चीन छुपा रहा कोरोना वायरस से साढ़े 24 हजार मृतक संख्या

 गलती से लीक हुऐ आंकड़े। (बांये से दांये) संक्रमित, पॉजिटिव, ठीक हुए और मृतक।
यूं चीन छुपा रहा है दुनिया से CORONA VIRUS का सच, ‘गलती’ से लीक हुए आंकड़े
क्या चीन छिपा रहा है दुनिया से Corona Virus का सच, 'गलती' से लीक हुए आंकड़े
फाइल फोटो

पूरे चीन में महामारी की वजह से लाखों लोग प्रभावित हो चुके हैं.

नई दिल्ली: लगता है वही हुआ जिसका डर था. चीनी सरकार कोरोना वायरस (Corona Virus) से हो रहे मौत के सही आंकड़े दुनिया से छिपा रही है. हाल ही में ‘गलती’ से लीक हुए कोरोना वायरस के आंकड़े ऐसे हैं जिनको देखकर लग रहा है पूरे चीन में कोरोना वायरस मौत का तांड़व मचा चुका है. लेकिन चीन इस प्रलय को दुनिया से साझा करने से बच रहा है. इस नए लीक रिपोर्ट के आधार पर कहा जा सकता है कि पूरे चीन में महामारी की वजह से लाखों लोग प्रभावित हो चुके हैं.

चीन में वायरस से 24,589 लोगों की हो चुकी है मौत
ताइवान की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चीनी सरकार ने लगती से कोरोना वायरस का सही आंकड़ा जारी कर दिया. इन आंकड़ो में बताया गया है कि कोरोना वायरस की वजह से अब तक चीन में 1.54 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं. इसके अलावा इस घातक वायरस की वजह से सिर्फ चीन में अब तक 24,589 लोगों की मौत हो चुकी है. रिपोर्ट के अनुसार चीन की सोशल साइट टेनसेंट और नेटईस में कोरोना वायरस के डेली बुलेटिन के आंकड़े जारी किए गए. ताइवान मीडिया का दावा है कि लीक हुआ बुलेटिन ही असल में चीन का असली आंकड़ा है. लीक रिपोर्ट पर हांगकांग और ताइवान की सोशल मीडिया में हलचल मचते ही इस रिपोर्ट को सोशल साइटों से हटा लिया गया. हालांकि चीनी सरकार ने इस लीक रिपोर्ट पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है.

उधर चीन से जारी हुए बयान के मुताबिक शुक्रवार सुबह तक इस वायरस की वजह से 636 लोग दम तोड़ चुके हैं. चीन समेत पूरी दुनिया में इस जानलेवा संक्रमण की चपेट में 31,000 से ज्यादा लोग आ चुके हैं.

आंकड़े छिपाने में माहिर है चीनी सरकार
संक्रमण मामले से जुड़े एक विशेषज्ञ का कहना है कि चीन में जन्में कोरोना वायरस से चिंतित होना लाजमी है. चीन ने सार्स वायरस के बारे में भी पूरी दुनिया को सही जानकारी नहीं दी थी. सार्स पूरे चीन में तेजी से फैल रहा था और नागरिक संक्रमित होकर मर रहे थे. इसके बावजूद चीनी अधिकारियों ने अंतरराष्ट्रीय संगठनों से सटीक जानकारी छुपा कर इसके बेहद कम मामले बताए थे. इस गलती की वजह से खतरे का सही अनुमान नहीं लग पाया और 25 देशों में हजारों लोग सार्स वायरस से संक्रमित हुए. जानकारी छिपाने की वजह से सही समय पर सार्स से लड़ने के टीके भी नहीं बन पाये थे ।

CORONA VIRUS का पता लगाने वाले डॉक्टर पर गिरी गाज, चीनी सरकार ने किया ‘गायब’

Corona Virus का पता लगाने वाले डॉक्टर पर गिरी गाज, चीनी सरकार ने किया ये घिनौना काम
डॉ. ली वेनलियांग की आखिरी तस्वीर

चीनी सरकार अपने खिलाफ किसी भी खबर को देश के बाहर नहीं जाने देती. चाहे उसकी वजह से दूसरे देशों में कोई भी आपदा आ जाए. चीनी सरकार अपनी साख बचाने के लिए कोई भी कदम उठाने से नहीं हिचकती. मौजूदा कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण मामले में भी चीनी सरकार ने ऐसा ही एक घिनौना काम किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जिस चीनी डॉक्टर ने सबसे पहले कोरोना वायरस की खोज की और लोगों को इसकी जानकारी दी, चीनी सरकार ने उसे ही ‘गायब’ कर दिया है. 

विभिन्न रिपोर्ट्स के मुताबिक 30 दिसंबर को पहली बार वुहान शहर के डॉक्टर ली वेनलियांग ने पहली बार सोशल ऐप WeChat में के जरिए लोगों से कोरोना वायरस के बारे में जानकारी साझा की थी. अपने पोस्ट में डॉ. ली ने लिखा था कि शहर के नजदीकी मछली बाजार में एक सार्स जैसा वायरस पाया गया है. इसके संक्रमण की वजह से लगभग सात लोगों को अस्पताल के अलग वार्ड में दाखिल किया गया है. पहली बार डॉ. ली ने ही कोरोना वायरस को खोजा था.

अब ‘गायब’ हो गए हैं डॉक्टर 
अंतरराष्ट्रीय साइटों के मुताबिक डॉ. ली द्वारा इस खबर को सोशस साइट में साझा किए जाने के तुरंत बाद ही स्थानीय वुहान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था. इसके कुछ दिनों बाद डॉ. ली वेनलियांग ‘गायब’ हो चुके हैं. आखिरी पोस्ट में उन्होने लिखा था कि वे कोरोना वायरस से ग्रसित हो चुके हैं. लेकिन कई अंतरराष्ट्रीय मीडिया के हवाले से खबर है कि चीन अपने देश के किसी भी नेगेटिव खबर के खिलाफ काफी सख्ती से पेश आता है. ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि डॉक्टर ली को मौत की सजा दे दी गई हो.

अस्पताल में डॉ. ली वेनलियांग

सोशल मीडिया पर हो रही सख्ती
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन संक्रमण रोकने के लिए डाक्टरों और अस्पतालों की सेवाओं को मुस्तैद करने के बजाए सोशल मीडिया पर निंयत्रण पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. चीनी सरकार ने देश की खबर दुनिया से छिपाने के लिए सभी सोशल मीडिया साइटों और ऐप्स पर नकेल कसना शुरू कर दिया है. चीनी सरकार ने सभी नागरिकों को संक्रमण नियंत्रण तक किसी भी माइक्रो साइट या ऐप पर कोरोना वायरस के बारे में जानकारी देने से मना किया है.

  

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *