योगी आदित्‍यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर में की श्रीनाथ पूजा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विजयादशमी के अवसर पर मंगलवार की सुबह गोरखनाथ मन्दिर में श्रीनाथ की पारंपरिक पूजा पूरे विधि-विधान के साथ संपन्‍न की।
गोरखपुर,। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विजयादशमी के अवसर पर मंगलवार की सुबह गोरखनाथ मन्दिर में श्रीनाथ की पारंपरिक पूजा पूरे विधि-विधान के साथ सम्पन्न की। श्रीनाथ पूजा से पहले गोरक्षपीठाधीश्वर की भव्य शोभायात्रा मंदिर परिसर में निकली।
नाथ पंथ के योगियों, पुजारियों एवं संतों के साथ सुबह 9.25 बजे निकली शोभा यात्रा की अगुवाई मुख्यमंत्री योगी बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर खुद कर रहे थे।100 की संख्या में वेदपाठी बच्चे त्रिशूल, तलवार और अन्य शस्त्र लिए सैनिक की तरह उनकी सुरक्षा में चल रहे थे।
शोभायात्रा भी निकली
शोभायात्रा सबसे पहले गुरु गोरक्षनाथ के दरबार में पहुंची, जहां गर्भगृह में श्रीनाथ जी का अनुष्ठान एवं पूजन संपंन किया गया। पूजा के अंत में ढोल नगाड़े की धुन बीच भव्य आरती हुई। पूजन प्रक्रिया तकरीबन एक घंटे चली, जिसमें योगी आदित्यनाथ के साथ योगी कमलनाथ एवं सूरजनाथ ही मौजूद रहे।
कलाकारों ने किया प्रदर्शन
शोभायात्रा के दौरान बैंड के साथ डमरु, बीन, शंख बजाने वाले कलाकारों का श्रद्धा से भरा शौर्यपूर्ण प्रदर्शन मौजूद लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहा। पूरा परिसर एक आध्यात्मिक और सकारात्मक ऊर्जा से ओतप्रोत था।
श्रीनाथ पूजा के बाद योगी आदित्यनाथ ने भैरव मंदिर, दुर्गा मंदिर, रामदरबार, अखण्ड धूनी, हनुमान मंदिर, श्रीकृष्ण दरबार सहित मन्दिर परिसर में स्थापित सभी देवी-देवताओं का दर्शन-पूजन किया।
योगी ने मछलियों को चारा डाला
इसी क्रम में यात्रा भीम प्रतिमा के सामने पहुंची, जहां भीम सरोवर पर पूजन किया गया। योगी ने सरोवर की मछलियों के लिए चारा भी डाला। सबसे अंत में उन्होंने ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ की समाधि पर पहुंचकर उन्हें पुष्प अर्पित किया। शोभायात्रा के बाद मुख्यमंत्री गोशाला गए और करीब 20 मिनट गायों के बीच गुजरा।
भक्तों ने तिलक लगाकर लिया योगी का आशीर्वाद
पूजन के बाद दोपहर एक बजे तिलकोत्सव कार्यक्रम आयोजित हुआ। मन्दिर के तिलक हाल में आयोजित इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में भक्तों ने गोरक्षपीठाधीश्वर को तिलक लगाकर उनका आशीर्वाद लिया। आशीर्वाद स्वरूप योगी ने भी श्रद्धालुओं के माथे पर चंदन का तिलक लगाया। कार्यक्रम शाम तीन बजे तक चला। तिलक लगाने की शुरुआत मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमल नाथ ने नाथ संप्रदाय के अन्य योगियों एवं साधु-संतों के साथ की। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों के अलावा भाजपा नेताओं ने भी हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *