अजित पवार के बाद फडणवीस का भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा, कहा- ‘हमारा बहुमत नहीं है’

फडणवीस ने कहा कि अजित पवार ने अपना इस्तीफा मुझे भेज दिया है. हम बीजेपी वाले किसी भी तरह की हॉर्स ट्रेडिंग में शामिल नहीं होंगे. इसलिए अजित दादा के जाने के बाद हमारे लिए कुछ नहीं बचा है.हमारे पास बहुमत नहीं है
नई दिल्ली: महाराष्ट्र में बहुमत परीक्षण को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से अचानक से राज्य में बड़े सियासी बदलाव होना शुरू हो गए है. डिप्टी सीएम अजित पवार के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया. देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि राज्य की जनता ने बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को बहुमत दिया था. नतीजों में बीजेपी ने जितनी सीटें लड़ी उनमें से 70 प्रतिशत सीटें जीतीं. वहीं शिवसेना ने 40 प्रतिशत जीती थी. शिवसेना ने नतीजों के बाद ही यह कहना शुरू कर दिया कि दोनों पार्टियों का ढाई-ढाई साल का मुख्यमंत्री होगा. लेकिन ऐसा कोई प्रस्ताव चुनाव से पहले नहीं दिया गया था ना ही ऐसा कोई समझौता हुआ था.
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह जी ने स्पष्ट रूप से बताया था कि ऐसा कोई वादा नहीं किया गया था. जो वादे हुए थे उस पर हम कायम थे लेकिन ढाई साल मुख्यमंत्री बनाने का कोई वादा नहीं था. लेकिन इसी दौरान शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस से बात करना शुरू कर दिया. इसके बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में राज्यपाल ने बीजेपी को बुलाया था लेकिन हमारे पास संख्या नहीं थी. इसके बाद शिवसेना को बुलाया गया था, शिवसेना के दावे का खुला मजाक बना, ना कोई चिट्ठी आई ना कोई सरकार बनी. इसके बाद एनसीपी को भी मौका दिया गया और बाद में राष्ट्रपति शासन लगाया गया. कई दिनों की राजनीतिक गतिविधियों के बीच शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ शुरू कर दिया. लेकिन तीनों दलों के बीच कोई कॉमन मिनिमम प्रोग्राम नहीं बन पाया.
सुप्रिया सुले के पति ने बदला अजित का मन, शरद पवार का खास संदेश लेकर गए थे मिलने- सूत्र
महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार गठन पर आए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले के बाद राज्य के राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं. अटकलें लगाई जा रही हैं कि बहुमत परीक्षण से पहले अजित पवार (Ajit Pawar) ने उपमुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है. सूत्र बता रहे हैं कि सुप्रिया सुले (Supriya Sule) के पति सदानंद सुले से मुलाकात के बाद अजित पवार का मन बदल गया. सुले के पति शरद पवार का संदेश लेकर अजित से मिलने पहुंचे थे.
सदानंद सुले से मिलने की वजह से मुख्यमंत्री की बैठक में नहीं गए अजित
सूत्रों ने जानकारी दी कि आज सुबह ही सुप्रिया सुले के पति सदानंद सुले से मिलने के लिए अजित पवार ट्राइडेंट होटल पहुंचे. सदानंद से मुलाकात के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ होने वाली बैठक में हिस्सा नहीं लिया. सदानंद सुले ने शरद पवार के संदेश को उनसे साझा किया. शरद पवार ने अजित के लिए संदेश भेजा था कि वापस पार्टी में आ जाओ. माना जा रहा है कि इसी मुलाकात के बाद अजित पवार ने इस्तीफा देने का मन बना लिया. वहीं अजित से जुड़े कुछ सूत्रों ने बताया कि बहुमत का आंकड़ा न हो पाने के कारण उन्होंने इस्तीफा दिया है.
बीजेपी खेमे में बैठकों का दौर जारी
इस बीच महाराष्ट्र के लगातार दूसरी बार मुख्‍यमंत्री पद की शपथ लेने वाले देवेंद्र फडणवीस ने दोपहर 3:30 बजे प्रेस कांफ्रेंस की. महाराष्‍ट्र के मौजूदा राजनीतिक हालात और बुधवार को होने वाले फ्लोर टेस्‍ट से पहले देवेंद्र फडणवीस ने भी इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया. देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमारे पास बहुमत नहीं है इसलिए हम राज्यपाल के पास जाकर इस्तीफा सौंपेंगे.
देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘अजित पवार ने सरकार बनाने में हमारा साथ दिया था. उनसे बातचीत करने के बाद ही हमने सरकार का गठन किया था. आज जब सुप्रीम कोर्ट ने अपना आदेश दिया तब अजित पवार ने मुझसे मुलाकात की और कहा कि वह इस गठबंधन में और नहीं रह सकते हैं. उन्होंने अपना इस्तीफा सौंपा. जब उन्होंने इस्तीफा दे दिया है तो अब हमारे पास बहुमत नहीं है, मैं राज्यपाल से मिलूंगा और अपना इस्तीफा सौंपूंगा.’
इससे पहले पूरे घटनाक्रम को लेकर बीजेपी खेमे में बैठकों का सिलसिला जारी था. पीएम नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने महाराष्ट्र के मौजूदा हालत पर मंथन किया और उसके बाद देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफा देने का फैसला किया गया.
मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राजभवन जाकर राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *