5 लोगों की मौत मामले में राकेश वर्मा गिरफ्तार,

पुलिस ने पांच लोगों की हत्या-आत्महत्या मामले में आरोपी राकेश वर्मा को गाजियाबाद के मोहन नगर से गिरफ्तार किया है.
गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के चर्चित 5 लोगों की हत्या-आत्महत्या मामले में पुलिस ने आरोपी राकेश वर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. थाना इंदिरापुरम पुलिस ने ये गिरफ्तारी की है. वहीं, पुलिस ने इस मामले के बारे में जानकारी देने के लिए बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की. पुलिस ने पांच लोगों की हत्या-आत्महत्या मामले में आरोपी राकेश वर्मा को गाजियाबाद के मोहन नगर से गिरफ्तार किया.
पुलिस के मुताबिक, राकेश वर्मा ने गुलशन को बड़े व्यापार का सपना दिखाकर उससे करीब 1.5 करोड़ रुपये ले लिए और ये पैसा प्रॉपर्टी में लगवा दिया. 2018 में राकेश वर्मा और उसकी मां ने गुलशन के नाम से ली गई प्रॉपर्टी को धोखाधड़ी से अपने नाम करवा लिया. जिसके बाद गुलशन ने अपने पैसे मांगने शुरू कर दिए. लगातार रुपये मांगने पर राकेश वर्मा ने कई चेक गुलशन को दिए, जो बाउन्स हो गए. जिसके बाद गुलशन का पूरा परिवार डिप्रेशन में आ गया था. गुलशन ने कई लोगों से पैसे उधार लेकर भी राकेश वर्मा के कहने पर व्यापार में लगाये थे. जिसके बाद उधार देने वालों ने गुलशन से पैसे मांगने शुरू कर दिए और बार-बार उस पर दवाब बनाने लगे.
पुलिस के मुताबिक, लोगों के दवाब और राकेश वर्मा के पैसे न लौटाने के कारण गुलशन ने अपने 15 साल के बेटे की गला रेत कर और बेटी की रस्सी से गला घोंट कर हत्या कर दी. इसके बाद घर में मौजूद गुलशन, उसकी पत्नी और महिला बिज़नेस पार्टनर ने 8वीं मंजिल से छलांग लगा दी. पुलिस को राकेश वर्मा के खिलाफ गुलशन के घर से एग्रीमेंट की कॉपी समेत कई अन्य सबूत मिले हैं. पुलिस इस मामले में राकेश वर्मा और उसकी मां के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. गाजियाबाद (Ghaziabad) के इंदिरापुरम (Indirapuram) में मंगलवार को घटी दिल दहला देने वाली घटना में आरोपी राकेश वर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने पांच लोगों की हत्या-आत्महत्या मामले में आरोपी राकेश वर्मा को गाजियाबाद के मोहन नगर से गिरफ्तार किया है. दोपहर ढाई बजे इस पूरे मामले पर पुलिस प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जानकारी देगी.
राकेश वर्मा ने की थी डेढ़ करोड़ की धोखाधड़ी
पांच लोगों की हत्या-आत्महत्या मामले में गाजियाबाद पुलिस ने आरोपी राकेश वर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक राकेश वर्मा ने गुलशन को बड़े व्यापार का सपना दिखा कर उससे करीब 1.5 करोड़ रुपये ले लिए और ये पैसा प्रॉपर्टी में लगवा दिया. साल 2018 में राकेश वर्मा और उसकी मां ने गुलशन के नाम से ली गई प्रॉपर्टी को धोखाधड़ी से अपने नाम करवा लिया. जिसके बाद गुलशन ने अपने पैसे मांगने शुरू कर दिए. लगातर रुपये मांगने पर राकेश वर्मा ने कई चेक गुलशन को दिए जो बाउन्स हो गए.
गाजियाबाद एसएसपी सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि इतने बड़े नुकसान के बाद गुलशन के परिवार को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा जिससे पूरा परिवार डिप्रेशन में आ गया था. गुलशन ने कई लोगों से पैसे उधार लेकर राकेश वर्मा को व्यापार में लगाने के लिए दिए थे. ऐसे में उधार देने वालों ने भी गुलशन से पैसे मांगने शुरू कर दिए और बार-बार उस पर दवाब बनाने लगे.
पुलिस ने बताया कि देनदारों के दवाब और राकेश वर्मा के पैसे न लौटने के कारण मानसिक रूप से परेशान गुलशन ने मंगलवार की सुबह अपने 15 साल के बेटे की गला रेत कर और बेटी की रस्सी से गला घोंट कर हत्या कर दी. फिर घर मे मौजूद गुलशन उसकी पत्नी और महिला बिजनेस पार्टनर ने बालकनी में कुर्सी लगाकर 8वीं मंजिल से एक साथ छलांग लगा दी.
पुलिस को राकेश वर्मा के खिलाफ गुलशन के घर से अग्रीमेंट की कॉपी समेत कई अन्य सबूत मिले हैं. इसलिए पुलिस इस मामले में राकेश वर्मा और उसकी मां के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.
आपको बता दें कि इंदिरापुरम के वैभव खंड स्थित फ्लैट की दीवारों पर एक सुसाइड नोट लिखा मिला जसमें आर्थिक तंगी के साथ-साथ राकेश वर्मा को हत्या-आत्महत्या के पीछे का कारण बताया गया था. जिसके बाद मामले की छानबीन के लिए गाजियाबाद पुलिस ने तीन टीमें बनाईं और राकेश वर्मा की तलाश में जुट गई.
उधर, इस पूरे मामले में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. अपार्टमेंट की आठवीं मंजिल से छलांग लगाने वालों में दो महिलाएं और गुलशन वासुदेव नाम का एक पुरुष था. बताया गया कि दोनों महिलाएं गुलशन की पत्नी थीं. बाद में पता चला कि दूसरी महिला संजना गुलशन की मैनेजर थी. गुलशन जीन्स कारोबार करता था जिसे संजना देखती थी. हालांकि पुलिस ने जब संजना के परिवार वालों से बात की तो मामला कुछ और ही सामने आया.
मुस्लिम परिवार से ताल्लुक रखने वाली संजना का शादी से पहले नाम गुलशन था. संजना के भाई फिरोज ने पुलिस को बताया कि डेढ़ साल पहले उसकी बहन गुलशन ने जीन्स कारोबारी गुलशन वासुदेव से शादी कर ली और अपना नाम बदलकर संजना रख लिया. फिरोज ने बताया कि शादी करने के बाद वह परिवार के साथ रहने लगी हालांकि पहले से ही शादीशुदा और दो बच्चों के पिता गुलशन वासुदेव के परिवार को दोनों की शादी के बारे में जानकारी नहीं थी.
इस मामले में पुलिस ने 302 ओर 306 के तहत केस दर्ज किया है. पुलिस अभी भी पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है. बुधवार दोपहर तक रिपोर्ट आने की संभावना है जिसके बाद और भी खुलासे हो सकते हैं.
क्या है पूरा मामला-
गाजियाबाद के इंदिरापुरम इलाके के वैभव खंड से मंगलवार (3 दिसंबर) सुबह एक अपार्टमेंट की आठवीं मंजिल से तीन लोगों ने छलांग लगा दी. छलांग लगाने वालों में एक पति और उसकी दो पत्नियां शामिल थीं. इनमें से पति और एक पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दूसरी पत्नी को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. उधर, फ्लैट के भीतर दो बच्चों और एक खरगोश की लाश भी मिली थी. इसके साथ ही घर की दीवारों पर सुसाइड नोट लिखा था जिसपर हत्या-आत्महत्या का आरोप राकेश वर्मा पर लगाया गया. इसके अलावा कुछ बाउंस चेक और नोट भी दीवार पर चिपकाए गए थे. फ्लैट से सल्फास की गोलियां भी मिली थीं. इस पूरी घटना ने इलाके में सनसनी फैला दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *