योगी आदित्यनाथ से मिल अलीगढ़ के कश्मीरी छात्र-छात्राएं बेहद खुश

खास बातें
मुख्यमंत्री बोले- उत्तर प्रदेश में मैं आपके अभिभावक के रूप में हूं, निसंकोच अपनी बात रखें
स्कॉलरशिप और कश्मीरी छात्रों की फीस से जुड़ी समस्या में नहीं आने देंगे दिक्कत
समय-समय पर स्थानीय प्रशासन और अधिकारियों के साथ हो छात्रों का संवाद
कश्मीरी विद्यार्थियों से मुख्यमंत्री योगी बोले, उत्तर प्रदेश में आपके लिए मेरी भूमिका एक गार्जियन की तरह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन सभी को आश्वासन दिया कि वह उत्तर प्रदेश में जल्द ही ऐसा सिस्टम डेवलप करेंगे जिसमें यहां रहने वाला हर कश्मीरी छात्र एक-दूसरे के संपर्क में रहे।
लखनऊ,। ताला नगरी अलीगढ़ के विभिन्न संस्थानों में अध्ययनरत कश्मीर के छात्र-छात्राओं का एक दल आज यानी शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कश्मीरी छात्र-छात्राओं को सुविधा और सुरक्षा मुहैया कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। सीएम ने कहा कि हम एक दूसरे से संवाद कर उनके अनुभव को शेयर करके बहुत कुछ सीख सकते हैं। अगर कश्मीरी छात्रों की स्कॉलरशिप और फीस को लेकर कोई भी दिक्कत आती है तो राज्य सरकार इसकी व्यवस्था करेगी।
मुख्यमंत्री ने ये बातें शनिवार को अपने सरकारी आवास पर कश्मीरी छात्र-छात्राओं के साथ संवाद स्थापित करने के दौरान कहीं। उत्तर प्रदेश के अलग-अलग शिक्षण संस्थानों में पढ़ रहे करीब 65 छात्र-छात्राओं के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बातचीत की।
उन्होंने कहा कि कश्मीरी छात्र-छात्राओं के लिए राज्य में मेरी भूमिका एक गार्जियन के रूप में है। इसलिए बच्चे अपनी बातों को बिना किसी संकोच के रख सकते हैं। उन्होंने कहा कि ग्रुप डिस्कशन से हमेशा अच्छे परिणाम आते हैं। समय-समय पर बच्चों और स्थानीय प्रशासन के बीच संवाद होना चाहिए, ताकि बच्चों से जुड़ी स्थानीय समस्याओं का समाधान हो सके।
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अगर कोई कश्मीरी छात्र पढ़ाई के साथ नौकरी करना चाहता है तो उसकी सुरक्षा और उसे रोजगार दिलाने की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी। कॉलेज प्लेसमेंट में भी छात्रों की मदद करने का मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया। उन्होंने बालिकाओं की सुरक्षा को लेकर कड़े निर्देश दिये।सरकारी आवास पर करीब डेढ़ घंटा तक इन छात्र-छात्राओं से काफी देर तक वार्ता करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन सभी को कम समय के अंतराल पर लगातार भेंट करने का आश्वासन दिया। इसके साथ ही एक छात्रा की करीब 55 दिन से अपने घर पर फोन से बातचीत न होने की समस्या भी दूर करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा -आप के घर के लोगों से हम बात कराएंगे।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन सभी को आश्वासन दिया कि वह उत्तर प्रदेश में जल्द ही ऐसा सिस्टम डेवलप करेंगे, जिसमें यहां रहने वाला हर कश्मीरी छात्र एक-दूसरे के संपर्क में रहे। उनसे जुड़े। इस मुलाकात बाद कश्मीरी छात्र काफी खुश नजर आए. अधिकांश छात्रों ने कहा -मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर उन्हें नजदीक से मिलने का मौका मिला। उन्हें उम्मीद है कि उनकी जो भी समस्याएं हैं, वे सुलझाने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरी मदद करेंगे।एक छात्रा इकरा ने बताया कि उसकी पिछले 55 दिनों से उसकी अपने घर कश्मीर में बातचीत नहीं हो सकी थी। इस व्यथा को जब उसने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बताया तो उन्होंने कहा कि सभी छात्रों की परिवार से बातचीत की व्यवस्था कराई जाएगी। यही नहीं,जल्द ही घर के लोगों से बातचीत का सिलसिला सामान्य होगा । इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आश्वासन दिया कि वह प्रदेश में जल्द ही ऐसा सिस्टम डेवलप करेंगे, जिसमें यहां रहने वाला हर कश्मीरी छात्र एक दूसरे के संपर्क में रहे, उनसे जुड़े।मुख्यमंत्री ने संवाद के दौरान छात्रों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि अनुच्छेद- 370 हटने से जम्मू-कश्मीर के विकास में तेजी आएगी। इसका कोई नकारात्मक प्रभाव वहां के लोगों पर नहीं पड़ेगा।
मुख्यमंत्री ने बच्चों को आश्वस्त करते हुए कहा कि आज हो रहे संवाद में जो भी बात या समस्या निकलेगी, उसे हम दूर करने का प्रयास करेंगे। सबसे जरूरी है संवाद होना चाहिए। उन्होंने छात्रों को आश्वासन दिया कि मेरे साथ जो भी बात आप कर रहे हैं, वह गोपनीय रहेगी और संवाद के द्वारा हम अच्छा माहौल बना सकते हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकतांत्रिक माहौल में संवाद सबसे अधिक जरूरी है। लोकतंत्र का मतलब सबका विकास है। बेहतर कल के लिए आज यह प्रयास किया जा रहा है। प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर स्थित शिक्षण संस्थनों में छात्र पढ़ रहे हैं। उनके साथ समय-समय पर संवाद करुंगा और उनकी समस्या को सुलझाने का प्रयास करूंगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज आप पढ़ाई कर रहे हैं, कल आप प्रशासनिक नौकरी के लिए भी उत्तर प्रदेश आ सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि उत्तर प्रदेश को आप जानें।
मुख्यमंत्री ने छात्रों को उत्तर प्रदेश में ढाई साल के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में हुए विकास कार्यों की भी जानकारी दी। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश की बदली हुई तस्वीर को भी छात्रों के सामने रखा।
लखनऊ पधारे इन करीब 70 कश्मीरी छात्र-छात्राओं को पर्यटन विभाग की तरफ से लखनऊ दर्शन की व्यवस्था भी की गई। प्रमुख सचिव पर्यटन जितेंद्र कुमार के अनुसार इन सभी छात्रों को विधानसभा, हजरतगंज, छतर मंजिल, रेजिडेंसी, बड़ा इमामबाड़ा, रूमी गेट, घंटा घर, सतखंडा के अलावा छोटा इमामबाड़ा, अंबेडकर स्मारक घुमाने के साथ ही टुंडे का कबाब भी खिलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *