महाराष्ट्र में दो और मिले कोरोना पॉजिटिव, देश भर में कुल 177 संक्रमित

राजस्थान: झूंझुनू में एक ही परिवार के तीन सदस्य कोरोना पॉजिटिव, 350 डॉक्टरों की टीम भेजी गई
देशभर में कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है. संक्रमित लोगों की संख्या 177 हो गई है. इसमें तीन लोगों की मौत और 16 सही होकर घर जा चुके हैं. यानी अभी एक्टिव केस 156 हैं. कोरोना से महाराष्ट्र में पीड़ितों का आंकड़ा बढ़कर 49 हो गया है. अब तक के डाटा के मुताबिक महाराष्ट्र सर्वाधिक कोरोना वायरस पीड़ित राज्य है.इसके अलावा आंध्र प्रदेश में 2, दिल्ली में 10, हरियाणा में 17, कर्नाटक में 14 ,केरल में 27, पंजाब में 2, राजस्थान में 7, तमिलनाडु में एक, तेलंगाना में 13, जम्मू-कश्मीर में 4, लद्दाख में 8, उत्तर प्रदेश में 19, उत्तराखंड में एक, ओडिशा में एक, छत्तीसगढ़ में एक और पश्चिम बंगाल में एक केस सामने आए हैं.
कोरोना वायरस संक्रमण से अबतक देश में तीन मौत हुई हैं.
जयपुर: राजस्थान के झुंझुनू से कोरोना वायरस को लेकर बड़ी खबर आयी है. झुंझुनू में एक ही परिवार के तीन सदस्यों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने 350 डॉक्टरों की टीम को तुरंत झुंझुनू रवाना किया है. यह टीम इस इलाके के पांच किलोमीटर के दायरे में स्क्रीनिंग करेगी. इसके साथ ही झुंझुनू में फिलहाल बसों का संचालन रोका गया है. अब तक राजस्थान में कोरोना के सात मामले सामने आए हैं जिनमे से तीन नेगेटिव हो चुके हैं.
देश में कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 177 हो गई है, बुधवार को यह संख्या 151 थी. विदेशी मूल के 25 मरीज भी शामिल हैं. राज्यों के हिसाब से बात करें तो महाराष्ट्र में 49, केरल में 27, दिल्ली में 12, उत्तर प्रदेश में 17, कर्नाटक में 14, लद्दाख में 8, हरियाणा में 17, पश्चिम बंगाल में 1, पुद्दुचेरी में 1 और चंडीगढ़ में 1 पॉजिटिव केस सामने आया है. वहीं कोरोना से पीड़ित अब तक 15 लोग ठीक हो चुके हैं. देश में तीन मौत हुई हैं.
अब तक कितने लोगों की मौत हुई?
कोरोना वायरस संक्रमण से अब तक देश में तीन मौत हुई हैं. कल मुंबई में 64 साल के व्यक्ति की मौत हो गई जो दुबई से लौटा था. इससे पहले 13 मार्च को कर्नाटक के कलबुर्गी के 76 साल एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जो सऊदी अरब से लौटा था. वहीं कोरोना वायरस से संक्रमित दिल्ली की 68 साल की महिला का 17 मार्च राम मनोहर लोहिया अस्पताल में निधन हो गया था.
कोरोना के बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट आज से तीन दिनों के लिए बंद
19,20 और 21 मार्च को इलाहाबाद हाईकोर्ट और लखनऊ बेंच बंद रहेगा. इन तीन दिनों में हाईकोर्ट में मुकदमों की सुनवाई नहीं होगी. हाईकोर्ट साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन के लिए बंद किया गया है. इन तीन दिनों के बदले 1 जून, 2 जून और 4 अप्रैल को हाईकोर्ट में काम-काज होगा.
कश्मीर में पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर पाबंदी
कश्मीर में सभी तरह के पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर पाबंदी लगा दी गई है. नए आदेश के मुताबिक राज्य में सभी बस सर्विस, मैक्सी कैब सर्विस, पैसेंजर ऑटो सर्विस आदि तमाम तरह की पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर पाबंदी लगा दी गई है. यह पाबंदी अगले आदेश तक लागू रहेगी.
मुंबई में ‘डब्बा वाला’ सर्विस बंद
कोरोना वायरस को देखते हुए मुंबई में ‘डब्बा वाला’ सर्विस बंद कर दिया गया है. यानी अब मुंबई में ‘डब्बा वाला’ किसी को खाने का टिफिन नहीं भेजेगा. बता दें, डब्बा वाला ऐसे लोगों का एक समूह है जो मुंबई शहर में काम कर रहे सरकारी और गैर-सरकारी कर्मचारियों को दोपहर का खाना उनके ऑफिस तक पहुंचाता है.
लखनऊ में मिले दो अन्य कोरोना वायरस संक्रमित
लखनऊ में गुरुवार को कोरोना वायरस से संक्रमित दो और मरीजों की पुष्टि हुई है. आज सुबह इन दोनों लोगो की रिपोर्ट आई थी जिसमें दोनों पॉजिटिव पाई गए हैं. यानी उत्तर प्रदेश में कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 19 हो गई है. इनमें आगरा के 8, गाजियाबाद के 2, नोएडा के 4, लखनऊ के 5 मरीज हैं, जिनमे से एक लखीमपुर का रहनेवाला है, लेकिन उसकी पहचान लखनऊ से गए सैंपल से हुई है.
लखनऊ का रहने वाला मरीज निशातगंज का निवासी है, जबकि दूसरा मरीज लखीमपुर का रहने वाला है. दोनों मरीजों को फिलहाल केजीएमयू में भर्ती कराया गया है. लखीमपुरवाले मरीज के लिये उसके जिले के सीएमओ को सूचित किया गया है जिससे उसके सम्पर्क मे आने वाले व्यक्तियों की जांच की जा सके.
इंग्लैंड से चंडीगढ़ में लौटी युवती में coronavirus की पुष्टि, माता-पिता भी शक के दायरे में
चंडीगढ़ में भी कोरोना वायरस की मरीज की पुष्टि हुई है। हाल में ही इंग्‍लैंड से लौटी एक युवती का कोरोनो टेस्‍ट पॉजीटिव मिला है।
सिटी ब्‍यूटीफुल चंडीगढ़ पर भी कोराेना वायरस (Corona virus) की काली नजर लग गई है। यहां COVID-19 के एक मरीज की पुष्टि हुई है। इससे शहर में हउ़कंप मच गया है। हाल में ही इंग्‍लैंड से लौटी एक युवती के कोरोना से ग्रस्‍त होने की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही युवती की मां, पिता, घरेलू सहायिका और उसे अमृतसर से चंडगढ़ लाने वाला कैब ड्राइवर भी शक के दायरे में है। माता-पिता के सैंपल जांच के लिए भेज दिए गए हैं। घरेलू सहायिका और कैब ड्राइवर के सैंपल भी जांच के लिए भेजने की तैयारी है।
माता-पिता के सैंपल जांच को भेजे, घरेलू सहायिका और कैब ड्राइवर की भी होगी जांच
चंडीगढ़ स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक 23 वर्षीय युवती में वायरस की पुष्टि हुई है। वह मूल रूप से चंडीगढ़ की रहने वाली है। विभाग के मुताबिक वह पिछले हफ्ते रविवार को इंग्लैंड से लौटी थी। कोरोना के लक्षण मिलने पर युवती को सोमवार को गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल सेक्टर-32 के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया और सैंपल पीजीआइ की लैब में जांच के लिए भेजे गए थे।
जानकारी के अनुसार, बुधवार देर रात प्रारंभिक रिपोर्ट रिपोर्ट में युवती की मिली रिपोर्ट में उसके COVID-19 वायरस की पुष्टि की हुई। युवती का सैंपल जांच को आज पुणे की लैब में भेजा जाएंगा। स्वास्थ्य विभाग ने केंद्र सरकार को इस बारे में रिपोर्ट भी भेज दी है। विभाग के मुताबिक अब तक शहर में 23 संदिग्ध मरीज सामने आ चुके हैं। हालांकि, सभी की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है।
युवती चंडीगढ़ के सेक्टर 21 की रहनेवाली है। उसका इलाज सेक्‍टर 32 स्थित गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में चल रहा है। चंडीगढ़ हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक कोरोना वायरस की यह मरीज अभी युवा है ऐसे में उसके 95 प्रतिशत रिकवरी करने की उम्‍मीद है। डॉक्टरों की मानें तो अगले एक महीने के अंदर युवती कोरोना वायरस के संक्रमण से खुद को रिकवर कर लेगी।
चंडीगढ़ हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक युवती रविवार को इंग्लैंड से अमृतसर पहुंची थी। अमृतसर से वह एक कैब में चंडीगढ़ आई थी। वह अपने घर में माता-पिता और घरेलू सहायिका (नौकरानी) के संपर्क में भी एक दिन रही थी। माता-पिता के सैंपल भी लिए गए हैं और जांच को भेज दिए गए हैं। घरेलू सहायिका और कैब ड्राइवर का भी चेकअप किया जाएगा। उनकी तलाश की जा रही है।
युवती के परिजन भी आइसोलेशन वार्ड में
युवती के स्वजनों को भी बुधवार देर रात ही आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया। डॉक्टरों ने कहा कि युवती रविवार को जब घर पहुंची तो उसे तेज बुखार और जुखाम था। ऐसे में परिवार के अन्य सदस्यों में भी संक्रमण फैलने की आशंका है। सबके सैंपल जांच के लिए लैब भेजे जाएंगे।
मास्क और सैनिटाइजर की जमाखोरी रोकने को अब तक 50 रेड
डीसी मंदीप सिंह बराड़ ने बताया कि मास्क और सैनिटाइजर की जमाखोरी रोकने के लिए अब तक शहर में 50 से अधिक जगहों पर रेड की जा चुकी है। हेल्थ डिपार्टमेंट ने बताया कि हिमाचल के बद्दी स्थित 50 से अधिक कंपनियों को हाल ही में मास्क और सैनिटाइजर बनाने के लिए लाइसेंस दिया गया है। ऐसे में आने वाले दिनों में बाजार में मास्क और सैनिटाइजर की कोई कमी नहीं रहेगी।
छत्तीसगढ़ में COVID-19 का पहला पॉजिटिव केस
छत्तीसगढ़ में कोरोनावायरस का पहला पॉजिटिव केस सामने आया है. संक्रमित व्यक्ति की उम्र 24 वर्ष है जो रविवार को लंदन से रायपुर लौटा था. इस बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट कर जानकारी दी है.
कोरोना की दहशत के बीच स्वाइन फ्लू ने बढ़ाई चिंता
कोरोना की दहशत के बीच सूबे में स्वाइन फ्लू ने भी चिंता बढ़ा दी है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल देहरादून में एक महिला में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। राहत वाली बात ये है कि महिला स्वस्थ्य है।
कोरोना की दहशत के बीच सूबे में स्वाइन फ्लू ने भी चिंता बढ़ा दी है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में एक महिला में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। राहत वाली बात ये है कि महिला की हालत स्थिर है और वह स्वस्थ्य है। जनवरी प्रथम सप्ताह से लेकर अब तक स्वाइन फ्लू के नौ मामलों की पुष्टि हुई थी, जबकि फरवरी में जौलीग्रांट स्थित हिमालयन अस्पताल में उपचार के दौरान स्वाइन फ्लू से पीड़ित एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। हालांकि, इस मामले में डेथ ऑडिट नहीं हो सका था। माना गया कि उक्त व्यक्ति की मौत किसी और कारण से हुई। हालांकि वह स्वाइन फ्लू पॉजीटिव भी था।अब श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती एक महिला को स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉक्टर अमिता उप्रेती ने कहा कि उन्होंने इस बारे में श्री महंत इन्दिरेश के चिकित्साधीक्षक से बात कर महिला की स्थिति के बारे में जानकारी ली है। महिला की हालत ठीक है और वह स्वस्थ्य है। बताया कि जनवरी से अब तक कुल 101 लोगों के सैंपल जांच को भेजे गए, जिनमें नौ मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है।
अफवाह न फैलाएं
स्वास्थ्य महानिदेशक ने कहा कि बुधवार को एक निजी चैनल पर राजधानी में एक और कोरोना पॉजीटिव की खबर चलाई गई, जो पूरी तरह बेबुनियाद है। उन्होंने अपील की है कि बगैर पुष्टि के इस तरह की खबरों का प्रचार न किया जाए।
हमें तो अपनी जिम्मेदारी निभानी है…
कोरोना वायरस का डर तो है साहब लेकिन हमें तो अपनी जिम्मेदारी निभानी है। यह कहना है दून रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को सेनिटाइज कर रहे सफाई कर्मी सुमित का। सुमित इन दिनों कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने को ट्रेनों को सेनिटाइज करने का काम कर रहे हैं।
प्रतिदिन हजारों यात्री रेल से सफर करते हैं इसलिए ट्रेनों को भी सेनिटाइज किया जा रहा है। देहरादून रेलवे स्टेशन में यह जिम्मेदारी सुमित निभा रहे हैं। सुमित का कहना है कि प्रतिदिन हजारों यात्री ट्रेन से सफर करते हैं, ऐसे में ट्रेनों को सेनिटाइज करना जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *