प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की प्राथमिकताओं पर ही रहेगा जोर

देहरादून 31 जुलाई। प्रदेश के नवनियुक्त मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने शुक्रवार को मुख्य सचिव का पदभार ग्रहण करते प्रेस प्रतिनिधियों से वार्ता में कहा कि प्रदेश में प्रधानमंत्री के निर्देशन में संचालित केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यो,ऑल वेदर रोड,ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना,मुख्यमंत्री की घोषणाओं के अनुरूप विकास का लाभ समाज के अन्तिम व्यक्ति तक पहुंचाने,गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा को मूर्त रूप देने,रिवर्स पलायन को लेकर हो रहे प्रयासों को सुनिश्चित करना तथा राज्य में बसावट व रोजगार की दिशा में ठोस नीति तैयार करने,आई0टी0 क्षेत्र में मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में व्यवस्थाओं को सुढृढ करने,ई-आफिस को मूर्त रूप देने,चिकित्सा व्यवस्था सुदृढ करने जैसे मुख्यमंत्री के संकल्प को मूर्तरूप देना उनकी प्राथमिकता होगी।
मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि वर्तमान में देश के प्रधानमंत्री के निर्देशन में अनेक योजनाओं पर कार्य चल रहे हैं,जिनमें केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य,ऑल वेदर रोड,ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल परियोजना के साथ ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के जनहित में योजना को राज्य हित में समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा को मूर्त रूप देना प्राथमिकता रहेगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से दो अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से जुड़ा प्रदेश है ऐसे में सीमांत क्षेत्रों में पलायन एक बड़ी समस्या है। मुख्यमंत्री के रिवर्स पलायन को लेकर किए जा रहे प्रयासों को सुनिश्चित करना तथा राज्य में बसावट व रोजगार की दिशा में नीति तैयार करने पर उनका फोकस रहेगा।
मुख्य सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे यह हमारा प्रयास रहेगा। साथ ही राज्य में कर्मचारी हित में उनकी समस्याओं का समाधान करने की दिशा में कर्मचारी संगठनों के साथ बातचीत कर रास्ता निकालने का उनका हमेशा प्रयास रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट ऑल वेदर रोड़ पर हमारी प्राथमिकता रहेगी। कोरोना वैश्विक महामारी से राज्य को बचाना एवं अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की दिशा में सामूहिक सहयोग के साथ कार्य किया जायेगा।
मुख्य सचिव ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में व्यवस्थाएं और सुदृढ़ करने के प्रयास किये जायेंगे। ई-ऑफिस से पूरे सिस्टम को जोड़ने का प्रयास तेजी से होगा। प्रदेश के विभिन्न कार्यालयों को इण्टरनेट के माध्यम से जोड़ने का प्रयास प्राथमिकता पर रहेगा। प्रदेश में पहाड़ों पर हो रहे पलायन को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाना शीर्ष प्राथमिकता रहेगी।
उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में चिकित्सा व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री के प्राथमिकता वाली योजनाओं के लिए संसाधन जुटाना,आय के संसाधनों में बढ़ोतरी के विकल्प तलाश कर कार्यो को पूरा कराया जायेगा। वर्तमान में मीडिया मात्र जनसंचार का माध्यम न रहकर जनहित में एक बड़ी ताकत के रूप में उभरा है राज्य हित में वे मीडिया से भी सहयोग की अपेक्षा रखते हैं।

प्रेरक रही उत्पल कुमार सिंह की कार्यप्रणाली


शुक्रवार को सचिवालय स्थित वीर चन्द सिंह गढ़वाली सभागार में आई.ए.एस ऐसोसिएशन ने निवर्तमान मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह को भावभीनी विदाई दी।
इस अवसर पर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने निवर्तमान मुख्य सचिव सिंह को सपरिवार दीर्घायु एवं स्वस्थ जीवन की शुभकामनाए दी । उन्होंने उनके साथ छात्र जीवन के संस्मरण सुनाते हुए उनकी कार्यशैली सराही। मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि उत्पल कुमार सिंह की कार्यशैली देख उन्हें भी अपनी मान्यताएं परिवर्तित करनी पड़ी। उन्होंने अधिकारियों से उनकी स्वप्रेरणा से कार्य करने की शैली को अपनाने को कहा। उन्होंने कहा कि निवर्तमान मुख्य सचिव की प्रत्येक विषय में गहन जानकारी थी। युवा अधिकारियों के लिए वे इसलिए भी आदर्श है कि जन कल्याण के लिए कभी भी वे शारीरिक और मानसिक रूप से थकान महसूस नही करते थे।
उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर समिट में दिया गया उनका वक्तव्य प्रेरणादायी था। उनमें अथक परिश्रम और तन्मयता से कार्य करने की सामर्थ्य है जो युवा अधिकारियों के लिए प्रेरणादायक है। उनके तीन वर्ष के मुख्य सचिव के सफलतम कार्यकाल में सीख मिली कि किसी भी कार्य की सफलता के लिए मानसिक एकाग्रता आवश्यक है। सिंह का किसी भी विषय में परीक्षण बहुत ही सूक्ष्म होता था।
मुख्य सचिव ने कहा कि उनकी कार्य प्रवृति से शिक्षा मिलती है कि कार्य सर्वोत्तम योग है । उन्होंने पूर्व मुख्य सचिव से उनके अनुभवों का लाभ राज्य को आगे भी मिलते रहने की अपेक्षा की और अपील की कि वे उत्तराखण्ड शासन को अपना मार्गदर्शन देते रहें। उन्होंने कहा कि सिंह हमेशा प्रशासनिक क्षेत्र में युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत रहेंगे।
निवर्तमान मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि उनका मानना है कि दोतरफा (टू वे चैनल) संवाद की कार्यप्रणाली बेहतर है। भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रति सामान्य जन का बहुत विश्वास है और उत्तराखण्ड शासन के इस सेवा से जुड़े अधिकारियों में उन्होंने कार्यक्षमता देखी है और उन्होंने उसे आगे बढ़ाने के लिए प्रयास किये जिसका राज्य की प्रगति में लाभ देखा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह टीम मुख्य सचिव ओम प्रकाश को प्रदेश की प्रगति में और तेजी से सहयोग प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य गठन की स्थापना के समय प्रदेश के समक्ष काफी चैलेंज थे किन्तु यहां तैनात अधिकारियों के मेहनत एवं लगन के कारण राज्य की प्रगति बेहतर रही तथा हिमालय राज्यों की तुलना में हम कई राज्यों से बेहतर रहे।
उन्होंने कहा कि उन्हें प्रशासनिक सेवा में विभिन्न पदों पर रहते हुए कार्य का सौभाग्य मिला। उनका कहना था कि सामान्य जन को प्रशासनिक सेवा के प्रति आस्था रहती है किन्तु जब हम उनसे दूरी बनाते हैं तो उन्हें कष्ट होता है। प्रयास यह होना चाहिए कि सामान्य जन की समस्या से सीधे जुड कर दूरी पाटने का प्रयास करें । इससे जनता में प्रशासनिक सेवा के प्रति विश्वास बढ़ता है। उनका कहना था कि जनता से जुड़ कर कार्य करने की शैली से जनता में विश्वास बनता है।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, आई.ए.एस एसोसियेशन की अध्यक्षा श्रीमती मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव वन आनन्द वर्धन,सचिव वित्त अमित नेगी, सचिव आई0टी0 आर0के0सुधांशु,सचिव गृह नितेश झा, सचिव श्रीमती राधिका झा ने भी निवर्तमान मुख्य सचिव के कार्यकाल को सुनहरा बताते हुए अनेक उद्धरण सुनाते हुए उनकी कार्यशैली की प्रशंसा की।
कार्यक्रम का संचालन आई.ए.एस एसोसिएशन के सचिव शैलेश बगोली ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *