22 मिसाइलों से आधे घंटे तक अमेरिकी ठिकानों पर हमला, मारे गए 80 अमेरिकी:ईरान का दावा

अपने आर्मी जनरल क़ासिम सुलेमानी के अमेरिकी अटैक में मारे जाने के बाद ईरान ने अमेरिका पर बड़ा पलटवार किया है. इराक में तीन अमेरिकी ठिकानों इरबिल, अल असद और ताजी पर ईरान ने मिसाइलों से हमला किया है. ईरान ने फिर से अमेरिका को बड़ी चेतावनी दी है और कहा है कि अगर उसके मिसाइल हमलों का जवाब अमेरिका देता है तो फिर इसका जवाब वो अमेरिका में घुस कर देंगे.
नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने भारतीय एयरलाइन कंपनियों से कहा कि वे ईरान, इराक, ओमान की खाड़ी और फारस की खाड़ी में हवाई क्षेत्र में पूरी सतर्कता बरतें. इससे पहले अमेरिकी संघीय उड्डयन प्रशासन (एफएए) अमेरिका में पंजीकृत विमानों के इराक, ईरान और खाड़ी क्षेत्र के ऊपर से गुजरने पर प्रतिबंध लगा चुका है.
इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर ईरान के हमले के बाद ब्रिटेन ने इस हमले की निंद की है. ब्रिटने ने ईरान से दोबारा ऐसा हमला नहीं करने की अपील भी की है.
ईरान के बुशेहर न्यूक्लियर पावर प्लांट के पास 4.5 तीव्रता वाला भूकंप आया है. एक अमेरिकी मॉनिटर एजेंसी ने ये जानकारी दी है. ये भूकंप न्यूक्लियर पावर प्लांट के करीब 50 किलोमीटर से भी कम दूरी पर आया है. ये भूकंप बोरजान शहर में स्थानीय समय के मुताबिक सुबह करीब 6 बजकर 49 मिनट पर आया. बुशेशर प्लांट 2013 में रुस की मदद से बनाया गया था.
अमेरिकी ठिकानों पर हमले के बाद ईरान के सुप्रीम लीडर अली ख़ामेनेई ने कहा है कि ये हमला अमेरिका के मुंह पर एक करारा तमाचा है. ईरान ने आज इराक में मौजूद अमेरिका के तीन सैन्य ठिकानों पर हमला किया है.
ईरान की सरकार ने बयान जारी करके कहा है कि हमने अमेरिकी ठिकानों पर 22 मिसाइलों से हमला किया है. इस हमले में 80 लोग मारे गए हैं.
इस हमले के बाद ईरान ने यह भी कहा है कि अमेरिका ने अगर जवाबी कार्रवाई की तो फिर पूरे पश्चिम एशिया में युद्ध होगा.
इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हमले के बाद ईरान ने दावा किया है कि इन हमलों में कम से कम 80 लोग मारे गए हैं. वहीं, अमेरिका की तरफ से अभी तक इस हमले में हुए नुकसान की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है.
अमेरिका और ईरान के बीच तनाव को देखते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने नागरिकों के लिए ट्रेवल एडवाइजरी जारी की है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है कि अगर बहुत जरूरी न हो तो इराक जानें से बचें. इसके अलावा रवीश कुमार ने वहां रहे भारतीय नागरिकों को सलाह दी है कि वह सतर्क रहें.भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने नागरिकों को ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि अगर बहुत जरूरी न हो तो इराक की यात्रा से बचें….
अमेरिकी विदेश मंत्री मार्क ऐस्पर ने कहा कि अमेरिका जंग नहीं चाहता, लेकिन अगर ईरान की तरफ से ऐसी कोई कार्रवाई की गई तो जंग को खत्म अमेरिका करेगा.
इरबिल और अल असद पर ईरान के हमले की पुष्टि हो गयी है. अभी तक ताजी पर हमले की पुष्टि नहीं हो पायी है. इधर अमेरिका में व्हाइट हाउस में माहौल बेहद तनाव भरा है. राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप व्हाइट हाउस के सिचुएशन रूम में मौजूद हैं. उनके साथ उप राष्ट्रपति माइक पेंस, रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो मौजूद हैं. ट्रंप ने अपना संबोधन भी रद्द कर दिया है.
ईरान ने इज़रायल के हाइफा और दुबई पर भी हमले की चेतावनी दी है. कहा है कि अगर उनके देश पर हमले किए जाते हैं तो भी नतीजे भुगतने के लिए हाइफा और दुबई भी तैयार रहें.
ईरानः तेहरान एयरपोर्ट के पास यूक्रेन का विमान क्रैश, 180 लोग थे सवार
ईरान की राजधानी तेहरान में बड़ा विमान हादसा हुआ है. तेहरान एयरपोर्ट के पास यूक्रेन का विमान क्रैश हो गया है. इस विमान में 180 लोग सवार थे….
ईरान और यूएस की इस तकरार के बीच ईरान की राजधानी तेहरान में यूक्रेन का विमान क्रैश कर गया है. इस विमान में 180 लोग सवार थे. घटना तेहरान एयरपोर्ट के इमाम खुमैनी हवाई अड्डे के पास घटी है. बोइंग 737 विमान क्रैश हुआ है.
हमले के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट करके कहा है- ‘ऑल इज वेल’. इराक में स्थित दो सैन्य ठिकानों पर ईरान ने मिसाइलें दागी है. इसमें होने वाले हताहतों और नुकसान का आकलन किया जा रहा है. अब तक सब ठीक है. हमारे पास दुनिया में कहीं भी सबसे शक्तिशाली और अच्छी तरह से सुसज्जित सेना है. मैं कल सुबह बयान दूंगा.”
ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा, संयुक्त राष्ट्र के चार्टर आर्टिकल 51 के तहत ईरान ने आत्मरक्षा में यह कदम उठाया जो हमारे नागरिकों और वरिष्ठ अधिकारियों पर किए गए कायरतापूर्ण हमले का जवाब था.
अमेरिका पर इस हमले के बाद ईरान के एक टीवी चैनल ने बताया कि यह हमला जनरल कासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेने के लिए किया गया है. बताया जा रहा है कि ईरान ने इराक में अमेरिकी सैनिकों की टुकड़ियों पर इसलिए हमला किया है, क्योंकि जनरल सुलेमानी को अमेरिका ने इराक में ही मारा था.
अमेरिका ने इस बात की पुष्टि की है कि ईरान की ओर से मिसाइलों के जरिए सैनिकों के ट्रेनिंग बेस पर हमला किया गया है. ईरान की ओर से हुए हमले में फिलहाल कितने अमेरिकी सैनिक घायल हुए हैं, इसकी जानकारी नहीं है. अपने आर्मी जनरल क़ासिम सुलेमानी के अमेरिकी अटैक में मारे जाने के बाद ईरान ने अमेरिका पर बड़ा पलटवार किया है. इराक में तीन अमेरिकी ठिकानों इरबिल, अल असद और ताजी पर ईरान ने मिसाइलों से हमला किया है. ईरान ने फिर से अमेरिका को बड़ी चेतावनी दी है और कहा है कि अगर उसके मिसाइल हमलों का जवाब अमेरिका देता है तो फिर इसका जवाब वो अमेरिका में घुस कर देंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *