लखनऊ, । देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में जारी भारतीय जनता पार्टी के व्यापक जागरूकता अभियान में उत्तर प्रदेश में 18 जनवरी से क्षेत्रीय स्तर पर रैलियों का सिलसिला शुरू होगा। प्रदेश में छह स्थानों पर प्रस्तावित रैलियों को सफल बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने ताकत झोंक दी है। इन रैलियों में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, शिवराज चौहान, नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी एवं जेपी नड्डा उपस्थित रहेंगे। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह भी होंगे।

प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने बताया कि पहली रैली वाराणसी में 18 जनवरी को वाराणसी में काशी क्षेत्र की होगी। जिसमें केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव शामिल होंगे। 19 जनवरी को गोरखपुर की रैली में शिवराज सिंह चौहान, 20 जनवरी को कानपुर में नितिन गडकरी, 21 जनवरी को लखनऊ में गृह मंत्री अमित शाह, 22 को राजनाथ सिंह मेरठ और 23 को आगरा में ब्रज क्षेत्र की क्षेत्रीय रैली में जेपी नड्डा मौजूद होंगे।

कानपुर में 20 जनवरी को होने वाली रैली को लेकर पशोपेश जैसी स्थिति बनी है। 20 जनवरी को दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए नामांकन होगा तो कार्यक्रम में बदलाव संभव है।

नवनिर्वाचित जिला व मंडल अध्यक्षों की परीक्षा

क्षेत्रीय रैलियों को सफल बनाने के लिए संगठन ने ताकत झोंक दी है। क्षेत्रीय अध्यक्ष व प्रभारियों के अलावा प्रदेश स्तर से वरिष्ठ नेताओं को भी भेजा जा रहा है। स्थानीय जन प्रतिनिधियों के अलावा जिला व मंडल अध्यक्षों को बूथ स्तर पर बैठक करने को कहा गया है। मोर्चा व प्रकोष्ठों के पदाधिकारियों को भी लगाया गया है। सूत्रों का कहना है कि नवनिर्वाचित जिला व मंडल अध्यक्षों के लिए रैली पहली बड़ी परीक्षा होगी। जिसमें उन्हें भीड़ जुटाऊ क्षमता को दिखाना होगा।