शुक्रवार 995 नये कोरोना केस में 291दून, 271 ऊधमसिंह नगर से, प्रदेश हुआ 29 हजार पार

उत्तराखंड में 29 हजार के पार कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, 995 नए मामले आए सामने

देहरादून 11 सितंबर। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते ही जा रहे हैं। शुक्रवार को भी 995 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें सबसे अधिक 281 देहरादून से हैं। इसके अलावा 271 ऊधमसिहं नगर, 161 हरिद्वार, 110 नैनीताल, 43 पौड़ी गढ़वाल, 39 पिथौरागढ़, 29 टिहरी गढ़वाल, 17 उत्तरकाशी, 14 अल्मोड़ा, 10 चंपावत, आठ चमोली, सात बागेश्व और पांच रुद्रप्रयाग से हैं। वहीं, 645 ठीक हुए हैं, जबकि 11 की मौत हुई है। प्रदेश में अब संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 29221 हो गई है। इनमें से 19428 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 388 की मौत हो चुकी है। वर्तमान में 9294 मामले एक्टिव हैं। इसके अलावा 111 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं।

कोरोना संक्रमित ढाई साल के बच्चे की मौत

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कोरोना संक्रमित एक ढाई साल के बच्चे की मौत हो गई है। बच्चे को कोटद्वार अस्पताल से दून रेफर किया गया था। देर रात अस्पताल में वेंटिलेटर पर बच्चे की मौत हो गई। गाइडलाइन के मुताबिक पुलिस प्रशासन और अस्पताल कर्मचारियों ने उसको शव को सुपुर्द ए खाक करवा दिया है। डिप्टी एमएस डॉ एनएस खत्री ने बताया कि बच्चे के मल्टी ऑर्गन फैलियर होने की वजह से उसकी मौत हो गई। अस्पताल में जब बच्चे को लाया गया तो उसकी हालत बेहद नाजुक थी। सांस लेने में उसे कठिनाई हो रही थी। वहीं, केदारनाथ के शीतकालीन गति स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में एक कर्मचारी कोराना संक्रमित पाया गया है, जिसके बाद कार्यालय को एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है।

भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष अस्‍पताल में भर्ती

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को दून अस्पताल में भर्ती किया गया है। बता दें कि आठ सितंबर उन्‍हें अस्पताल से डिस्चार्ज को किया गया था। कोरोना की पुष्टि होने के बाद वह 10 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहे थे। लो ब्लड प्रेशर, शारीरिक कमजोरी के कारण फिर से आज उन्‍हें अस्पताल में भर्ती किया गया।

भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल कोरोना पॉजिटिव, खुद को घर में किया आइसोलेट

झबरेड़ा से भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल, उनका गनर, ड्राइवर और भतीजी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उनकी रिपोर्ट कल ही आई है। उन्होंने खुद को रुड़की स्थित आवास पर आइसोलेट कर लिया है। उनके परिवार से चार और लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आनी है। विधायक को 5 दिन पहले बुखार आया था। इसके बाद उन्होंने अपना कोरोना टेस्ट कराया था।

प्रदेश में 11 संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। एम्स ऋषिकेश में छह, महंत इंद्रेश हास्पिटल में तीन और सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में दो संक्रमित मरीजों ने दम तोड़ा है। इन्हें मिला कर प्रदेश में मरने वालों की संख्या 388 हो गई है। वहीं, 645 मरीजों को इलाज के बाद घर भेजा गया है। अब तक प्रदेश में 19428 मरीज ठीक हो चुके हैं।

  • घट रही रिकवरी दर

    प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं। इसकी तुलना में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या कम है। प्रदेश की रिकवरी दर कम हो रही है और संक्रमण दर बढ़ रही है। वर्तमान में रिकवरी दर 66.49 प्रतिशत और संक्रमण दर 6.11 प्रतिशत पहुंच गई है। संक्रमित मामले दोगुने होने की दर 24.80 दिन है।

प्रदेश में कोविड सैंपल जांच दरें कम करने की तैयारी
प्रदेश में निजी पैथोलॉजी लैब में होने वाले कोविड सैंपल जांच की दरें कम हो सकते हैं। टेस्ट किट की कीमत घटने से शासन स्तर पर सैंपल जांच के रेट कम करने की प्रक्रिया चल रही है। जांच की दरें कम होने से कोरोना संदिग्ध लक्षण वाले लोगों को निजी लैब से जांच कराने में राहत मिलेगी।

प्रदेश सरकार ने 26 जून को निजी पैथोलॉजी लैब में कोविड सैंपल जांच के रेट तय किए थे। जिसमें सरकारी व निजी अस्पतालों से भेजे जाने वाले एक सैंपल की जांच दो हजार रुपये जीएसटी समेत और लैब की ओर से स्वयं लिए जाने वाले सैंपल की जांच के लिए 2400 रुपये प्रति सैंपल तय की थी।

वर्तमान में आरटी-पीसीआर टेस्ट किट और वीटीएम किट की कीमतें घटी है। उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्यों ने सैंपल जांच के रेट घटाकर 1600 रुपये प्रति सैंपल कर दिए हैं। अब प्रदेश सरकार भी सैंपल जांच रेट कम करने की तैयारी कर ही है। प्रभारी सचिव डॉ. पंकज कुमार पांडेय का कहना है कि कोविड सैंपल जांच की दरों को कम करने पर विचार किया जा रहा है।

कर्मचारी संक्रमित, ओंकारेश्वर मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद
पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर कार्यालय के एक कर्मचारी की कोरोना रिपोर्ट शुक्रवार को पॉजिटिव आई है, जिसके बाद देवस्थानम बोर्ड के कार्यालय को एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है। वहीं, मंदिर में भी श्रद्धालुओं की पूजा-अर्चना पर रोक लगा दी गई है। श्रद्धालु बाहर गेट से ही दर्शन करेंगे। जबकि मंदिर के भीतर केवल पुजारी ही पूजा-अर्चना करेंगे। वहीं नगर पंचायत द्वारा मंदिर परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा है।

बीते 8 सितंबर को मंदिर कार्यालय का एक कर्मचारी देहरादून से पहुंचा था। कर्मचारी ने स्वयं ही अपना सैंपल देकर जांच कराई, जिसमें वह संक्रमित मिला। शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा उसे कोटेश्वर स्थित माधवाश्रम अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।

संक्रमण के खतरे को देखते हुए देवस्थानम बोर्ड के ऊखीमठ कार्यालय को एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है। साथ ही मंदिर में श्रद्धालुओं की आवाजाही भी रोक लगा दी गई है। देवस्थानम् बोर्ड के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि संक्रमित कर्मचारी के संपर्क में आए अन्य कर्मचारियों के सैंपल स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा पांचवें दिन लिए जाएंगे। साथ ही उन्हें सात दिन के क्वारंटीन में रखा गया है।

एहतियात के तौर पर मंदिर को एक सप्ताह के लिए बंद किया गया है। इस दौरान श्रद्धालुओं के पूजा-अर्चना पर रोक लगाई गई है। सिर्फ पुजारी ही मंदिर में पूजा-अर्चना कर सकेंगे। इधर, जिले में कोरोना संक्रमण के पांच और केस आए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। सीएमओ डा. विंधेश कुमार शुक्ला ने बताया कि सभी संक्रमितों की कांटेक्ट व ट्रेवल हिस्ट्री की जानकारी प्राप्त की जा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *