क्वारंटाइन सैंटर में फांसी, छुपाए जा रहे तथ्य, करनी होगी जांच की प्रतीक्षा

प्रतीकात्मक फोटो।
पुलिस सूत्रों से पहली सूचनाएं भ्रम फैलाने वाली साबित हुई हैं
देहरादून: क्वारंटाइन सेंटर में युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सच जानकर आप रह जाएंगे हैरान
उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां क्वारंटाइन सेंटर में एक युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. शव पुराना बताया जा रहा है. जब क्वारंटाइन सेंटर से बदबू आई तो उसके बाद ही युवक की मौत के बारे में जानकारी हुई.
देहरादूनः देहरादून के एक क्वारंटाइन सेंटर में युवक द्धारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. राज्य में क्वारंटाइन सेंटर में आत्महत्या का यह दूसरा मामला है. इससे पहले भी रुद्रपुर में एक व्यक्ति ने क्वारंटाइन सेंटर में पंखे से लटककर अपनी जान दे दी थी. देहरादून का मामला इसलिए ज्यादा चिंताजनक है क्योंकि प्रथम दृष्टया युवक का शव लगभग 2 दिन पुराना माना जा रहा है, ऐसे में हर वक्त क्वारंटाइन सेंटर में लोगों की देखभाल करने के प्रशासन के दावों पर बड़ा सवाल खड़ा हो जाता है.
रायपुर थाना क्षेत्र के बाला वाला में सरदार भगवान सिंह विश्वविद्यालय के ब्वायज होस्टल के क्वारंटाइन सेंटर में मध्यप्रदेश के जबलपुर से आए 19 वर्षीय युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों ने पुलिस को सूचना दी. घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने मृतक की पहचान निवासी हरिद्वार के रूप में की है. युवक 5 जून को मध्यप्रदेश से आया था, जिसके बाद उसे क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था.रायपुर पुलिस थाने के एसएचओ अमरजीत सिंह रावत के अनुसार युवक रात ही जबलपुर से लौटा था।
मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. वह हरिद्वार के ज्वालापुर का था। शव दो दिन पुराना बताया जा रहा है क्योंकि जानकारी के मुताबिक जब क्वारंटाइन सेंटर से बदबू आई तो उसके बाद ही युवक की मौत के बारे में जानकारी हुई. हौरानी की बात है की जहां एक ओर प्रशासन क्वारंटाइन सेंटर में हर वक्त लोगों का ख्याल रखने का दावा कर रहा है, ऐसे में आत्महत्या की जानकारी किसी को क्यों नहीं हुई.
पूरे मामले पर पुलिस का कहना है की शव का पंचायतनामा भर दिया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कई चीजें क्लियर हो पाएंगी. डीआईजी ने शव के पुराने होने को लेकर कहा है की साक्ष्यों के आधार पर पूरी जांच की जा रही है, किसी भी बात को नजरंदाज नहीं किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *