पाक/दुष्कर्म के बाद की गई थी डॉ.नम्रता चंदानी की हत्या; फाइनल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा

पाकिस्तान के सिंध प्रांत के लरकाना की मेडिकल छात्रा नम्रता चंदानी की संदिग्ध हालात में मौत के मामले में सनसनीखेज जानकारी सामने आई है जिसमें उसके साथ रेप होने की बात सामने आ रही है।
मेडिकल छात्रा नम्रता चंदानी का शव 16 सितंबर को उनके हास्टल के कमरे में मिला था (फाइल फोटो)

मुख्य बातें
पाकिस्तान में एक हिंदू लड़की नम्रता चंदानी की हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ हैपोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक नम्रता की हत्या से पहले उसके साथ रेप किया गया था.नम्रता के शरीर व कपड़ों के नमूनों पर किसी पुरुष के डीएनए सैंपल के निशान मिले थे.नम्रता का शव 16 सितंबर को लरकाना में उसके हॉस्टल रूम में पलंग पर मिला था।
16 सितंबर को मेडिकल छात्रा नम्रता का शव उनके कमरे में पलंग पर मिला था, गले में रस्सी बंधी थी,नम्रता के भाई विशाल भी डॉक्टर हैं, उन्होंने शव देखने के बाद कहा था कि यह खुदकुशी नहीं हत्या है

कराची. नई दिल्ली: पाकिस्तान में एक हिंदू लड़की नम्रता चंदानी की हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक बताया जा रहा है कि उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सनसनीखेज बात सामने आई है। लरकाना के चंदका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (CMCH) की वूमेन मेडिको लीगल ऑफिसर (WMLO) डा. अमृता ने इसके बारे में बताते हुए कहा है कि नम्रता की हत्या से पहले उसके साथ रेप (Rape) किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक डॉ. नम्रता की मौत दम घुटने के कारण हुई थी।
इससे पहले जांच में ये बात सामने आई थी कि नम्रता के शरीर व कपड़ों के नमूनों पर किसी पुरुष के डीएनए सैंपल के निशान मिले थे। रोजनामा पाकिस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, लरकाना स्थित शहीद मोहतरमा बेनजीर भुट्टो मेडिकल कॉलेज के बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज की छात्रा नम्रता की डीएनए रिपोर्ट जारी की गई थी।
जामशोरो की फॉरेंसिक लैब से जारी की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, नम्रता के शरीर के नमूनों और कपड़ों पर एक पुरुष के डीनए सैंपल के निशान मिले हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि लरकाना के एसएसपी मसूद बंगश ने बताया कि नम्रता की डीएनए रिपोर्ट संबंधित पुलिस स्टेशन को मिल चुकी है और इसे अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा। लरकाना पुलिस ने बीती 16 सितंबर को नम्रता को मृत पाए जाने के बाद 17 सितंबर को उनके शरीर के नमूने और उनके कपड़े डीएनए जांच के लिए फॉरेंसिक लैब को भेज दिए थे। अब इसकी रिपोर्ट में बताया गया है कि इन पर पुरुष के डीएनए के निशान मिले हैं ।नम्रता का शव 16 सितंबर को उनके हास्टल के कमरे में मिला था।
विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा और शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी कहा गया कि यह आत्महत्या का मामला हो सकता है, लेकिन नम्रता के परिजनों ने साफ कहा कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या का मामला है। नम्रता के भाई विशाल पेशे से चिकित्सक हैं। उन्होंने कहा था कि शव को देखकर यह कहा जा सकता है कि उनकी बहन की हत्या की गई है।
पुलिस ने इस मामले में नम्रता के साथ पढ़ने वाले दो छात्रों को हिरासत में लिया था। इनमें से एक महरान अबरो की नम्रता से गहरी मित्रता पाई गई। अबरो का दावा है कि नम्रता उससे शादी करना चाहती थी लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं था और इस बात से वह काफी परेशान थी।
नम्रता के घरवालों, सहपाठियों, हिंदू समुदाय और सिंध की सिविल सोसाइटी ने इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए सरकार पर दबाव बनाया। इसके बाद इस मामले की न्यायिक जांच की जा रही है।
फाइनल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया कि हत्या के पहले नम्रता के साथ दुष्कर्म भी हुआ था। नम्रता का शव 16 सितंबर की सुबह उनके हॉस्टल के कमरे से बरामद किया गया था। गले में एक रस्सी बंधी थी। नम्रता के भाई विशाल खुद कराची के मशहूर सर्जन हैं। उन्होंने शव देखने के बाद कहा था- यह खुदकुशी नहीं बल्कि हत्या है। बीबी आसिफा मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने इसे खुदकुशी बताया था।
मेडिकल कॉलेज ने जारी की ऑटोप्सी रिपोर्ट
नम्रता की फाइनल ऑटोप्सी रिपोर्ट बुधवार को चांदका मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (सीएमसीएच) ने जारी की। सोशल मीडिया पर वायरल हुई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि नम्रता की हत्या से पहले उसके साथ दुष्कर्म किया गया था। बाद में उसका गला घोट दिया गया। रिपोर्ट पर सीएमसीएच की मेडिको लीगल ऑफिसर के दस्तखत हैं।
इससे पहले 30 अक्टूबर को नम्रता की डीएनए रिपोर्ट सामने आई थी। पुलिस ने कहा था कि नम्रता के शरीर और कपड़ों पर पुरुष डीएनए के अंश मिले हैं, जिसे कोर्ट में पेश किया गया था। अब ऑटोप्सी रिपोर्ट भी कोर्ट के सामने पेश की जाएगी।
नम्रता के भाई ने कहा था कि उसकी हत्या की गई
दरअसल, नम्रता की हत्या के बाद कॉलेज प्रशासन इसे खुदकुशी बता रहा था। दूसरी तरफ, नम्रता के सर्जन भाई विशाल ने इसे सौ फीसदी हत्या बताया था। नम्रता का शव उनके कमरे में पलंग पर मिला था। मुंह नीचे लटका था। गले में रस्सी बंधी थी। इससे फंदा बनाकर लटकना नामुमकिन था, क्योंकि लंबाई कम थी। कमरा अंदर से बंद था लेकिन बिना ग्रिल वाली दो खिड़कियां खुली थीं। दो छात्रों को हिरासत में लिया गया था। इन्हें दो दिन हिरासत में रखा गया लेकिन फिर छोड़ दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *