जम्‍मू-कश्‍मीर बड़ा खुलासा: देविंदर सिंह ने बताया-एक और अधिकारी आतंकियों से मिला

सूत्रों ने बताया था कि पिछले साल सिंह ने पिछले साल हिज्‍बुल के आतंकवादी नवीद बाबू को जम्‍मू ले गया था। यही नहीं बताया जा रहा है कि देविंदर सिंह हिज्‍बुल के रफी नामक आतंकी के संपर्क में भी था जो लोगों को पाकिस्‍तान ले जाने के लिए जिम्‍मेदार है।
 हाइलाइट्स
  • जम्मू-कश्मीर पुलिस के बर्खास्‍त डीएसपी देविंदर सिंह ने पुलिस पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है
  • देविंदर ने दावा किया है कि पुलिस के एक वरिष्‍ठ अधिकारी आतंकवादियों के लिए काम कर रहे
  • डीएसपी देविंदर सिंह ने माना कि उसने हिज्‍बुल आतंकवादियों की मदद करके ‘बड़ी गलती की है।’

श्रीनगर:हिज्‍बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को अपनी कार में जम्‍मू ले जाते हुए गिरफ्तार हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस के बर्खास्‍त डीएसपी देविंदर सिंह ने पुलिस पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है। देविंदर ने आरोप लगाया है कि पुलिस बल में तैनात एक और वरिष्‍ठ अधिकारी आतंकवादियों के लिए काम कर रहे हैं। देविंदर सिंह ने माना कि उसने आतंकवादियों की मदद करके ‘बड़ी गलती की है।’

जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के सूत्रों ने बताया कि देविंदर सिंह को आतंकवादियों को जम्‍मू ले जाने के लिए 10 लाख रुपये दिए गए थे। उन्‍होंने कहा, ‘सिंह ने दावा किया है कि एक और वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी आतंकवादियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। जांचकर्ताओं ने कहा है कि हम इसकी पुष्टि करेंगे क्‍योंकि जांच को भटकाने का एक प्रयास भी हो सकता है।’

नवीद बाबू को जम्‍मू ले गया था देविंदर
सूत्रों ने बताया था कि पिछले साल सिंह ने पिछले साल हिज्‍बुल के आतंकवादी नवीद बाबू को जम्‍मू ले गया था। सूत्रों ने कहा, ‘नवीद ने सिंह को 8 लाख रुपये दिए थे और वह दो महीने तक जम्‍मू में रहा था। 11 जनवरी को जब सिंह को नवीद बाबू और एक अन्‍य आतंकवादी के साथ अरेस्‍ट किया गया था, तब उसने दावा किया था कि दोनों ही लोग आत्‍मसमर्पण करने वाले थे। जांचकर्ताओं ने कहा है कि देविंदर सिंह झूठ बोल रहा है।’
यही नहीं बताया जा रहा है कि देविंदर सिंह हिज्‍बुल के रफी नामक आतंकी के संपर्क में भी था जो लोगों को पाकिस्‍तान ले जाने के लिए जिम्‍मेदार है। सूत्रों के मुताबिक एक या दो दिन में एनआईए की टीम श्रीनगर पहुंच रही है और वह देविंदर सिंह को लेकर दिल्‍ली जाएगी जहां उससे पूछताछ होगी। बता दें कि जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के डीजीपी ने देविंदर सिंह को सेवा से बर्खास्‍त कर दिया है।

पुलवामा के त्राल का रहने वाला है देविंदर
जांच के दौरान यह भी पता चला है कि देविंदर सिंह का ड्रग्‍स माफिया से गहरा संबंध था। देविंदर सिंह पुलवामा के त्राल का रहने वाला है। यह वही इलाका है जो हिज्‍बुल मुजाहिदीन का गढ़ माना जाता है। आतंकी बुरहान वानी और जाकिर मूसा इसी इलाके के रहने वाले हैं। त्राल में देविंदर सिंह की पैतृक संपत्ति भी है। उसका एक घर जम्‍मू में भी है। सिंह के परिवार में पत्‍नी और दो बच्‍चे हैं। उसकी एक बेटी बांग्‍लादेश से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है। सिंह का बेटा श्रीनगर में पढ़ाई करता है।

दिल्ली-एनसीआर में आतंकी हमले की साजिश रच रहा था डीएसपी के साथ गिरफ्तार नवीद मुश्ताक

जम्मू-कश्मीर में डीएसपी देवेंद्र सिंह के साथ गिरफ्तार होने वाले आतंकी नवीद मुश्ताक ने दिल्ली-एनसीआर में हमले की साजिश रची थी. वह टारगेट किलिंग के लिए उत्तर भारत से छोटे हथियार मंगवा रहा था. साल 2017 में 4 हथियारों के साथ फरार होने के बाद आतंकी नवीद मुश्ताक ने हिजबुल मुजाहिदीन ज्वाइन कर लिया था.

आतंकी काफियतुल्लाह (AK- 47 लिए) और नवीद मुश्ताकआतंकी काफियतुल्लाह (AK- 47 लिए) और नवीद मुश्ताक
  • दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की रडार पर पहले से ही था आतंकी नवीद मुश्ताक
  • साल 2017 में जम्मू-कश्मीर पुलिस की नौकरी छोड़कर बन गया था हिजबुल आतंकी

जम्मू-कश्मीर के डीएसपी देवेंद्र सिंह के साथ कार में गिरफ्तार होने वाला आतंकी नवीद मुश्ताक उर्फ नवीद बाबू दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के रडार पर भी था. उसने दक्षिण कश्मीर में अंडरग्राउंड अड्डा बनाया था, जिसमें आतंकी छिपते थे. नवीद मुश्ताक चार बार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को चकमा देकर फरार होने में कामयाब हुआ था.आरोप है कि नवीद मुश्ताक ने दिल्ली-एनसीआर में आतंकी हमले की साजिश रची थी. वह टारगेट किलिंग के लिए उत्तर भारत से छोटे हथियार मंगवा रहा था. साल 2017 में 4 हथियारों के साथ फरार होने के बाद आतंकी नवीद मुश्ताक ने हिजबुल मुजाहिदीन ज्वाइन कर लिया था. जम्मू कश्मीर पुलिस का कांस्टेबल रहा नवीद मुश्ताक घाटी में नए सिरे से अपना अड्डा बनाने में जुटा था.

अंडरग्राउंड आतंकी ठिकाना

terr_1_011620063248.jpg

नवीद मुश्ताक ने अपने गैंग में कुछ आतंकियों को भी भर्ती किया था और उनको आईएसआईएस के नाम पर हमले के लिए उकसाता था. नवीद मुश्ताक दिल्ली और जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग को अंजाम देना चाहता था. इसके लिए वह उत्तर भारत से छोटे हथियार मंगवा रहा था. टारगेट किलिंग के लिए छोटे हथियारों की जरूरत होती है, जो जम्मू कश्मीर में नहीं मिलते हैं.

जनवरी 2019 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और जम्मू कश्मीर की शोपियां पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में नवीद मुश्ताक से जुड़े आतंकी काफियतुल्लाह बुखारी और किशोर को शोपियां में गिरफ्तार किया था. दोनों आतंकियों ने पूछताछ में खुलासा किया था कि वो नवीद मुश्ताक के संपर्क में थे. इतना ही नहीं, पुलिस टीम ने गिरफ्तार आतंकी काफियतुल्लाह के साथ नवीद मुश्ताक की फोटो भी बरामद की थी.

terrorist_011620063307.jpg

इसके बाद दिल्ली पुलिस और जम्मू-कश्मीर पुलिस की टीम ने सेना की मदद से शोपियां में कई जगह छापेमारी की थी और नवीद मुश्ताक के कई अंडरग्राउंड ठिकानों को खोजा था. सुरक्षा बलों ने नवीद मुश्ताक के अंडरग्राउंड ठिकानों पर भी रेड की थी. हालांकि नवीद मुश्ताक 4 बार पुलिस को चकमा देकर फरार होने में कामयाब रहा.

पुलिस की पूछताछ में दौरान खुलासा हुआ था कि काफियतुल्लाह और बाकी आतंकी नवीद मुश्ताक के साथ मिलकर दिल्ली-एनसीआर में भी आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं. अब निलंबित डीएसपी देवेंद्र सिंह की कार से नवीद मुश्ताक की गिरफ्तारी की खबर ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम और अधिकारियों को हैरत में डाल दिया है. नवीद मुश्ताक ने साल 2012 में जम्मू कश्मीर पुलिस में बतौर कांस्टेबल जॉइन किया था और साल 2017 में आतंकी बन गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *