फैक्ट चेक: अमेरिका का डॉ. मनमोहन को ईमानदार नेता बताने का वायरल दावा भ्रामक

अमेरिका ने जारी की दुनिया के 50 सबसे ईमानदार लोगों की सूची इसमें भारत के एकमात्र व्यक्ति हैं डॉ. मनमोहन सिंह. सोशल मीडिया पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लेकर यह दावा एक बार फिर काफी वायरल हो रहा है. क्या है इस दावे की हकीकत? जानिए इस फैक्ट चेक में.
पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह (फाइल)
वॉशिंगटन, 09 अक्टूबर ! “भारत के लिए गर्व की बात। अमेरिका ने व्हाइट हाऊस से जारी एल्बम में 50 ईमानदार नेताओं में भारत के एक मात्र नेता डॉ मनमोहन सिंह पहले स्थान पर हैं। शत शत प्रणाम श्री मनमोहन सिंह जी को।” यह संदेश फेसबुक पर कांग्रेस समर्थकों के बीच वायरल है। यह संदेश एक अलग तरीके से भी लिखा गया है जिसमें बताया गया है कि मनमोहन सिंह 50 सबसे ईमानदार नेताओं में पहले स्थान पर हैं और साथ में यह भी लिखा है कि इस लिस्ट में नरेन्द्र मोदी का नाम नहीं है। क्या यह वास्तव में सच हो सकता है? क्या व्हाइट हाउस दुनिया भर में “ईमानदार” नेताओं की सूची प्रकाशित करता है? यह संदेश मौजूदा सरकार को निशाना बनाकर बनाया गया है। आईये इस दावे का पता लगाते हैं।
इस संदेश को एक दूसरे तरीके से भी लिखा गया है।

ऊपर के तस्वीर में ‘वायरल इन इंडिया.net’ नाम का निशान है और इसे वायरल इन इंडिया.net नाम के फेसबुक पेज से भी शेयर किया गया है। यह पेज अभिषेक मिश्रा चलाते हैं, जो खुद को ट्विटर पर RTI कार्यकर्ता बताते हैं।
सच क्या है?
इस संदेश के पीछे की कहानी दिसम्बर 2016 की है जब पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने 14वें व आखिरी बार राष्ट्रपति बने रहने के समय रात्रिभोज की मेजबानी की थी। इस अवसर पर, व्हाइट हाउस के मुख्य फोटोग्राफर ने राष्ट्रपति ओबामा के राष्ट्रपति पद के कार्यकाल में आयोजित कुछ अन्य रात्रिभोजों की झलक साझा की थी।
कई सारे तस्वीरों की झलक में शुरुआत मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरुशरन कौर की तस्वीर से हुई थी। यह तस्वीर इसलिए महत्वपूर्ण थी क्योंकि साल 2009 में राष्ट्रपति ओबामा के पद सँभालने के बाद पहली राजकीय यात्रा मनमोहन सिंह ने की थी और उसी अवसर की तस्वीर उस दिन रात्रिभोज में प्रस्तुत एल्बम में पहली तस्वीर के रूप में दिखाई गई थी। इस अवसर पर नरेंद्र मोदी की कोई तस्वीर प्रस्तुत नहीं की गई थी।
वायरल संदेश आधी सच्चाई पर आधारित है। हां, व्हाइट हाउस फोटोग्राफर ने उस अवसर पर दिखाई गई तस्वीरों में मनमोहन सिंह की एक तस्वीर प्रमुख रूप से प्रदर्शित की। हां, नरेंद्र मोदी इन तस्वीरों के संकलन में शामिल नहीं थे। लेकिन यह वायरल संदेश में दावा किये गए विश्व के “ईमानदार” नेताओं का संकलन नहीं हैं। यह तस्वीर ओबामा द्वारा आयोजित रात्रिभोज के झलकों का सिर्फ एक हिस्सा था।
इस वायरल संदेश में उन नकली समाचार पोस्टरों जैसी समानताएं हैं जिन्हें अक्सर बीजेपी समर्थकों द्वारा साझा किया जाता है। उसी तरह की आँखों को अच्छे लगने वाले रंगों का उपयोग, धैर्यपूर्वक एक संदेश पेश करने के लिए शब्दों का चयन। ऐसा लगता है कि कांग्रेस समर्थक भी भाजपा समर्थकों की तरह फर्जी ख़बरों को फ़ैलाने की मनोदशा में शामिल हों गए हैं। यदि यह सच है तो आने वाले दिनों में और ज्यादा नकली खबरों के लिए तैयार रहें।
“अमेरिका ने जारी की दुनिया के 50 सबसे ईमानदार लोगों की सूची इसमें भारत के एकमात्र व्यक्ति हैं डॉ. मनमोहन सिंह, वो भी पहले स्थान पर.” सोशल मीडिया पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लेकर यह दावा एक बार फिर काफी वायरल हो रहा है.
एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल हो रही पोस्ट के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक है. अमेरिका में अब तक ऐसी कोई सूची जारी नहीं की गई है.
पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.
फेसबुक पेज “Congress It Cell District JaloreCongress It Cell District Jalore”
app-facebook
Congress It Cell District Jalore
about 4 months ago
ने डॉ. मनमोहन सिंह की तस्वीर साझा करते हुए यह दावा किया. खबर लिखे जाने तक इस पोस्ट को 40,000 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका था.
पड़ताल में हमें ऐसी कोई सूची नहीं मिली जिसमें अमेरिका ने दुनिया के सबसे ईमानदार लोगों के नाम दिए हों. वर्ष 2012 में फोर्ब्स मैगजीन ने विश्व के 20 सबसे ताकतवर लोगों की एक सूची जारी की थी, इस सूची में मनमोहन सिंह 20वें स्थान पर थे.
कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के साथ ऐसा दावा किया गया था. उस समय भी इस दावे की पोल खोली थी. पूरी खबर को पढ़ा जा सकता है.

फैक्ट चेक
फैक्ट चेक: वायरल हुआ अमेरिका का डॉ. मनमोहन सिंह को ईमानदार नेता बताने का दावा
दावा
अमेरिका में जारी हुई 50 ईमानदार नेताओं की सूची में डॉ. मनमोहन सिंह को पहला स्थान.
निष्कर्ष
वायरल पोस्ट का दावा भ्रामक है, हमें पड़ताल में अमेरिका में जारी हुई ऐसी कोई सूची नहीं मिली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *