ननकाना साहिब/रईसजादे ने ग्रंथी की बेटी फिर की अगवा,सिख विरोध को मुस्लिमों ने माना अपने खिलाफ

नई दिल्ली में पाकिस्तान सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग।
ननकाना साहिब में कट्टरपंथी प्रदर्शनकारियों ने सिखों को भगाने, गुरुद्वारा ढहाने की मांग तक कर दी।
ननकाना साहिब पर शुक्रवार देर शाम मुस्लिम कट्टरपंथियों की भीड़ ने पथराव किया था
भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था- गुरुद्वारे पर हुई पत्थरबाजी की घटना पर कार्रवाई करे पाकिस्तान
इस्लामाबाद से शाह जमाल. पाकिस्तान के सैकड़ाें कट्टरपंथी मुस्लिमाें ने शुक्रवार शाम सिखों के पवित्र धर्मस्थल ननकाना साहिब गुरुद्वारे काे घेरकर पथराव किया। प्रदर्शनकारियों ने सिखों को भगाने और ननकाना साहिब का नाम बदलने की धमकी भी दी। घटना पर भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से नाराजगी जाहिर करने के बाद मामले में पाकिस्तानी सरकार ने हस्तक्षेप किया। इमरान सरकार के अफसरों ने प्रदर्शनकारियों से समझौता कर गुरुद्वारे के बाहर से भीड़ हटाई और 35 सिख श्रद्धालुओं को सही सलामत बाहर निकाला।
करतारपुर कॉरिडोर के उद्धाटन (9 नवंबर) से चार दिन पहले ननकाना साहिब गुरुद्वारे के ग्रंथी की बेटी जगजीत कौर काे मो. हसन नाम के मुस्लिम युवक ने अगवा कर लिया था। धर्म परिवर्तन कराकर निकाह कर लिया था। तब लड़की के पिता ने करतारपुर में धरना देने की चेतावनी दी थी। इसके चलते पुलिस ने लड़की को वापस पिता के पास भिजवा दिया था। मुस्लिम लड़का रईस परिवार से है। बाद में कुछ लोगों ने उसकी ताकत पर सवाल उठाए। कहा कि कैसे बंदे हो जो लड़की चली गई। इसके बाद उस युवक ने दोबारा लड़की को अगवा कर लिया। विरोध में सिखों ने प्रदर्शन किया, जिसे स्थानीय मुसलमानों ने समुदाय के खिलाफ मान लिया। इसी वजह से गुरुद्वारा साहिब पर पथराव किया गया। पंजाब प्रांत के एक मंत्री ने फोन कर पुलिस को मौके से सिखों को निकालने के लिए कहा, तब जाकर पुलिस पहुंची।
ब्रिटिश सांसद ने इमरान से पूछे सवाल
इस घटना की गूंज दुनियाभर में पहुंची। ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सांसद प्रीत कौर गिल ने प्रधानमंत्री इमरान खान से सवाल करते हुए कहा, यह चिंता की बात है, आखिर क्यों पाकिस्तान में सिख समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है?
Preet Kaur Gill MP

@PreetKGillMP
This is a worrying concern why is the Sikh community being attacked in Pakistan? @ImranKhanPTI https://twitter.com/ShirazHassan/status/1213100573173657603 …https://twitter.com/i/status/1213100573173657603
Shiraz Hassan✔
@ShirazHassan
The situation at Gurdwara Janamasthan #NankanaSahib is still tense – police is trying to control the situation – number of people have surrounded Gurdwara building.
9:27 pm – 3 जन॰ 2020 · Birmingham, England
आरोपी की रिहाई के बाद गुरुद्वारे से हटे प्रदर्शनकारी
सिख समुदाय के प्रदर्शन के बाद लड़की को अगवा करने वाले हसन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। शुक्रवार को प्रदर्शन के बाद देर रात उसे रिहा कर दिया गया। भीड़ ने कहा, मर्जी से इस्लाम कबूलकर शादी करने वाली लड़कियों को लेकर सिख समुदाय बेवजह हंगामा खड़ा करता है। प्रदर्शनकारियों ने सिखों को भगाने, गुरुद्वारा ढहाने व शहर का नाम बदलकर गुलाम अली मुस्तफा रखने की धमकी दी थी।
Manjinder S Sirsa

@mssirsa
Hear the video and feel the kind of terror minorities live with in Pakistan
Mohammad Hassan openly threatens to destroy Nankana Sahib Gurdwara and build the mosque in that place@ImranKhanPTI is urged to take action against communal trend of hatred@TimesNow @ANI @ZeeNews
3,615
10:26 pm – 3 जन॰ 2020
आरोपी के परिवार ने भीड़ का नेतृत्व किया
भीड़ का नेतृत्व ननकाना साहिब की सिख लड़की जगजीत कौर को अगवा करने और जबरन धर्मांतरण कर निकाह करने के आरोपी मोहम्मद हसन के परिवार ने किया। हसन ने भीड़ से कहा, शहर की जनता यहां गुरुद्वारा नहीं चाहती। यहां पर एक भी सिख को नहीं रहने दिया जाएगा। 28 अगस्त 2019 को गुुरुद्वारा ननकाना साहिब के ग्रंथी के परिवार ने मुस्लिम युवक व उसके साथियों पर उसकी नाबालिग बेटी का धर्मान्तरण कर जबरन निकाह करने का आरोप लगाया था।ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर भीड़ ने पथराव किया, श्रद्धालु भीतर फंसे; भारत ने घटना की निंदा की
रिपोर्ट्स के मुताबिक, भीड़ का नेतृत्व मोहम्मद हसन का परिवार कर रहा था।
भीड़ ने कहा- गुरुद्वारे का नाम बदलकर गुलमान-ए-मुस्तफा कर देंगे, यहां एक भी सिख नहीं रहेगा,गुरुद्वारे पर पथराव की घटना से एक दिन पहले सिख श्रद्धालुओं ने गुरुनानक देव की जयंती मनाई थी,भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा- गुरुद्वारे पर की गई पत्थरबाजी की घटना से हम चिंतित हैं
लाहौर में शुक्रवार को उग्र भीड़ ने गुरुद्वारा ननकाना साहिब को घेर कर पथराव किया। पाकिस्तान से आ रही रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ सिख श्रद्धालु भीतर फंसे हुए हैं। करीब 7 बजे भीड़ ने गुरुद्वारे को घेर लिया और इसे तोड़ने की धमकी दी। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा- पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब गुरुद्वारा में हुई पत्थरबाजी को लेकर हम चिंतित हैं। ननकाना साहिब जैसे पवित्र स्थान पर अल्पसंख्यक सिख समुदाय को निशाना बनाया गया, जो कि गुरु नानक देव जी की जन्मभूमि है।
गुरुद्वारा ननकाना साहिब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में लाहौर के करीब स्थित है। मान्यता है कि इसी स्थान पर 1469 में सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक देव का जन्म हुआ था। इस जगह को पहले राय भोई की तलवंडी कहा जाता था, लेकिन गुरु नानक के सम्मान में इस जगह का नाम बदल दिया गया। गुरुवार को यहां सिख श्रद्धालुओं ने गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाई थी।
भीड़ ने गुरुद्वारे का नाम बदलने के नारे लगाए
पाक मीडिया में दिखाए जा रहे एक वीडियो में भीड़ यह कहती दिख रही है कि वह इस इलाके में गुरुद्वारा नहीं चाहती। नारे लगाए जा रहे थे कि जल्द ही इस जगह का नाम गुरुद्वारा ननकाना साहिब से बदलकर गुलमान-ए-मुस्तफा कर दिया जाएगा और यहां एक भी सिख नहीं रहेगा।
सिख लड़की के धर्म परिवर्तन का मामला, मुस्लिम परिवार ने भीड़ का नेतृत्व किया
रिपोर्ट्स के मुताबिक, भीड़ का नेतृत्व मोहम्मद हसन का परिवार कर रहा था। बताया जा रहा है कि हसन ने एक सिख लड़की को अगवाकर उसका धर्म परिवर्तन करवाया। यह लड़की गुरुद्वारे के पंथी की बेटी थी। धर्मपरिवर्तन के बाद हसन को अधिकारियों ने बेरहमी से पीटा। हसन के परिवार का दावा है कि लड़की ने अपनी मर्जी से कानूनी तौर पर विवाह किया। दबाव डालने के बाद भी वह दोबारा सिख धर्म अपनाना नहीं चाहती है।
भारत ने कहा- सिखों की सुरक्षा को तत्काल कदम उठाए पाक
भारत ने गुरुद्वारे में ताेड़फाेड़ की निंदा करते हुए कहा, पाक सिखाें की सुरक्षा के लिए तत्काल जरूरी कदम उठाए। उपद्रवियाें पर सख्त कार्रवाई हो। इधर एसजीपीसी प्रधान भाई लोंगोवाल ने कहा कि समूचा सिख पंथ पाक में सिखों के साथ है।पाकिस्तान ने पथराव की खबरों को बताया गलत, कहा- गुरुद्वारा ननकाना साहिब बिल्कुल सुरक्षित
पाकिस्तान ने पथराव की खबरों को बताया गलत, कहा- गुरुद्वारा ननकाना साहिब बिल्कुल सुरक्षितमीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यहां भीड़ ने गुरुद्वारे पर धावा बोल दिया और सिख श्रद्धालुओं पर पथराव किया.
पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शुक्रवार देर रात जारी एक बयान में कहा कि पंजाब प्रांत के अधिकारियों ने यह जानकारी दी कि वहां दो मुस्लिम समूहों के बीच किसी छोटी घटना को लेकर झड़प हुई थी, जिसमें आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया. गुरुद्वारा बिल्कुल सुरक्षित है और इसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.
पाकिस्तान (Pakistan) ने शुक्रवार को उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें कहा गया था कि गुरुद्वारा ननकाना साहिब को खास समूह के लोगों ने अपवित्र किया. गुरुद्वारा जन्म स्थान के नाम से मशहूर गुरुद्वारा ननकाना साहिब (Nankana Sahib) सिख धर्म के लोगों के लिए बेहद पवित्र स्थल है, क्योंकि यहां सिख (Sikh) धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव का जन्म हुआ था.
पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने शुक्रवार देर रात जारी एक बयान में कहा कि पंजाब प्रांत के अधिकारियों ने यह जानकारी दी कि वहां दो मुस्लिम समूहों के बीच किसी छोटी घटना को लेकर झड़प हुई थी, जिसमें तुंरत हस्तक्षेप करके आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया. गुरुद्वारा बिल्कुल सुरक्षित है और इसे कोई नुकसान नहीं पहुंचा है. बयान में कहा गया कि पाकिस्तान सरकार कानून-व्यवस्था बनाए रखने और खास तौर पर अल्पसंख्यकों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है.
सिख किशोरी से शादी करने के लिए जबरन बनाया मुस्लिम
बता दें कि एक सिख किशोरी से शादी करने वाले मुस्लिम शख्स के परिवार की अगुवाई में कुछ लोगों ने अपने रिश्तेदारों की गिरफ्तारी के विरोध में शुक्रवार को यहां ननकाना साहिब के बाहर प्रदर्शन किया था. पुलिस के अनुसार हसन नामक एक व्यक्ति ने पिछले साल सितंबर में 18 साल की जगजीत कौर का अपहरण किया था, उसे जबरन मुसलमान बनाया था और उससे शादी कर ली थी. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने हसन के परिवार के खिलाफ दर्ज करायी गयी प्राथमिकी के सिलसिले में उसके परिवार के कुछ सदस्यों को बस तलब किया था.
इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के प्रवक्ता आमिर हाशमी ने कहा, ‘हसन के परिवार के सदस्यों ने सिख लड़की को लेकर उठे विवाद पर हुई अपने कुछ रिश्तेदारों की गिरफ्तारी के खिलाफ गुरुद्वारा जन्मस्थान ननकाना साहिब के बाहर शुक्रवार को धरना दिया.’
गुरुद्वारा ननकाना साहिब वह स्थान है जहां सिखों के पहले गुरु नानक देव का जन्म हुआ था. इसे गुरुद्वारा जन्मस्थान भी कहा जाता है. यह सिखों के पवित्रतम स्थलों में एक है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यहां भीड़ ने गुरुद्वारे पर धावा बोल दिया और सिख श्रद्धालुओं पर पथराव किया.
विदेश मंत्रालय ने की निंदा
भारतीय विदेश मंत्रालय ने घटना की निंदा की. भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान में श्री गुरु नानक देव जी के जन्मस्थान पवित्र ननकाना साहिब में सिखों के साथ हिंसा हुई है. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘भारत इस पवित्र स्थान पर तोड़फोड़ और बेअदबी की हरकतों की कड़ी निंदा करता है. हम पाकिस्तान सरकार से सिखों की सुरक्षा एवं कल्याण सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान करते हैं.’ मंत्रालय ने कहा, ‘उन बदमाशों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए जो इस पवित्र गुरद्वारे में बेअदबी में शामिल हैं और जिन्होंने अल्पसंख्यक सिखों पर हमला किया है.’
भारतीय मीडिया में इस गुरुद्वारे में तोड़फोड़ की भारत द्वारा कड़ी निंदा किए जाने की खबरों के संबंध में पूछे जाने पर हाशमी ने कहा, ‘प्रदर्शनकारी शांतिपूर्ण हैं. पुलिस द्वारा एक व्यक्ति को रिहा किए जाने के बाद उन्होंने अपना प्रदर्शन खत्म कर दिया.’
इस बीच, एक पाकिस्तानी अंग्रेजी दैनिक के स्थानीय संवाददाता ने पीटीआई को बताया कि उस वक्त गुरु गोविंद सिंह की जयंती मनाने के लिए जो पाकिस्तानी सिख गुरद्वारे में मौजूद थे, वे गुरद्वारे के बाहर मुसलमानों के प्रदर्शन से घबरा गए, उन्हें लगा कि प्रदर्शनकारी उन पर हमला कर सकते हैं.
स्थानीय संवाददाता ने कहा, ‘प्रदर्शनकारियों ने गुरुद्वारा जाने वाले एक मुख्य मार्ग को भी बंद कर दिया जिससे कई घंटे तक यातायात प्रभावित रहा.’ हालांकि पुलिस की एक टुकड़ी मौके पर पहुंची और उसने गुरुद्वारा परिसर को कब्जे में ले लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *