भारी घाटे के बावजूद क्यों और कैसे चल रही हैं पेटीएम,ओला,जोमेटो जैसी ऑनलाइन कंपनियां

नॉलेज रिपोर्ट / रोज काम आने वाली ओला, जोमैटो जैसी 8 भारतीय कंपनियां 37 हजार करोड़ रुपए के घाटे में
दिलचस्प यह है कि ये कंपनियां देश में करीब 20-40% की वार्षिक दर से अपना कारोबार और ब्रैंड वैल्यू भी बढ़ा रही हैं
ऑनलाइन फूड मुहैया कराने वाली जोमैटो का 2014-15 में राजस्व 36.12 करोड़ था, इस साल कंपनी का घाटा 37.17 करोड़ रुपए रहा
2013-14 में ओयो को महज 84 लाख रु. घाटा हुआ था, 2017-18 में कुल घाटा बढ़कर करीब 1367 गुना यानी 1148.22 करोड़ हो गया
नई दिल्ली/मुंबई (धर्मेन्द्र सिंह भदौरिया, साथ में फाइनेंस एक्सपर्ट्स). अगर आप जोमैटो से खाना मंगवाते हैं, ऑफिस के लिए ओला कैब करते हैं, भुगतान पेटीएम से किया है, मेकमाय ट्रिप पर छुटि्टयां प्लान कर रहे हैं, होटल ओयोपर सर्च कर रहे हैं, फिल्म देखने के लिए बुक माई शो से टिकट करवा रहे हैं, बिग बास्केट से किराना ऑर्डर कर रहे हैं और साथ ही ऑनलाइन शॉपिंग के लिए कपड़े फ्लिपकार्ट से खरीद रहे हैं, तो इस तरह आपने दिनभर में 8 ऑनलाइन कंपनियों की सेवाएं लीं।
चौंकाने वाली बात यह है कि तेजी से बढ़ रही इन 8 ऑनलाइन कंपनियों का सामूहिक कुल घाटा अभी 36 हजार 761 करोड़ रुपए से अधिक है। दिलचस्प यह है कि ये कंपनियां देश में करीब 20-40 फीसदी की वार्षिक दर से अपना कारोबार और ब्रैंड वैल्यू भी बढ़ा रही हैं। वर्ष दर वर्ष ये कंपनियां जहां ग्राहक संख्या और राजस्व बढ़ा रही हैं, नया निवेश भी हासिल करती जा रही हैं।
कंपनियों का घाटा भी बढ़ रहा
इसे इस उदाहरण से समझ सकते हैं। ऑनलाइन फूड मुहैया कराने वाली जोमैटो का वर्ष 2014-15 में राजस्व 36.12 करोड़ था। इसी वर्ष कंपनी का घाटा 37.17 करोड़ रुपए रहा। पांच साल में कंपनी का राजस्व यूं तो करीब 37 गुना बढ़कर 1,350 करोड़ से अधिक हो गया, लेकिन घाटा 570 करोड़ रुपए से अधिक रहा। विशेषज्ञों के मुताबिक कम से कम अगले पांच साल तक देश में ऑनलाइन कंपनियाें का कारोबार घाटे में ही चलता रहेगा। पीडब्ल्यूसी के पार्टनर एंड लीडर डील स्ट्रैटजी संकल्प भट्‌टाचार्य ने कहा कि ऑनलाइन कंपनियों के प्लेटफाॅर्म्स पर अाक्रामक रूप से डिस्काउंट चलता है साथ ही डिलीवरी, वेयर हाउिसंग और कारोबार का विस्तार करने पर लगातार इनवेस्टमेंट भी हो रहा है। भट्‌टाचार्य कहते हैं कि लेकिन अभी ये कंपनियां फायदा नहीं बना पा रही हैं। कंपनियों की कोशिश ग्राहकों के व्यवहार में बदलाव लाकर उसे अपने ब्रांड से जोड़े रखने की है। अलीबाबा, सॉफ्ट बैंक, टाइगर ग्लोबल समेत सात आठ पुराने निवेशक देश में कंपनियों में निवेश कर रहे हैं और वे पैसा लगाते रहेंगे। ऐसी कंपनियों को फायदे में आने में अभी करीब चार से पांच साल और लगेंगे, इस बीच ग्राहकों को फायदा होता रहेगा।
फिर कंपनियां लगातार बढ़ते घाटे के बावजूद कारोबार को क्योंबढ़ा रही हैं? यह पूछने पर ई-कॉमर्स कंपनियों को सलाह देने वाली कंपनी टैक्नोपैक कंसल्टिंग के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट अंकुर बिसेन कहते हैं कि ऑनलाइन बाजार को लगा कि ढांचागत ऑफलाइन की कमी को पूरा करने में वे सक्षम हैं। इसलिए आेयो, पेटीएम जैसी कंपनियों ने एक नई शुरुआत देश में की। ऑनलाइन कंपनियों ने पहली बार देश में वस्तुओं की नई कीमत तय (प्राइस डिस्कवरी) की। कंपनियों ने भारी डिस्काउंट देकर ग्राहकों को आकर्षित किया। ग्राहक तक पहुंचने के लिए कंपनियों को पैसा चाहिए और यह कमी वेंचर इन्वेस्टमेंट फंड से पूरी हुई। इसमें बड़ा हिस्सा विदेशी कंपनियों का रहा है। यह कॉन्सेप्ट अमेरिका, यूरोप, चीन होते हुए भारत में आया है। एक स्थिति के बाद कंपनियाें के लिए घाटा और लागत मायने नहीं रखती। एक तय धारणा या उम्मीद के आधार पर देश में कारोबार हो रहा है। अलीबाबा, एयर बीएनबी और अमेजन जैसी कंपनियों ने अमेरिका में ऐसे ही कंपनियों को फायदे में चलाकर दिखाया है। बिसेन कहते हैं कि वैसे कम से कम पांच साल तो कंपनियां घाटे में ही रहेंगी। इस दौरान इस क्षेत्र में कई कंपिनयों के विलय-अधिग्रहण भी होंगे।
वहीं मेक माईट्रिप के प्रवक्ता ने कहा कि बाजार में जहां भी इंटरनेट की पहुंच है, हम वहां अवसर देख रहे हैं। हम लगतार अपने घाटे को घटा रहे हैं और लाभ की ओर बढ़ रहे हैं। भारी डिस्काउंट के बावजूद निवेशक क्यों कंपिनयों में पैसा लगाते हैं? यह पूछने पर एक विशेषज्ञ ने कहा कि ऑनलाइन कंपनियों में पैसा लगाने वाले निवेशक ही कहते हैं कि पहले ग्राहक लाओ, आधार तैयार करो जिससे मार्केट शेयर बढ़े। इसीलिए 800 की चीज 600 रुपए में मिलती है। कंपनियों और निवेशकों की कोशिश है कि ग्राहक उन्हीं के प्लेटफार्म का उपयोग करें। एक समय बाद ऐसी कंपनियां या तो अपनी कंपनी को बेच देती हैं या फिर वे कुछ समय के बाद फायदे में ही आ जाती हैं। भारत में भी ऐसा संभव है।
कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा एवं बाजार का विश्लेषण करने वाली कंपनी कालागाटो के चीफ बिजनेस ऑफिसर अमन कुमार कहते हैं कि ऑनलाइन कंपनियों की डिमांड इसलिए है, क्योंकि वो डिस्काउंट देते हैं। प्रतिस्पर्धा के कारण भी कंपनियों को डिस्काउंट देना पड़ता है। हालांकि ग्राहकों को फायदा ही है, क्योंकि अब वर्षभर ऑनलाइन सेल चलती रहती है। घाटे के बावजूद कंपनियों की मार्केट वैल्यू कैसे बढ़ती जा रही है, यह पूछने पर भट्‌टाचार्य कहते हैं कि सामान्य तौर पर कंपनियों के वैल्यूशन से अलग इन कंपनियों का वैल्यूएशन होता है। 20 साल पहले डिस्काउंट कैश जनरेशन के आधार पर कंपनी की वैल्यू तय होती थी लेकिन अब ग्रास मर्केन्डाइस कीमत मल्टीपल आधार पर तय हो रही है। जितनी अच्छी कंपनी की स्थिति होगी, उतने गुना ही वैल्यू ज्यादा होगी। जैसे अभी कंपनी का टर्नओवर 100 रुपए है और मार्जिन 10 रुपए है, तो कंपनी की वैल्यू निकालने के लिए 10 रुपए का 15 गुना यानी 150 रुपए कंपनी की वैल्यू तय होगी। कहीं-कहीं रेवेन्यू के आधार पर भी कंपनियों की कीमत का निर्धारण हो रहा है, यह दो से छह गुना तक है। जो निवेशक इन कंपनियों में पहले निवेश कर चुके हैं वे ही अभी ज्यादा पैसा लगा रहे हैं और नए निवेशक अभी कम आ रहे हैं।

इस तरह समझें किस कंपनी को कितना घाटा

ब्रांड का नाम कंपनी का नाम वर्ष नुकसान वर्ष नुकसान कुल नुकसान
फ्लिपकार्ट फ्लिपकार्ट इंडिया प्रा. लि. 18-19 5459.70 14-15 1932.92 16,485.20
जोमैटो जोमैटो मीडिया प्रा. लि. 18-19 570.53 14-15 37.17 1070.55
ओला एएनआई टेक्नोलाॅजी प्रा. लि. 17-18 2676.7 13-14 34.22 11,363.36
ओयो ओरावेल स्टेज प्रा. लि. 17-18 311.53 13-14 00.56 1,148.22
बुक माय शो बिग ट्री एंटटेनमेंट प्रा.लि. 17-18 140.26 13-14 04.03 284.93
मेक माय ट्रिप मेकमाय ट्रिप (इंडिया) प्रा.लि. 17-18 684.97 13-14 60.52 1,821.07
बिग बास्केट इनोवेटिव रिटेल काॅन्सेप्ट्स प्रा.लि. 17-18 179.23 13-14 02.35 485.87
पेटीएम वन 97 कम्युनिकेशंस लि. 17-18 1,490.47 13-14 02.04* 4,101.84
कुल योग — — — — 36,761.04
नोट : वित्तिय आंकड़े करोड़ रुपए में। *पेटीएम को वर्ष 13-14 में हुआ लाभ। सोर्स- मिनिस्ट्री ऑफ कार्पोरेट अफेयर्स की वेबसाइट पर उपलब्ध डेटा के अनुसार। कंपनियों के नुकसान कर बाद के लिए हैं। कंपनियों के आंकड़े हमने स्टैंड अलोन लिए हैं उससे संबंधित ग्रुप की अन्य कंपनियों के नहीं लिए हैं। बिग बास्केट की दो कंपनियां हैं हमने थोक में कार्य करने वाली कंपनी सुपरमार्केट ग्रोसरी सप्लाइस के आंकड़ों को शामिल नहीं किया है। फ्लिपकार्ट के आंकड़ों में दो कंपनियों (फ्लिपकार्ट इंडिया प्रा.लि. एवं फ्लिपकार्ट इंटरनेट प्रा. लि.) के वित्तीय आंकड़ें शामिल हैं। मेक माय ट्रिप के आंकड़ों में हमने सिर्फ मेक माय ट्रिप (इंडिया) प्रा.लि. के ही आंकड़े लिए हैं। आईबीबो, अंतरराष्ट्रीय कंपियों के कारोबार के आंकड़ों को शामिल नहीं किया है।
कंपनियों की बैलेंस शीट में चौंकाने वाली बातें
सबसे बड़े घाटे में ओयो;4 साल में 1367 गुना घाटा
वर्ष 2013-14 में जहां ओयो का महज 84 लाख रु. का कुल घाटा हुआ था। वर्ष 2017-18 में इसका कुल घाटा बढ़कर करीब 1367 गुना यानी 1148.22 करोड़ हो गया। ओयो भारत, नेपाल, मलेशिया, चीन, इंडोनेशिया, यूएई में 800 शहरों में है। वहीं 23 हजार से अधिक होटलों से अनुबंध है।
इनमें सबसे बेहतर फ्लिपकार्ट; 4 साल में 3 गुना बढ़ा राजस्व
फ्लिपकार्ट इंडिया प्रा. लि. और फ्लिपकार्ट इंटरनेट प्रा. लि. का संयुक्त राजस्व वर्ष 2014-15 में 10,309.24 करोड़ रुपए था। वर्ष 2018-19 में यह बढ़कर 35,734.9 करोड़ रुपए हो गया। इस दौरान फ्लिपकार्ट इंटरनेट ने वर्ष 2018-19 में प्रमोशन पर 1141 करोड़ रुपए खर्च किए।
जो घाटे में, पर उधार नहींओला; रेवेन्यू 36, घाटा 193 गुना बढ़ा
15 लाख कैब (ड्राइवर पार्टनर) वाली कंपनी ओला द्वारा दी जानकारी के मुताबिक कंपनी पर कोई उधारी नहीं है। जबकि कंपनी का राजस्व वर्ष 2013-14 में महज 51.05 करोड़ रु. था जो वर्ष 2017-18 में बढ़कर 1860.61 करोड़ रुपए हो गया। यानी 36 गुना से अधिक बढ़ोतरी।
मेक माय ट्रिप; 11 गुना से अधिक बढ़ा घाटा
कंपनी की उधारी महज चार वर्ष (2013-14 से 2017-18) के दौरान करीब 98 लाख रुपए से बढ़कर करीब 2.75 करोड़ रुपए हो गई है। कंपनी का कुल घाटा इस दौरान करीब 11 गुना से अधिक बढ़ गया है।
पेटीएम; पहले फायदा अब घाटे में कंपनी
अपनी स्थापना से लेकर वित्त वर्ष 2013-14 तक पेटीएम कुल करीब 150 करोड़ रुपए के फायदे में चल रही थी। लेकिन वर्ष 2017-18 तक आते-आते कंपनी को कुल करीब 4,102 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।
जोमैटो;कंपनी के पास 3208 करोड़ रिजर्व में
वर्तमान में 24 देशों के 10 हजार से अधिक शहरों में माैजूदगी। प्रति माह 10 करोड़ लोगों को खाने का ऑर्डर पहुंचाने वाली कंपनी जोमैटो के पास कुल रिजर्व वित्त वर्ष 2018-19 तक 3,208 करोड़ रुपए के थे।
बुक माय शो; घाटा 4 करोड़ से बढ़कर 140 करोड़ रुपए हुआ
कंपनी को वर्ष 2013-14 में जहां 4.03 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था वहीं वर्ष 2017-18 के दौरान 140.26 करोड़ रुपए रहा। कंपनी के मुताबिक 1.5 करोड़ टिकट कंपनी के प्लेटफार्म से हर माह बुक होते हैं।
बिग बास्केट; प्रमोशन पर खर्च किए पांच करोड़ रुपए से अधिक
वर्ष 2017-18 के दौरान 5.55 करोड़ प्रमोशन (प्रचार-प्रसार) पर खर्च किए। वहीं कंपनी का रेवेन्यू वर्ष 2017-18 के दौरान करीब 1410 करोड़ रु. रहा। वर्ष 2013-14 में 2.35 करोड़ रुपए का घाटा हुआ, वर्ष 2017-18 में 179.23 करोड़ हाे गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *