आईएनएक्स मीडिया: पी चिदंबरम को झटका, हाको से अंतरिम जमानत याचिका खारिज

कार्ति चिदंबरम के साथ तिहाड़ जेल पहुंचे अशोक गहलोत।
पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया के भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग केस में तिहाड़ जेल में बंद हैं
पिछली सुनवाई में चिदंबरम के वकील ने कोर्ट से कहा था कि मेरे मुवक्किल को एम्स में भर्ती कराया जाए
शुक्रवार को मेडिकल रिपोर्ट पेश हुई, हाईकोर्ट ने कहा- चिदंबरम को एम्स में भर्ती होने की जरूरत नहीं
पी चिदंबरम की स्वास्थ्य कारणों से मांगी गई जमानत अर्जी को हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया।
जस्टिस सुरेश कैत ने जेल अधीक्षक को निर्देश दिया है कि चिदंबरम के लिए जेल में साफ कमरा, बोतलबंद पानी और मच्छरों से बचाव के इंतजाम किए जाएं। उन्हें घर का खाना देने की भी अनुमति दी गई है। हालांकि, कोर्ट ने कहा कि चिदंबरम स्वस्थ हैं। उन्हें एम्स में भर्ती होने की जरूरत नहीं है।
पिछली सुनवाई में वकील ने कोर्ट से कहा था कि चिदंबरम क्रोहन्स बीमारी से पीड़ित हैं। इस बीमारी में पाचन नली में जलन, पेट दर्द, डायरिया और वजन कम होने जैसी समस्या होती है। ऐसे में चिदंबरम को एम्स में भर्ती कराया जाए। इस पर हाईकोर्ट ने दिल्ली एम्स के निदेशक को जांच के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन करने और रिपोर्ट देने का आदेश दिया था। यह रिपोर्ट आज कोर्ट में पेश की गई।हालांकि कोर्ट जेल अधीक्षक को कुछ दिशा- निर्देश जारी किए हैं। जिसमें कोर्ट ने कहा कि जेल में चिदंबरम की कोठरी को साफ रखा जाए। इसके साथ ही चिदंबरम को मच्छरों से बचाने के इंतजाम के साथ पीने के लिए मिनरल वाटर उपलब्ध कराया जाए। सिर्फ यही नहीं कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रबंधन को चिदंबरम को फेस मास्क तक उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। साथ ही चिदंबरम का रेगुलर चेकअप कराया जाए। घर का खाना खाने के लिए चिदंबरम को पहले से मंजूरी मिली हुई है।
पी. चिदंबरम से मिलने तिहाड़ जेल पहुंचे मुख्यमंत्री गहलोत, कहा- षडयंत्र करके बंद किया
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम भी साथ रहे
गहलोत ने कहा- हम 25 साल पहले मंत्री थे, वे उससे भी पहले देश की सेवा करते आ रहे हैं
नई दिल्ली/जयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिल्ली प्रवास के दौरान शुक्रवार को तिहाड़ जेल में बंद पी. चिदंबरम से मुलाकात की। चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम भी इस दौरान गहलोत के साथ रहे। मुलाकात के बाद गहलोत ने मीडिया से बात की। इसमें उन्होंने कहा कि चिदंबरम को केस में षडयंत्र करके जेल में बंद किया गया है।
गहलोत ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट एक केस में उन्हें (पी.चिंदबरम) जमानत दे चुका है। उसके बाद दूसरे केस में भी वही बातें रखी जाती हैं। हम लोग 25 साल पहले मंत्री थे। वह कॉमर्स में थे। मैं टेक्सटाइल में था। तब से मैं देख रहा हूं, वे उससे पहले से देश की सेवा करते आ रहे हैं। 45 साल की सेवा के बाद यह इनाम मिला है इनको, बिना कोई मुकदमे के, बिना कोई केस के, बिना कोई आरोप के।”
‘जो हत्या मामले में जेल में बंद, उसकी गवाही को बनाया आधार’
मुख्यमंत्री ने कहा कि इंद्राणी मुखर्जी, जो खुद बेटी की हत्या के केस में जेल में बंद है। उसकी गवाही को आधार बनाकर इन्हें (पी. चिंदबरम) को जेल में बंद कर दिया। देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है।
‘चिंदबरम को देश की चिंता’
आज भी चिंदबरम को देश की चिंता है। हम जब बात कर रहे थे देश में जो स्लोडाउन हुआ है मंदी का दौर चल रहा है उसमें क्या हालात होंगे, एक्सपोर्ट कम हो गया। किसानों का क्या होगा। वह आज भी जेल में बैठे-बैठे चिंता कर रहे हैं। आप सोच सकते हैं कि जो देशभक्त होगा वह हमेशा चिंता करेगा।
80 से ज्यादा लोगों को टारगेट कर चुकी सरकार
विभिन्न राज्यों में 80 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज हो चुके हैं। राज्यों में प्रधानमंत्री कार्यालय मॉनिटरिंग करता है। टारगेट तय किए जाते हैं। फिर राज्यों की एजेंसियां सक्रिय हो जाती है। वह कार्रवाई शुरू कर देती है। टेलीफोन पर बातचीत करते हुए भी लोग डरे हुए हैं।
प्रधानमंत्री मोदी पर भी साधा निशाना
प्रधानमंत्री मोदी आज जिस प्रकार से अनुच्छेद-370 की बात करते हैं, कभी सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते हैं, चुनाव कल है आज सर्जिकल स्ट्राइक हो रही है तो यह देश मूर्ख नहीं है, यह देश बहुत समझदार है। सरकार चुनाव जीतने के लिए हथकंडे अपना रही है। हिंदुत्व के नाम पर, धारा 370 के नाम पर, सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *