इलेक्ट्रिक गाड़ियों को बढ़ावा , खुलेंगे 24 राज्यों के 62 शहरों में 2,636 चार्जिंग स्टेशन

केंंद्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने देश में नए इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन खोलने की घोषणा की।
केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री जावड़ेकर ने कहा- नए चार्जिंग स्टेशन खुलने से इलेक्ट्रिक गाड़ियां आसानी से चार्ज होंगी, निर्माता नए मॉडल लॉन्च करेंगे
‘स्टेशन खोलने के लिए कंपनियों का चयन फेम इंडिया योजना के तहत किया गया, इन्हें सरकार सब्सिडी भी देगी’
नई दिल्ली. केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को कहा कि देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा- फास्ट एडॉप्शन एंड मैनुफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स इन इंडिया (फेम इंडिया) योजना के तहत देश के 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 62 शहरों में 2,636 चार्जिंग स्टेशन खोले जाएंगे।
उन्होंने कहा- भारी उद्योग विभाग ने योजना के दूसरे चरण में इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन खोलने के लिए कंपनियों से आवेदन आमंत्रित किए थे। आवेदन करने वाली कंपनियों में से कुछ स्टेशन खोलने के लिए चुनी गई है। सरकार इन्हें इसके लिए सब्सिडी भी देगी।
सभी शहरों में कुल 14000 चार्जर लगाए जाएंगे: जावड़ेकर
जावड़ेकर ने कहा- सरकार को निजी और सार्वजनिक कंपनियों से 7000 स्टेशन खोलने के लिए 106 प्रस्ताव मिले थे। इनमें से 19 कंपनियों को मंजूरी दी गई है। दूसरे चरण में खुलने वाले स्टेशनों में 1,633 फास्ट चार्जिंग स्टेशन होंगे। ये स्टेशन सभी शहराें में 4 किमी. के दायरे में स्थापित किए जाएंगे। कुल 14000 चार्जर लगाए जाएंगे।
‘सरकार के इस पहल से इलेक्ट्रिक वाहनों के नए मॉडल लॉन्च होंगे’
उन्होंने कहा- सरकार की इस पहल से इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता नए मॉडलों का उत्पादन करने के लिए आगे आएंगे। नए स्टेशन खुलने से इलेक्ट्रिक गाड़ियों का उपयोग करने वालों को आसानी होगी। मौजूदा समय में इन गाड़ियों के निर्माता चार्जिंग के लिए सुविधा नहीं होने के कारण नए मॉडल लॉन्च करने से हिचकते हैं। यह स्थिति बदलेगी और लोगों को भी अधिक विकल्प मिल सकेगा।

कहां कितने स्टेशन खुलेंगे:

महाराष्ट्र 317
आंध्रप्रदेश 266
गुजरात 228
राजस्थान 205
उत्तर प्रदेश 207
कर्नाटक 172
मध्यप्रदेश 159
पश्चिम-बंगाल 141
तेलंगाना 138
केरल 131
दिल्ली 72
चंडीगढ़ 70
हरियाणा 50
मेघालय 40
बिहार 37
सिक्किम 29
जम्मू 25
श्रीनगर 25
छत्तीसगढ़ 25
असम 20
ओडिशा 18
उत्तराखंड 10
पुदुच्चेरी 10
हिमाचल प्रदेश 10
शहरों में हर तीन किलोमीटर पर होगा चार्जिंग स्टेशन
सभी हाईवे और एक्सप्रेस-वे पर हर 25 किमी पर चार्जिंग स्टेशन,कोई भी लगा सकेगा चार्जिंग स्टेशन, नहीं लेना पड़ेगा लाइसेंस
इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री आरके सिंह ने इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग दिशा-निर्देश में संशोधनों को मंजूरी दे दी है। बुनियादी ढांचागत सुविधाओं से जुड़े यह संशोधित दिशा-निर्देश 14 दिसंबर, 2018 को मंत्रालय की ओर से जारी दिशा-निर्देश की जगह लागू होंगे। आरके सिंह ने कहा कि नए दिशा-निर्देश में इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों की चिंताओं को दूर करने की कोशिश की गई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि इससे लोग इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित होंगे।
इलेक्ट्रिक वाहन मालिकों की चिंताओं को दूर करने के लिए पूरे देश में एक समुचित चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की बात कही गई है। नए दिशा-निर्देश में शहरों में 3 किलोमीटर की परिधि में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन जरूर उपलब्ध होगा। इसके अलावा सभी प्रकार के हाईवे के दोनों ओर प्रत्येक 25 किलोमीटर पर एक चार्जिंग स्टेशन उपलब्ध होगा। पूरे देश में चार्जिंग स्टेशन का इंफ्रास्ट्रक्चर दो चरणों में तैयार किया जाएगा।
दो चरणों में होगा काम
3 किलोमीटर की परिधि में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन

पहले चरण यानी 1 से 3 साल के भीतर 40 लाख से अधिक की आबादी वाले शहर और इनसे जुड़े सभी एक्सप्रेस-वे पर चार्जिंग स्टेशन लगाए जाएंगे। दूसरे चरण में 3 से 5 साल में राज्यों की राजधानियों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यालयों में चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। इसके अलावा भारी इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए हर 100 किलोमीटर पर फास्ट चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए जाएंगे।
घरों और कार्यालयों में लगाए जा सकेंगे निजी चार्जिंग स्टेशन
घरों और कार्यालयों में निजी चार्जिंग स्टेशन बनाने का भी प्रावधान किया गया है। इसके लिए केवल बिजली वितरण कंपनियों से अनुमति लेनी होगी। इन जगहों पर फास्ट या स्लो चार्जर लगाना पूरी तरह से उपभोक्ता पर निर्भर होगा। कोई भी व्यक्ति या संस्थान पब्लिक चार्जिंग स्टेशन की स्थापना कर सकता है। इसके लिए किसी भी प्रकार का लाइसेंस लेने की जरूरत नहीं होगी।
ग्रेटर नोएडा के हबीबपुर में पहला इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन शुरू
गौतमबुद्धनगर जिले के ग्रेटर नोएडा में पहला इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन हबीबपुर के नजदीक लगे इंडियन ऑयल के पंप पर शुक्रवार को शुरू हो गया। स्टेशन को इंडियन ऑयल और एनटीपीसी ने मिलकर शुरू किया है। एक वाहन को चार्ज करने में 70 मिनट का समय लगेगा।
प्रदूषण को कम करने की मुहिम के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों पर जोर दिया जा रहा है। इनके चार्जिंग स्टेशन बनाने की शुरुआत हो गई है। शुक्रवार को जनपद में पहला इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन शुरू हो गया। इंडियन ऑयल और एनटीपीसी के सहयोग से यह पंप शुरू किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि पंप में बिजली मुहैया कराने में एनटीपीसी सहयोग करेगी। इस मौके पर इंडियन ऑल के पश्चिम उत्तर प्रदेश के कार्यकारी निदेशक विनय मिश्रा, एनटीपीसी के मुख्य महाप्रबंधक शीतल कुमार, राजीव कुमार, संजय भंडारी, पंकज भाटिया, ए राजा धर्मवीर चौधरी, सुशील गुप्ता आदि मौजूद थे।
ये सुविधाएं भी होंगी
एक साथ चार वाहन चार्ज होंगे : हबीबपुर के पास शुरू किए गए स्टेशन में एक साथ चार वाहन चार्ज किए जा सकेंगे। एक चार पहिया वाहन को चार्ज करने में करीब 70 मिनट का समय लगेगा। मांग बढ़ने के साथ ही यहां पर चार्जिंग प्वाइंट बढ़ाए जाएंगे ताकि लोगों को सहूलियत मिल सके।
आठ रुपये प्रति यूनिट शुल्क होगा : इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन में 8 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से पैसा लिया जाएगा। हालांकि, यह कीमत शुरुआती एक महीने के लिए है। इसके बाद इसकी दर तय की जाएगी। बहुत संभव है कि इसकी दरों में इजाफा कर दिया जाए।
दो और स्टेशन जल्द शुरू होंगे : अधिकारियों ने बताया कि जल्द ही दो और स्टेशन शुरू किए जाएंगे। एक इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन यमुना एक्सप्रेस वे पर और दूसरा नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे पर शुरू किया जाएगा। इसमें दो से तीन महीने का समय लग सकता है। इसके लिए तैयारी चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *