मंगल 1391 नये कोरोना केसों में 421दून से,प्रदेश 34 हजार पार

Corona In Uttarakhand: 1391 नए संक्रमित मिले, मरीजों की संख्या 34 हजार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का कहर जारी है। मंगलवार को प्रदेश में 1391 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, अब संक्रमित मरीजों की संख्या 34 हजार पार पहुंच गई है। प्रदेश में अभी भी 10739 एक्टिव मरीज हैं और 23085 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं।

स्पे में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। मंगलवार को राज्‍य में 1391 नए मामले आए। इनमें से 1391 ठीक भी हुए जबकि नौ मरीजों की मौत हुई। सबसे ज्‍यादा 421 देहरादून, 318 ऊधम सिंह नगर, 226 नैनीताल, 219 हरिद्वार, 51 उत्‍तरकाशी, 38 पौड़ी, 31 टिहरी, 30 पिथौरागढ़, 27 रुद्रप्रयाग, 23 चंपावत जबकि चमोली से सात मामले आए। वहीं अब तक राज्‍य में कुल पॉजिटिव का आंकड़ा 34407 पहुंच चुका है। 23085 स्‍वस्‍थ हो चुके हैं, जबकि विभि‍न्‍न अस्‍पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमित 438 मरीजों की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सरकारी व निजी लैब से कुल 9617 सैंपल की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इनमें 8574 सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। जनपद देहरादून में 385 में कोरोना की पुष्टि हुई है। हरिद्वार में 224 व ऊधमङ्क्षसह नगर में 214 नए मामले आए हैं। वहीं नैनीताल में 46, उत्तरकाशी में 37, चमोली में 36, टिहरी गढ़वाल में 24, पौड़ी गढ़वाल में 23 व पिथौरागढ़ में भी 19 लोग संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा अल्मोड़ा में सात, रुद्रप्रयाग में पांच और बागेश्वर में तीन में संक्रमण की पुष्टि हुई है।

उत्तरकाशी के बगासू गांव को 28 दिन के लिए कंटेनमेंट जोन घोषित कर किया सील

उत्तरकाशी के नौगांव विकास खंड के बगासू गांव में 20 लोगों की कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने पर पुरे गांव को 28 दिन के लिए कंटेनमेंट जोन घोषित कर सील कर दिया है। यहां पर किसी व्यक्ति को प्रवेश और बाहर जाने की अनुमति नहीं है। उपजिलाधिकारी बड़कोट चतर सिंह चौहान ने कोरोना संक्रमित क्षेत्र बगासू गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित कर पूरी तरह से सील कर दिया है। जिसके लिए उन्होने आवश्यक वस्तुएं सब्जी, दूध, फल आदि को डोर टू डोर पहुंचाने के लिए ग्राम विकास अधिकारी क्षेत्रीय राजस्व उपनिरीक्षक आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ती को विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं। आपात सेवाओं से जुडे व्यक्तियों को जांच होने के बाद ही जाने की अनुमति दी जाएगी। सुरक्षा व उल्लघंन करने वालों के खिलाफ महामारी अधिनियम की कार्रवाई की जाएगी।

कोरोना संक्रमित झबरेड़ा विधायक देशराज के स्वजन ओर स्टाफ की रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव

रुड़की में कोरोना संक्रमित झबरेड़ा विधायक देशराज के स्वजन ओर स्टाफ की रिपोर्ट फिर से पॉजिटिव आई है उनके साले व उसकी पत्नी, बेटी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव है विधायक की पत्नी पहले ही रुड़की के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती है जबकि विधायक देहरादून के विधायक निवास में आइसोलेट हैं।

1037 मरीज डिस्चार्ज

प्रदेश में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच स्वस्थ होने वाले मरीजों का आंकड़ा भी कुछ हद तक सुकून दे रहा है। सोमवार को 1037 मरीज विभिन्न अस्पतालों व कोविड-केयर सेंटर से डिस्चार्ज हुए हैं। इनमें 271 देहरादून, 197 हरिद्वार, 154 अल्मोड़ा, 124 नैनीताल, 53 उत्तरकाशी, 29 चमोली, 23 पौड़ी, 11 चंपावत, तीन रुद्रप्रयाग व एक मरीज टिहरी से है.

14 मरीजों की मौत

मरीजों की दिन-ब-दिन बढ़ती संख्या के साथ ही कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा भी लगातार बढ़ रहा है। सोमवार को भी प्रदेश में 14 मरीजों की मौत हुई है। इनमें अजबपुर कलां निवासी 61 वर्षीय व्यक्ति और मोहित नगर निवासी 65 वर्षीय जन की दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मौत हुई है। इसके अलावा एम्स ऋषिकेश में भी नौ मरीजों की मौत हुई। इसके अलावा कोटद्वार व श्रीनगर बेस अस्पताल में भी दो महिलाओं की मौत हुई है। जबकि हल्द्वानी के डॉक्टर सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय में अल्मोड़ा निवासी व्यक्ति की मौत हुई है।

बता दें कि प्रदेश में अनलॉक-4 से कोविड सैंपलों की जांच बढ़ गई है। बीते 13 दिन में 1.30 लाख से ज्यादा लोगों की जांच की गई। जिसमें 12090 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। एक से 13 सितंबर तक किए गए सैंपल टेस्ट के आधार पर संक्रमण की दर 9.28 प्रतिशत रही है। जो अब तक की सर्वाधिक दर है।

प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमण रोकने के लिए सैंपलिंग बढ़ा कर प्रतिदिन 10 हजार करने लक्ष्य रखा था। एक सितंबर से अनलॉक-4 शुरू हो गया है। पिछले 13 दिनों में 1.30 लाख से अधिक सैंपलों की जांच की गई। जांच के साथ संक्रमण दर भी तेजी से बढ़ी है। वहीं, 1.18 लाख से अधिक लोगों के सैंपल नेगेटिव मिले हैं। हालांकि प्रदेश में 22 हजार से अधिक मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।

शहर चुनें
शहर और राज्य

कोरोना वायरस
LIVE
देश

आईपीएल 2020

मनोरंजन

टेक्नॉलॉजी

ऑटोमोबाइल

ज्योतिष

वीडियो

न्यूज ब्रीफ

आवाज
NEW
प्रवासी

विशेष

शक्ति

क्रिकेट

फोटो

नौकरी

शिक्षा

उड़ान

खेल

दुनिया

लाइफ़स्टाइल

कारोबार

आस्था

क्राइम

काव्य

विचार

नजरिया

हटके ख़बर

हंसी-ठट्ठा

कृषि

खुशखबर

राजपथ

शुभकामना संदेश

शिखर का सफर

हिन्दी दिवस

मौसम
Home › Uttarakhand › Dehradun › Coronavirus In Uttarakhand Latest News: Five Challenges For Government To Stop Corona
Corona In Uttarakhand: तेजी से बढ़ रहे संक्रमण ने बढ़ाई सरकार की चिंता, सामने हैं ये पांच चुनौतियां
राकेश खंडूड़ी, अमर उजाला, देहरादून Updated Tue, 15 Sep 2020 03:00 AM IST

विज्ञापन
corona
corona – फोटो : पीटीआई
AU Plus
विज्ञापन मुक्त विशिष्ट अनुभव के लिए अमर उजाला प्लस के सदस्य बनें
Subscribe Now
उत्तराखंड में पिछले 13 दिनों के भीतर कोरोना के मामलों में हुई बढ़ोतरी से सरकार, सिस्टम और जनमानस की पेशानी पर बल हैं। संक्रमितों की संख्या में अचानक आए उछाल के बावजूद सरकार सामुदायिक संक्रमण से साफ इनकार कर रही है।

अलबत्ता सरकार के स्तर पर उन कारणों की तलाश हो रही है, जो कोरोना संक्रमितों की संख्या में अनायास वृद्धि की वजह हैं। बहरहाल, जो कारण सरकार को पता लगे हैं, उनमें एक कोविड टेस्ट का बढ़ा दायरा भी माना जा रहा है।
सामुदायिक संक्रमण नहीं तो वजह क्या?
यह प्रश्न परेशान कर रहा है कि सामुदायिक संक्रमण के हालात नहीं हैं तो कोरोना के मामलों में अचानक बढ़ोतरी क्यों हो रही है। इसकी एक प्रमुख वजह टेस्टिंग बढ़ना भी बताई जा रही है। 13 जून से 21 जुलाई के बीच 1500 से तीन हजार टेस्ट प्रतिदिन हो रहे थे, 29 अगस्त से 15 दिनों के बीच 10 हजार के पार हो गए हैं। दूसरी वजह अनलॉक-4 भी मानी जा रही है। तीसरी वजह लोगों की लापरवाही है। मौसम में आ रहा बदलाव भी एक प्रमुख वजह है।

पांच चुनौतियां, पांच चिंताएं
राज्य के सामने आज पांच बड़ी चुनौतियां हैं, जो उसकी चिंता का प्रमुख कारण बनीं हैं।

1. तेजी से बढ़ रहे एक्टिव केस
प्रदेश में कोरोना के एक्टिव केस तेजी से बढ़ रहे हैं। 27 अगस्त को प्रदेश में 5215 एक्टिव केस थे। 13 सितंबर को एक्टिव केस की संख्या 10397 पहुंच गई। अगर ऐसे ही केस बढ़ेंगे तो सरकारी व गैरसरकारी अस्पतालों पर दबाव भी बढ़ेगा।

2. कम नहीं हो रही संक्रमण दर
पिछले 13 दिनों में राज्य में कोरोना की संक्रमण दर 9.28 प्रतिशत है। 13 सितंबर को एक ही दिन में चार मैदानी जिलों देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर में संक्रमण की दर रिकॉर्ड ऊंचाई पर जा पहुंची। देहरादून में एक ही दिन में 623 पॉजिटिवि केस के साथ ये 32 प्रतिशत पर रही, जबकि नैनीताल में 211 केस पर 25 प्रतिशत, हरिद्वार में 318 केस पर 21 प्रतिशत और ऊधमसिंहनगर में 240 केस पर 19 प्रतिशत तक पहुंच गई।

3. मृत्यु दर भी एक फीसदी से नीचे नहीं
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से कोरोना से मौत की दर को एक फीसदी से कम करने को कहा है। लेकिन राज्य में यह दर 1.29 प्रतिशत के आसपास बनी हुई है। 13 सितंबर तक प्रदेश में 402 लोगों की मौत हो चुकी थी।

4. रिकवरी रेट में सुधार का इंतजार
रिकवरी रेट में सुधार लाना भी सरकार के एक बड़ी चुनौती बना है। चार जुलाई को राज्य में रिकवरी रेट 80 प्रतिशत से अधिक था। आज यह घटकर 66 से 68 प्रतिशत के बीच स्थिर है। 13 सितंबर तक प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 30336 पहुंच चुकी थी, जिसमें से 20031 संक्रमित ही ठीक हो पाए।

5. लोगों में उदासीनता
सरकार की सबसे बड़ी चिंता का कारण कोरोना के बढ़ते मामलों के बावजूद लोगों में बढ़ती उदासीनता है। केंद्र व राज्य सरकार के बार-बार दिशा-निर्देशों और अपीलों के बावजूद बहुत बड़ा तबका जाने अंजाने में कोरोना संक्रमण का वाहक बन जा रहा है। नियमों की अनदेखी लगातार घातक रूप ले रही है।

सामुदायिक संक्रमण जैसी स्थिति नहीं है। सरकार ने जांच का दायरा बढ़ाया है। कई निजी प्रयोगशालाओं को टेस्ट करने की अनुमति दी है। इससे लोगों ने बड़ी संख्या टेस्ट कराए हैं। सरकार के स्तर पर पूरे इंतजाम हैं। इलाज में कोई कमी नहीं छोड़ी जा रही है। कोरोना की एक मात्र दवा है कि खुद को संक्रमण से बचाएं और सतर्क रहें और सावधानी बरतें।
– त्रिवेंद्र सिंह रावत, मुख्यमंत्री

आंकड़ों के विश्लेषण से कई ऐसे तथ्य सामने आए हैं जो चिंता में डालते हैं। ये बात सही है कि पिछले एक दो महीनों में कोरोना टेस्टिंग की दर में काफी बढ़ोतरी हुई है। जून में प्रतिदिन तीन हजार टेस्ट हो रहे थे, जो बढ़कर आज 10 हजार हो गए हैं। लेकिन हमें अन्य कारणों को भी तलाशना है, जो संक्रमण बढ़ाने की वजह हो सकते हैं।
– अनूप नौटियाल, संस्थापक, सोशल डेवलमेंट फॉर कम्युनिटीज फाउन्डेशन

विधायक कर्णवाल से जुड़े छह और लोग संक्रमित
रुड़की में झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल के तीन रिश्तेदारों समेत उनसे जुडे़ छह और लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इससे पहले विधायक समेत पांच लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।

पिछले दिनों झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल, उनकी पत्नी वैजयंती माला, सहायक, शुभम, भतीजी और ड्राइवर समेत पांच लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल देहरादून शिफ्ट हो गए थे जबकि बाकी लोग यहीं इलाज कर रहे हैं।

वहीं, सोमवार को विधायक के साले, उनकी पत्नी, गनर, रसोइया और भतीजी समेत छह और लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। रिपोर्ट आने के बाद सभी ने खुद आइसोलेट कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *