चुनाव हारने के बाद रो पड़ीं पंकजा मुंडे ?:फैक्ट चेक

झूठा है पंकजा मुंडे का हार के बाद रोने का दावा, वायरल वीडियो चुनाव के पहले का है
फेसबुक पेज Courageous India ने रोते हुए पंकजा मुंडे का एक फोटो अपलोड करते हुए अंग्रेजी में कहा कि महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे अपने चचेरे भाई और एनसीपी के धनंजय मुंडे से परली निर्वाचन क्षेत्र से 22,000 वोटों से हारने के बाद आंसू बहा रही हैं.कई फेसबुक यूजर्स और मीडिया पोर्टल्स ने भी यह दावा किया है।
वायरल तस्वीरMaharashtra’s Women & Child Development Minister Pankaja Munde was in tears after she lost by 22,000 votes from Parli constituency to his cousin and NCP’s Dhananjay Panditrao Munde.
Both Amit Shah and Narendra Modi had campaigned for her.
मुंबई, 27 अक्टूबर ! हाल ही में आए महाराष्ट्र विधानसभा के नतीजों ने कई लोगों को चौंका दिया है। कई दिग्गज चेहरे हार गए हैं। इन्हीं बड़े चेहरों में एक नाम पंकजा मुंडे का भी है। उन्हें एनसीपी के धनंजय मुंडे ने हरा दिया। नतीजे आने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स दावा कर रहे हैं कि हार के बाद पंकजा रो पड़ीं। उनकी एक इमेज भी मीडिया में वायरल हो रही है। एक पाठक ने हमें यह वायरल पोस्ट सत्यता की पुष्टि के लिए भेजी। जानिए इसकी हकीकत। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में हाई प्रोफाइल बीड की परली सीट पर सब की नज़रें थीं. इस सीट पर एक ही परिवार के दो लोग आमने सामने खड़े थे. बीजेपी के दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी और मंत्री रही पंकजा मुंडे के सामने उनके चचेरे भाई धनंजय मुंडे एनसीपी के टिकट पर ताल ठोक रहे थे. 24 अक्टूबर को चुनाव परिणाम आए तो पकंजा को हार का सामना करना पड़ा और बाजी धनंजय के हाथ लगी.
जैसे ही चुनाव के नतीजे सामने आए वैसे ही सोशल मीडिया यूजर्स दावा करने लगे कि हार के बाद पंकजा रो पड़ी. इस दावे के साथ ही पंकजा का एक रोता हुआ फोटो भी वायरल हुआ.
क्या है दावा
फेसबुक पेज ‘Courageous India’ ने रोते हुए पंकजा मुंडे का एक फोटो अपलोड करते हुए अंग्रेजी में कहा, ‘महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे के अपने चचेरे भाई और एनसीपी के धनंजय मुंडे से परली निर्वाचन क्षेत्र से 22,000 वोटों से हारने के बाद आंसू बह रहे है. अमित शाह और नरेंद्र मोदी, दोनों ने इनके लिए प्रचार किया था.’ इस पोस्ट पर कुछ लोगों ने कमेंट करते हुए कहा ‘रो मत बच्चे’ और ‘रोते हुए वो अच्छी नहीं लग रही है’. इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.
कुछ और फेसबुक यूजर्स ने भी इसे 24 अक्टूबर का फोटो बताते हुए यही दावा किया है. News 24 जैसी न्यूजवेबसाइट ने भी यही दावा किया है, जिसका आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.
क्या है सच्चाई?
एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वायरल फोटो दरअसल महाराष्ट्र चुनावों के कुछ दिन पहले का है और इसका चुनाव के नतीजों से कुछ लेना देना नहीं है.
tv-9-marathi_102519052753.jpg
वायरल हो रहे फोटो में टीवी9 चैनल का एक माइक दिखा रहा है. एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम ने टीवी9 मराठी चैनल के यूट्यूब पेज पर पंकजा मुंडे के इंटरव्यू की खोज की. थोड़ा ढूंढने के बाद ही 20 अक्टूबर को दिया एक इंटरव्यू सामने आया, जिसमें पंकजा पीले रंग का कुर्ता पहने नज़र आ रही हैं जो कि वायरल फोटो में भी है. पंकजा का रोता हुआ जो एक्सप्रेशन वायरल हुआ है, उसे इस वीडियो में यहां देखा जा सकता है.
पंकजा इस वीडियो में बता रही है कि आखिर उन्हें कितना बुरा लगा जब उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी धनंजय मुंडे का एक वायरल वीडियो देखा. धनंजय मुंडे का एक वीडियो पिछले हफ्ते वायरल हुआ था जिसमें वो अपनी बहन के बारे में अभद्र बातें कर रहे हैं.
टीवी9 मराठी के क्लिपिंग में पंकजा कह रही हैं, ‘दो तीन बार वो वीडियो मेरी आंखों के सामने से गया, तो वो राग,वो तिरस्कार,उन भावों ने मुझे बहुत आहत किया है. मुझे इस आहत से बाहर आने में दो दिन लग गए. मैं सोच रही थी कि मैं कैसे किसी का सामना करूंगी. मैंने अपना आत्मविश्वास खो दिया. लेकिन कुछ महिलाओं ने मुझसे मुलाकात की और मुझे प्रोत्साहित किया’.
जिस वीडियो के बारे में पंकजा बात कर रही हैं, उस वीडियो के साथ छेड़छाड़ का दावा एनसीपी ने किया है और इसको लेकर परली में ही केस भी दर्ज किया गया है.
24 अक्टूबर को हारने के बाद पंकजा का वीडियो यहां देखा जा सकता है, जिसमें वो गुलाबी सलवार कुर्ता पहनी हुई नजर आ रही हैं.

निष्कर्ष
तो यह साफ है कि पंकजा मुंडे का वायरल फोटो चुनावों के नतीजे सामने आने से बहुत पहले का है और उसका पंकजा की हार से कुछ लेना-देना नहीं है.
फैक्ट चेक
फैक्ट चेक: क्या चुनाव हारने के बाद पंकजा मुंडे रो पड़ीं?
दावा
भाजपा उम्मीदवार और महाराष्ट्र की पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे अपने चचेरे भाई से हारने के बाद रो पड़ीं.
निष्कर्ष
पंकजा मुंडे की वायरल तस्वीर महाराष्ट्र में मतदान के भी पहले की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *