चोरी के आरोप लगे हैं, वो भी नए म्यूजिक डायरेक्टर पर. आने वाले समय में पता चल पाएगा कि सुनीलजीत पर म्यूजिक चोरी के आरोपों में कितनी सच्चाई है और इस विवाद का अंजाम क्या होगा.

क्या होगा अंजाम सड़क 2 का?
महेश भट्ट द्वारा निर्देशित फ़िल्म सड़क 2 डिज्नी हॉटस्टार पर 28 अगस्त को रिलीज हो रही है.इस फ़िल्म में संजय दत्त, आलिया भट्ट, पूजा भट्ट, आदित्य रॉय कपूर, मकरंद देशपांडे, गुलशन ग्रोवर, जीशू सेनगुप्ता और प्रियंका बोस प्रमुख भूमिका में हैं. इस फ़िल्म का ट्रेलर बुधवार 12 अगस्त को लॉन्च हुआ. ट्रेलर लॉन्च के बाद सड़क 2 की जो बदनामी शुरू हुई, वो लगातार बढ़ती ही जा रही है. सुशांत सिंह राजपूत को लेकर पूर्व में आलिया भट्ट द्वारा की गई टिप्पणी और नेपोटिज्म पर बहस के साथ ही सुशांत मामले में महेश भट्ट का नाम सामने आने के बाद फैंस न सिर्फ भट्ट फैमिली से नाराज हैं, बल्कि सड़क 2 का बॉयकॉट भी कर रहे हैं. सड़क 2 के ट्रेलर का लोगों ने ऐसा हाल बना दिया कि वह यूट्यूब हिस्ट्री में सबसे ज्यादा नापसंद किया जाने वाला ट्रेलर बन गया है. हालांकि, इस बारे में पूजा भट्ट का अलग ही मानना है. उन्होंने कहा है कि पिछले 24 घंटे से ज्यादा समय से सड़क 2 के चाहने वाले और नफरत करने वालों ने इसे यूट्यूब पर नंबर 1 ट्रेंड बना दिया है. इसका मतलब यही हुआ कि पूजा गर्दिश में भी सितारे ढूंढ रही हैं.
Sadak 2:ट्रेलर रिलीज के बाद फूटा लोगों का गुस्सा,महेश भट्ट पर लगाए हिंदू विरोध के गंभीर आरोप
महेश भट्ट (Mahesh Bhatt) की अपकमिंग फिल्म `सड़क 2 (Sadak 2)`तो पहले से ही नेपोटिज्म विरोधियों के निशाने पर थी.
फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट (Mahesh Bhatt) पर पहले से ही हिंदू विरोधी होने के आरोप लगते रहे हैं. वहीं, उनकी अपकमिंग फिल्म ‘सड़क 2 (Sadak 2)’ तो पहले से ही नेपोटिज्म विरोधियों के निशाने पर थी. ऐसे में मूवी की कहानी और ट्रेलर के सामने आने के बाद हिंदुत्व समर्थक नाराज हो गए हैं. वो ‘सड़क 2’ के बहिष्कार की मांग कर रहे हैं.
ये ट्वीट तब किया गया था, जबकि ‘सड़क 2’ का ट्रेलर भी रिलीज नहीं किया गया था.12 अगस्त को तड़के ही जब संजय दत्त के फैंस उनके लंग कैंसर की खबर से चिंता ही जता रहे थे,भट्ट साहब ने मौका देखकर मूवी का ट्रेलर भी लॉन्च कर दिया. ट्रेलर में संजय दत्त ही छाए हुए हैं. उससे साफ लगता है कि संजय दत्त की बीमारी की खबर को भी भुनाने की कोशिश की गई है,लेकिन हिंदूवादियों के नाराज होने की वजह दूसरी है और वो है विलेन के तौर पर एक बाबा और उसका आश्रम दिखाया जाना.मकरंद देशपांडे इस मूवी में विलेन के तौर पर हैं और ट्रेलर में उनका आश्रम औऱ उनके शिष्य गंदे कामों में लिप्त दिखाए गए हैं.हालांकि उनको भगवा कपड़े पहनाने से परहेज बरता गया है, एक साधु से ज्यादा तांत्रिक के वेश में दिखाया गया है.
इस पर भी बवाल हो सकता है, क्योंकि कई अलग-अलग तरह के पंथ और पूजा अर्चना की प्रक्रियाएं सनातन परंपरा का हिस्सा रही हैं. यहां शक्ति पूजा से लेकर अघोरी तक, नागा साधुओं से लेकर आजीविकों तक, आप किसी भी पंथ, अखाड़े या पूजा प्रक्रिया का मजाक नहीं बना सकते और इसी बात को लेकर हिंदूवादी बॉलीवुड वालों से नाराज रहे हैं कि क्यों बार-बार केवल सनातन संस्कृति पर निशाना साधा जाता है, बाकी धर्म के लोगों पर उंगली उठाने से डरता रहा है बॉलीवुड? जबकि ‘सड़क 2’ तो सुशांत राजपूत की मौत के बाद वैसे ही नेपोटिज्म के चलते विरोध का सामना कर रही है. इस मूवी में न केवल सुनील दत्त के बेटे संजय दत्त हैं, बल्कि पूजा भट्ट के बाद महेश भट्ट की दूसरी बेटी आलिया भट्ट है और रॉय कपूर परिवार के आदित्य रॉय कपूर, सभी नेपोटिज्म के सिंबल हैं.
संजय दत्त और पूजा भट्ट की मूवी ‘सड़क’ 1991 में आई थी और सुपरहिट हुई थी. इस मूवी में विलेन का किरदार एक रेडलाइट एरिया में जिस्म का कारोबार करने वाले ‘महारानी’ का था, जिसे उस वक्त के मशहूर विलेन सदाशिवराव अमरापुरकर ने निभाया था. उनका किरदार इतना जबरदस्त था कि उसी तरह के किरदार की जरूरत इसके सीक्वल में भी सोची गई और महेश भट्ट को कुछ नहीं सूझा तो आश्रम वाले बाबा का ही एक किरदार गढ़ दिया. यही बात हिंदूवादियों को नागवार गुजरी है. ट्रेलर में दिखाया गया है कि कैसे ट्रेवल बिजनेस चलाने वाला संजय दत्त पूजा भट्ट की मौत के बाद वो बिजनेस बंद कर देता है, लेकिन पूजा का हाथों हुई आलिया भट्ट की आखिरी बुकिंग को पूरा करने के लिए वो उसको लेकर चल देता है, रास्ते में अपने ब्बॉयफ्रेंड को लेती हैं आलिया और फिर दोनों उस बाबा के जाल में फंस जाते हैं, जिनसे संजय दत्त लोहा लेते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *