पर्वतीय रामलीला में परशुराम-लक्ष्मण संवाद लीला की सराहना

रेसकोर्स में पर्वतीय रामलीला कमेटी द्वारा आयोजित रामलीला में परशुराम लक्ष्मण संवाद को दर्शकों ने सराहा।
पर्वतीय रामलीला कमेटी के तत्वाधान में रवि मित्तल मेमोरियल पब्लिक हाई स्कूल रेसकोर्स में शरदीय नवरात्र के अवसर पर प्रतिदिन श्री राम की लीलाओं का मंचन किया जा रहा है। रामलीला के अंतर्गत मंगलवार को धनुषयज्ञ, परशुराम लक्ष्मण संवाद एवं राम विवाह की आकर्षक प्रस्तुतियां दी गई। भगवान राम द्वारा शिव धनुष का भंजन कर सीता स्वयंवर की लीला सम्पन्न हुई। तत्पश्चात् शिव धनुष को टूटा हुआ देखकर ऋषि परशुराम राजा जनक पर क्रोधित हुए कि उनके आराध्य का धनुष किसने तोड़ा, इसी मध्य लक्ष्मण जी से परशुराम जी की इस संबंध में वाद-विवाद होता है। परशुराम ने जब राजा जनक के दरबार में शिव धनुष विखण्डन पर अपने गुस्से का इजहार किया तो सारे राजा सन्न रह गये लेकिन लक्ष्मण जी के ज्ञत्रियत्व ने जब अंगड़ाई ली तो परशुराम ने यह कहकर क्षमा याचना की कि उनको यह मालूम नही था कि रामावतार हो चुका है। परशुराम के रूप में श्री शेखर चन्द्र जोशी के विद्वता पूर्ण, सार गर्भित अभिनय को दर्शकों द्वारा काफी सराहा गया।
रामलीला कमेटी के अध्यक्ष जीवन सिंह बिष्ट ने बताया कि रामलीला के प्रति लोगों का काफी उत्साह है तथा नित्य प्रति बड़ी संख्या में श्रद्धालु रामलीला देखने आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *