पीएमसी बैंक जालसाजी मामला: पूर्व सीएमडी जॉय थामस 17 अक्‍टू.तक पुलिस हिरासत में

पंजाब एवं महाराष्ट्र कोआपरेटिव (पीएमसी) बैंक जालसाजी मामले में बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थामस को 17 अक्‍टूबर तक की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।
मुंबई, । पंजाब एवं महाराष्ट्र कोआपरेटिव (पीएमसी) बैंक (Punjab and Maharashtra Cooperative, PMC Bank) जालसाजी मामले में बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थामस को 17 अक्‍टूबर तक की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने जॉय थामस के बैंक खातों को भी फ्रीज कर दिया है। EOW ने शुक्रवार को उन्‍हें गिरफ्तार किया था। ईओडब्ल्यू ने शुक्रवार को थामस को पूछताछ के लिए बुलाया था जहां पहुंचने पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।
ईओडब्ल्यू ने जॉय थामस को अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट एसजी शेख (SG Shaikh) के समक्ष प्रस्‍तुत किया जिन्‍होंने उन्‍हें 17 अक्‍टूबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। जॉय थॉमस ने मानी अपनी गलती- पंजाब एंड महाराष्ट्र को-आपरेटिव बैंक (Punajb & Maharashtra Co-operative Bank) के पूर्व एमडी जॉय थॉमस ने माना है कि उन्होंने गलत तरीके से एचडीआईएल (HDIL) को 2,500 करोड़ रुपये का कर्ज दिया है. उन्होंने स्वीकार किया था कि बैंक के पूर्व प्रबंधन ने एनपीए मामले में निदेशक मंडल को अंधेरे में रखा.
क्या है PMC घोटाला- मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से नियुक्त अधिकारी की शिकायत पर PMC बैंक के अधिकारियों के खिलाफ फर्जीवाड़े, धोखाधड़ी और आपराधिक षड्यंत्र के आरोपों में कार्रवाई शुरू हुई है.
>> हफ्ते की शुरुआत में मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा में शिकायत दर्ज की गई थी. पुलिस ने बताया कि प्रारम्भिक जांच के अनुसार साल 2008 के बाद से बैंक को 4,355.46 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.
>> प्राथमिकी में पीएमसी बैंक के पूर्व अध्यक्ष वरयम सिंह, प्रबंधक निदेशक जॉय थॉमस, एचडीआईएल के एक निदेशक और अन्य अधिकारियों के नाम हैं.बता दें कि 4,355 करोड़ के इस कथित घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने ईओडब्ल्यू की एफआइआर के आधार पर मनी लांडिंग रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) में केस दर्ज किया है। यही नहीं, एजेंसी ने शुक्रवार को मुंबई एवं आसपास के छह स्थानों पर छापेमारी की थी जिसमें 12 महंगी कारें जब्त की गईं।
पुलिस ने अदालत को बताया कि कथित घोटाले की साजिश में जॉय थामस (SG Shaikh) की क्‍या कोई भूमिका थी या नहीं… इसकी जांच के लिए उनसे पूछताछ करने की जरूरत है। हालांकि, जॉय थामस के वकील ने दलील दी कि उनके मुवक्किल को बलि का बकरा बनाया गया है। इससे पहले स्थानीय कोर्ट ने ‘हाउसिंग डेवलपमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड’ (एचडीआइएल)के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक राकेश वधावन और उसके बेटे सारंग को नौ अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में सौंप दिया था।
ईओडब्ल्यू ने गुरुवार को एचडीआइएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक राकेश वधावन और उसके बेटे सारंग को गिरफ्तार किया था। जांच के दौरान ईओडब्ल्यू उनकी 3500 करोड़ की संपत्ति भी जब्त कर चुकी है। दोनों की हिरासत की मांग करते हुए ईओडब्ल्यू ने कोर्ट को बताया था कि पीएमसी बैंक ने एचडीआइएल समूह के 44 ऋण खातों की जगह 2100 से ज्यादा जाली ऋण खाते तैयार कर लिए और समूह ने अपना डिफाल्ट छिपाया।
पुलिस ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा नियुक्त प्रशासक की शिकायत के आधार पर फर्जीवाड़े, धोखाधड़ी और आपराधिक साजिश के आरोपों में इस हफ्ते की शुरुआत में एफआईआर दर्ज की थी। पुलिस की मानें तो प्रारंभिक जांच के अनुसार साल 2008 के बाद से बैंक को 4,355.46 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। एफआइआर में पीएमसी बैंक के पूर्व चेयरमैन वरयम सिंह, प्रबंधक निदेशक जॉय थामस, एचडीआइएल के निदेशक राकेश वधावन को नामजद किया गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने इसी एफआइआर को आधार बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *