जेएनयू छात्र संगठनों में हिंसक संघर्ष, छात्र संघ अध्यक्ष समेत दर्जनों घायल,कई लापता

JNU Clashes: जेएनयू में छात्र संगठनों में हिंसक झड़प, अध्यक्ष आईशी घोष घायल
नई दिल्ली । जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और वामपंथी छात्र संगठनों के बीच झड़प का मामला सामने आया है। दोनों संगठनों ने एक दूसरे पर रविवार को लाठी से मारपीट करने और पत्थर फेंकने का आरोप लगाया है। दोनों ने एक दूसरे पर हिसंक गतिविधि में शामिल होने का भी आरोप लगाया गया। दोनों ही गुटों की ओर से बताया गया कि रविवार को हुए इस घटनाक्रम में एबीवीपी और वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े कुछ छात्र घायल हुए हैं। कुछ छात्रों को एम्स और सफदरजंग अस्पताल भी ले जाया गया है।
Delhi: Heavy police presence at the main gate of Jawaharlal Nehru University, following violence in the campus. https://t.co/RHjQxI3OKQ pic.twitter.com/cmrPLG5pT9
— ANI (@ANI) January 5, 2020
जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष ने आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे ऊपर एबीवीपी (ABVP) के कार्यकर्ताओं ने हमला किया। उन्होंने कहा कि उनके सिर में गंभीर चोट आई हैं और खून निकला है। उनके साथ मौजूद छात्रों ने बताया कि उनको नजदीकी अस्पताल में उपचार के लिए ले जाया गया।
वामपंथी छात्र संगठनों का आरोप है कि इस घटना में छात्र संघ के महासचिव सतीश चंद्र यादव को भी चोट आई है। आरोप है कि कई छात्र छात्रावास की फीस बढ़ोतरी के खिलाफ कैंपस में प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन एबीवीपी ने उन पर हमला कर दिया और पत्थर फेंके।
वहीं एबीवीपी के जेएनयू यूनिट के अध्यक्ष दुर्गेश कुमार ने वामपंथी छात्र संगठनों और छात्र संघ पर आरोप लगाते हुए कहा कि रविवार के दिन मॉनसून सेमेस्टर के लिए उन छात्रों का पंजीकरण का आखिरी दिन था, जो दिसंबर महीने में परीक्षा से वंचित रह गए थे। इसके साथ ही जनवरी से शुरू होने वाले विंटर सेमेस्टर के लिए भी 5 जनवरी तक छात्रों को पंजीकरण कराने की तिथि निर्धारित की गई थी। लेकिन दो – तीन दिनों से वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े कई छात्रों ने पंजीकरण की प्रक्रिया को बाधित किया।
पंजीकरण जिस संचार व सूचना सेवा कार्यालय में हो रहा था, उसकी इंटरनेट सेवा शनिवार रात को वामपंथी छात्र संगठनों के द्वारा ठप कर दी गई।इसकी वजह से रविवार को पंजीकरण करने अंतिम दिन कोई पंजीकरण नहीं हो सका। इसलिए रविवार को 3 बजे एबीवीपी से जुड़े छात्र प्रशासनिक भवन के पास स्थित स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर इकट्ठा हुए और कोशिश की की पंजीकरण की व्यवस्था को शुरू किया जा सके लेकिन इसके तुरंत बाद वामपंथी छात्र संगठन एक जुट हुए और हमला शुरू कर दिया। दुर्गेश ने आरोप लगाते हुए कहा कि एबीवीपी से जुड़े सभी कार्यकर्ता पेरियार छात्रवास की तरफ स्वयं को सुरक्षित करने के पहुंचे लेकिन यहां पर लेफ्ट से जुड़े छात्रों ने एबीवीपी के छात्रों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा और इन कार्यकर्ता पर लेफ्ट ने पथराव भी किया।
दुर्गेश ने आरोप लगाते हुए दावा किया कि इस घटना में उनके संगठन से जुड़े कई छात्र घायल हुए हैं। जिन्हें एम्स ट्रामा सेंटर और सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि महिला और पुरूष सुरक्षा कर्मियों के साथ भी लेफ्ट के छात्रों ने मारपीट की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *