12 बजे तक दून में दो और,प्रदेश में कोरोना संक्रमित हुए 359

मंगलवार को राजधानी देहरादून में कोरोना संक्रमण के दो नए मामले सामने आए हैं। जिसमें बाद अब राज्य में संक्रमितों की संख्या 359 पहुंच गई है।
आज मिले दो पॉजिटिव में से पहला मरीज मंडी में संक्रमित के संपर्क में आने के बाद कोरोना की चपेट में आया है। वहीं दूसरा मरीज मैक्स हॉस्पिटल में मिला है। जिसे दून अस्पताल लाया जा रहा है। स्टेट कोऑर्डिनेटर डॉक्टर एनएस खत्री ने दोनों मामलों की पुष्टि की है।
उत्तराखंड में सोमवार को 40 नए कोरोना संक्रमित मामले मिले। इनमें एक पौड़ी जिले के पाबौ में एक मृतक की सैंपल रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। जबकि नैनीताल और हरिद्वार जिले में नौ-नौ नए कोरोना पॉजिटिव मिले।
पौड़ी में विकासखंड पाबौ के पिपली गांव में होम क्वारंटीन के दौरात मृत व्यक्ति का कोराना सैंपल पॉजिटिव आया। सोमवार को प्रशासन ने पूरे गांव को होम क्वारंटीन कर सीज कर दिया। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने परिजन, पीएम करने वाली स्वास्थ्य टीम, पंचनामा भरने वाली पुलिस टीम व पंचों का सैंपल जांच के लिए ले लिया है। वहीं स्वास्थ्य विभाग मृतक व्यक्ति की मौत का कारण टीबी बता रहा है।
प्रदेश में 17 हुई कंटेनमेंट जोन की संख्या
उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए हरिद्वार जिले में चार नए क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। अब प्रदेश में कंटेनमेंट जोन की संख्या 17 हो गई है।
वहीं,देहरादून के चमन विहार कॉलोनी को कंटेनमेंट जोन से बाहर किया गया है। हरिद्वार जनपद में लक्सर क्षेत्र के मुंडाखेड़ा कला,दुर्गापुर और ग्राम दबकी और रुड़की की आदर्श कॉलोनी को कंटेनमेंट जोन घोषित किया है।
इन्हें मिलाकर देहरादून,ऊधमसिंह नगर और हरिद्वार जिले में कंटेनमेंट जोन की संख्या 17 हो गई है। अपर सचिव युगल किशोर पंत ने बताया कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने से नए कंटेनमेंट जोन चिह्नित किए जा रहे हैं।
प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग अब संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की पहचान करने में जुट गया है। संदिग्धों की पहचान कर उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।
जांच केंद्र बढ़ेंगें
प्रवासियों के लगातार बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद अब सरकार राज्य में सैम्पलिंग की रफ्तार बढ़ाने जा रही है। इसके लिए हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट, अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज और आईआईपी देहरादून में जांच शुरू करने का निर्णय लिया गया है।
प्रवासियों की वापसी के बाद से सरकार जांच में तेजी लाई है। जांच की रफ्तार बढ़ाते हुए सरकार प्रतिदिन सौ से बढ़ाकर एक हजार से ऊपर ले आई है। लेकिन पड़ोसी राज्यों की तुलना और बड़ी संख्या में लौट रहे प्रवासियों की तुलना में यह काफी कम हैं।
चिंताजनक:पहाड़ के जिलों में कोरोना संक्रमण की दर मैदान से कहीं ज्यादा,जिलेवार संक्रमण की दर
उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में कोरोना संक्रमण की दर मैदानी जिलों से कहीं अधिक है। पर्वतीय जनपदों में से चमोली में संक्रमण दर सर्वाधिक 9.02 प्रतिशत है जबकि मैदानी जिलों में हरिद्वार में महज 0.65 प्रतिशत है।
बीते दस दिन में कोरोना मरीजों के बढ़ने की रफ्तार से राज्य के कोरोना संबंधी आंकड़े खतरनाक हो गए हैं। उत्तराखंड में कोरोना के मरीजों के दोगुना होने की दर जहां चार दिन से भी कम हो गई है, वहीं संक्रमण की दर लगातार बढ़ रही है।
सोमवार को राज्य में कोरोना संक्रमण दर 1.88 प्रतिशत पर पहुंच गई है। लेकिन यदि संक्रमण की दर जिलावार देखी जाए तो पहाड़ के जिलों की स्थिति मैदानी जिलों की तुलना में ज्यादा खराब दिख रही है।
कोरोना के आंकड़ों का लगातार विश्लेषण कर रहे स्वास्थ्य विशेषज्ञ अनूप नौटियाल ने बताया कि पहाड़ के जिलों में मैदान की तुलना में संक्रमण दर काफी अधिक है। इसकी वजह सैंपलिंग कम होना और मरीजों की संख्या का अचानक बढ़ना है।
किस जिले में कितना संक्रमण
चमोली 9.02
बागेश्वर 6.78
टिहरी 6.54
नैनीताल 4.89
चम्पावत 4.32
अल्मोड़ा 4.08
पौड़ी 3.02
उत्तरकाशी 2.48
रुद्रप्रयाग 1.84
यूएसनगर 1.54
पिथौरागढ़ 1.35
देहरादून 1.21
हरिद्वार 0.65
देहरादून में 29 से शुरू होगी लैब

कोरोना संक्रमण के बचाव और राहत कार्यों की समीक्षा के लिए सोमवार को हल्द्वानी पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि संक्रमितों के ग्राफ में इजाफा हुआ है। जांच का दायरा बढ़ाने की कवायद की जा रही है। देहरादून में एक लैब बनकर तैयार है। यह लैब 29 मई को शुरू की जाएगी। अल्मोड़ा में लैब बनाने के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *