खुले में शौच कर रहे बच्चों की पीट-पीटकर हत्या, आरोपी ने कहा- सपने में संहार का आदेश मिला

रोशनी (लाल ड्रेस में) और अविनाश।
शिवपुरी के भावखेड़ी गांव की घटना, मृतकों में 12 साल की बच्ची और 10 साल का बच्चा,पुलिस ने कहा- अंधविश्वास और छुआछूत के एंगल से भी की जा रही है मामले की जांच
शिवपुरी। शिवपुरी जिले के सिरसौद थाना क्षेत्र के ग्राम में दो दबंग भाइयों ने सड़क किनारे शौच करने पर दो मासूमों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या कर दी। दोनों मासूम बुआ-भतीजे थे। हत्या करके भाग रहे दोनों आरोपित हाकिम यादव और राममेश्वर यादव को गांववालों ने पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया।घटना के बाद गांव में तनाव है। मौके पर पुलिस तैनात कर दी गई है। वहीं कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि दबंगों ने दुष्कर्म की कोशिश की, लेकिन जब बच्चों ने विरोध किया तो उनकी हत्या कर दी।

NDIbÆg Œ=uN fuU rNJvwhe fuU rmhmti= bü cw”Jth fUtu cwyt-C;esu fUe nÀgt fuU ct= cwyt-C;esu fUe nÀgt fuU ct= Dxltô:˜ vh vz;t˜ fUh;e vwr˜m>VUtuxtu – lRo=wrlgt
———————————-
mkckrÆt; Fch – rNJvwhe bü =ckdtuk lu fUe btmqb cwyt-C;esu fUe ˜trXgtuk mu vex-vexfUh fUe nÀgt

रोशनी (12 वर्ष) पुत्री कल्ला वाल्मीकि और उसका भतीजा अविनाश (10 वर्ष) पुत्र मनोज वाल्मीकि बुधवार की सुबह शौच के लिए सड़क किनारे बैठे थे। इसी दौरान गांव के ही दबंग भाई हाकिम यादव (45 वर्ष)व रामेश्वर यादव (36 वर्ष) मौके पर पहुंचे। दोनों ने बच्चों से कहा कि सड़क पर गंदगी कर रहे हो।बच्चे जब नहीं हटे तो उन्होंने लाठियों से पीटने लगे। सिर पर लाठियों के हमले से दोनों बच्चों की मौके पर ही मौत हो गई। हालांकि परिजन दोनों मासूमों को जिला अस्पताल लाए, लेकिन वहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
गांव पहुंचे वाल्मीकि समाज के नेताओं ने सोशल मीडिया पर वीडियो डालकर आरोप लगाया कि दोनों बच्चों के शव तौलिए में लिपटे हुए हैं, उन्हें कफन तक प्रशासन व पुलिस उपलब्ध नहीं करा सकी। अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां भी नहीं हैं। समाज के लोगों ने चंदा कर कफन और दफन का इंतजाम किया है।
आरोपित सुना रहे मनगढ़ंत कहानी
आरोपित भाई पुलिस गिरफ्त में आने के बाद अब वे कार्रवाई से बचने के लिए मनगढ़ंत कहानी बयान कर रहे हैं। हाकिम ने पुलिस से कहा कि उसे सपना आया था कि इनका संहार कर दो। इसलिए उसने ऐसा किया।
पिता बोले- दो साल से रखते थे रंजिश
अविनाश के पिता मनोज ने पुलिस को बताया कि दो साल पहले उसने गांव में टपरिया बनाने के लिए उसने सड़क से लकड़ी काटी थी। उस समय हाकिम और रामेश्वर ने उसके साथ गाली-गलौज की थी। दोनों भाई दबंग हैं। वह आरोपितों के खेतों पर काम भी करता है, उसे एक दिन की मजदूरी 50 रुपए देते थे। विरोध करने पर आरोपित गांव में काम बंद करवा देने की धमकी देते थे।
घटना पर मायावती का ट्वीट, हत्यारों को हो फांसी
बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने दो ट्वीट कर कहा कि मध्यप्रदेश के शिवपुरी में दो अजा मासूमों की नृशंस हत्या अति दुखद व अति निंदनीय है। कांग्रेस व बीजेपी की सरकार बताए कि गरीब अजा व पिछड़ों के घरों में शौचालय की समुचित व्यवस्था क्यों नहीं की गई है? खुले में शौच को मजबूर अजा मासूमों की पीट पीटकर हत्या करने वालों को फांसी की सजा अवश्य दिलाई जानी चाहिए।

इनका कहना है
ग्राम भावखेड़ी में लाठियों से पीट-पीटकर दो मासूमों की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में हत्या का केस दर्ज कर दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जहां तक दुष्कर्म की बात है तो ऐसी कोई घटना नहीं है।
राजेश सिंह चंदेल, एसपी शिवपुरी

मुख्यमंत्री ने दिए कड़ी कार्रवाई के निर्देश
दो बच्चों की हत्या की घटना को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बेहद हृदयविदारक बताया है। उन्होंने आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने एक ट्वीट के जरिए परिवार की सुरक्षा और उन्हें हर संभव मदद के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए हैं।सिरसौद इलाके में बुधवार को सड़क किनारे शौच कर रहे दो बच्चों की लाठी से पीटकर हत्या कर दी गई। मृतकों के नाम रोशनी (12) और अविनाश (10) हैं। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें से एक हाकिम यादव ने कहा कि उसे सपने में राक्षसों के संहार का आदेश मिला था।
एसपी राजेश चंदेल ने बताया कि इस मामले की अंधविश्वास और छुआछूत के एंगल को भी ध्यान में रखकर जांच की जा रही है।
आरोपियों ने बच्चों का वीडियो भी बनाया
पुलिस ने बताया कि भावखेड़ी गांव में मनोज वाल्मीकि परिवार के साथ रहता है। मनोज की 12 साल की बहन रोशनी और उसका बेटा अविनाश शौच के लिए गए थे, तभी दोनों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। घटना के बाद गांव में तनाव है। बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। दूसरे आरोपी का नाम रामेश्वर यादव है। आरोपियों ने बच्चों का वीडियो भी बनाया था।
पीड़ित परिवार ने लगाया छुआछूत का आरोप
रोशनी के भाई मनोज ने बताया कि आरोपी हाकिम उसके परिवार से रंजिश रखता था। हाकिम के घर का एक सदस्य सरपंच है और उसने मनोज के घर में शौचालय भी नहीं बनने दिया। मनोज का आरोप है कि गांव में लोग उसके परिवार को जातिसूचक शब्दों से बुलाते हैं। हैंडपंप पर भी पानी तब भरने दिया जाता है, जब ऊंची जाति के लोग पानी भर लेते हैं।
अफसरों को देखते ही गश खाकर गिरी मां, कलेक्टर ने संभाला
आज परिजनों से मिलने पहुंचीं कलेक्टर ने 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता के चेक उन्हें सौंपे।
मां के दिल का दर्द सिर्फ एक मां ही समझ सकती है। दो दलित बच्चों की हत्या के मामले में जब कलेक्टर अनुग्रह पी गुरुवार को पीड़ित मां से मिलने भावखेड़ी गांव पहुंचीं तो बच्चों की मां बेहोश होकर गिर पड़ी। जिस पर कलेक्टर ने तुरंत उसे संभाला और कैसे दी सांत्वना देखिए मर्मस्पर्शी तस्वीर।
दो दलित बच्चों की हत्या के बाद आज परिजनों से मिलने पहुंचीं कलेक्टर ने 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता के चेक परिजनों को सौंपे। बता दें कि शिवपुरी के सिरसौद थाना क्षेत्र में भावखेड़ी ग्राम में बुधवार को दो दलित बच्चों की हत्या कर दी गई थी। खुले मैं शौच करने को लेकर हुई इस हत्याकांड के बारे में जिसने भी सुना वो कांप उठा। एक मामूली सी बात पर आखिर कैसे कोई दो मासूमों की जान तक ले सकता है।
यही कारण रहा कि आज कई लोग गांव पहुंचे। जनपद अध्यक्ष पारम रावत सहित कई लोग गांव गए तो वहीं कलेक्टर अनुग्रह पी मृत बच्चों के परिजनों से मिलने पहुंची। उन्होंने परिजनों का हाल जाना और उन्हें दुख की इस घड़ी में अपने आप को संभालने को कहा। उन्होंने कहा कि प्रशासन द्वारा नियमानुसार हर सम्भव मदद की जाएगी। उन्होंने परिजनों को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता के चेक सौंपे। उनके साथ एसपी राजेश सिंह चंदेल, एसडीएम अतेंद्र सिंह गुर्जर, डिप्टी कलेक्टर एवं प्रभारी ट्राइबल विभाग पल्लवी वैद्य भी मौजूद थीं।
जिला प्रशासन और पंचायत द्वारा अंतिम संस्कार के लिए 5-5 हजार रुपए की अंत्येष्टि सहायता दी गई। कलेक्टर अनुग्रह ने रेडक्रॉस से 25- 25 हजार रुपए कुल 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता बुधवार को ही स्वीकृत कर दी थी। आदिम जाति कल्याण विभाग की ओर से भी सहायता राशि परिजनों को दी गई। इसमें 8 लाख 25 हजार की राशि प्रत्येक को दी जाना है। इसकी आधी राशि 4 लाख 12 हजार 500 रुपये के चेक मृत बच्चों के परिजनों को गुरुवार को सौंपे गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *