दो वर्ल्ड कप,एक चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाले धोनी का इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास

धोनी का इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट:39 साल के धोनी ने कहा- इतने प्यार और सपोर्ट के लिए शुक्रिया, अब मुझे रिटायर समझें; कोहली बोले- हर चीज के लिए शुक्रिया कप्तान!
धोनी ने आखिरी इंटरनेशनल मैच पिछले साल वनडे वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था
समय बताकर रिटायरमेंट का ऐलान किया, कहा- आज शाम 7 बजकर 29 मिनट के बाद से मुझे रिटायर समझें
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है। 39 साल के धोनी ने शनिवार शाम इंस्टाग्राम पर ‘मैं पल दो पल का शायर हूं’ गाने के साथ एक वीडियो पोस्ट किया। इसके साथ उन्होंने लिखा- आप लोगों की तरफ से हमेशा मिले प्यार और सपोर्ट के लिए शुक्रिया। आज शाम 7 बजकर 29 मिनट के बाद से मुझे रिटायर ही समझें।

कोहली बोले- दुनिया ने आपके अचीवमेंट देखे, मैंने आपका व्यक्तित्व देखा
कप्तान विराट कोहली ने भी दो ट्वीट कर धोनी के प्रति सम्मान जाहिर किया। उन्होंने लिखा कि हर क्रिकेटर का सफर किसी दिन खत्म होता है, लेकिन जिसे आप इतने करीब से जानते हों, जब वो ऐसी घोषणा करता है तो ज्यादा इमोशनल महसूस होता है। दुनिया ने आपके अचीवमेंट देखे। मैंने आपका व्यक्तित्व देखा। हर चीज के लिए शुक्रिया कप्तान।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेेन कहा- बीसीसीआई माही का एक फेयरवेल मैच रांची में कराए

धोनी का आखिरी वनडे यादगार रहा, फैन्स उसे भुला नहीं सकेंगे
धोनी आखिरी बार पिछले साल वर्ल्ड कप सेमीफाइनल के दौरान मैदान पर नजर आए थे। मैनचेस्टर में 9 जुलाई 2019 को न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए इस सेमीफाइनल में धोनी ने 72 गेंदों पर 50 रन बनाए थे। वे लोअर बैटिंग ऑर्डर के बल्लेबाजों के साथ 240 रन के टारगेट का पीछा कर रहे थे। गुप्टिल के थ्रो पर वे 2 इंच से क्रीज चूक गए थे। माना गया कि इसी 2 इंच से भारत भी वर्ल्ड कप चूक गया। फैन्य मायूस थे और धोनी भी आंखों में आंसू लिए पैवेलियन लौट रहे थे।

फोटाे 9 जुलाई 2019 की है। यही वो मोमेंट था, जब धोनी वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में गुप्टिल के थ्रो पर रनआउट हो गए थे।
गांगुली की कप्तानी में धोनी ने डेब्यू किया था, पहले मैच भी रनआउट हुए थे
धोनी ने पहला मैच 23 दिसंबर 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ चटगांव में खेला था। तब गांगुली कप्तान थे। गांगुली ने अपनी जगह धोनी को नंबर-3 पर बैटिंग के लिए भेजा था। डेब्यू मैच में भी धोनी रनआउट हुए थे। हालांकि, धोनी इस सीरीज में फ्लॉप रहे थे। उन्होंने तीन वनडे में सिर्फ 19 रन बनाए थे, लेकिन अगली सीरीज में पाकिस्तान के खिलाफ 123 बॉल पर 148 रन की यादगार पारी खेलकर वे टीम के सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी बन चुके थे।
धोनी रनआउट हुए और वर्ल्ड कप चूका भारत:अपने आखिरी मैच में 2 इंच से क्रीज पर पहुंचने से चूके थे धोनी; तब स्टंप्स ही नहीं दिल भी टूट गए थे, पहली बार मैदान पर उन्हें इतना दुखी देखा गया था। 2019 के वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी न्यूजीलैंड के खिलाफ 50 रन पर रन आउट हो गए थे।
महेंद्र सिंह धोनी ने 2019 में अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला था, तब वे न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में उतरे थे
धोनी उस मैच में 50 रन बनाकर रन आउट हुए थे, उनके आउट होने पर भी विवाद हुआ था
आखिरकार महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया। हमेशा की तरह इस बार भी कैप्टन कूल ने अचानक फैसला कर दुनिया को चौंका दिया। उनके संन्यास की अटकलें लंबे वक्त से लग रही थी। लेकिन, कई दिग्गज अभी भी यह मान रहे थे कि उनमें काफी क्रिकेट बचा है।
धोनी आखिरी बार टीम इंडिया की जर्सी में पिछले साल 10 जुलाई को नजर आए थे। तब वे न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में उतरे थे।

न्यूजीलैंड ने भारत को 240 रन का टारगेट दिया था

न्यूजीलैंड ने उस मैच में टॉस जीतकर पहली बल्लेबाजी का फैसला किया था। उसने 46.1 ओवर में 5 विकेट के नुकसान पर 211 रन बना लिए थे। तभी बारिश होने लगी और मैच को वहीं रोकना पड़ा। सेमीफाइनल के कारण रिजर्व डे रखा गया था। इसलिए अगले दिन न्यूजीलैंड ने उसी स्कोर से आगे खेलते हुए 50 ओवर में 239 रन बनाए। टीम इंडिया को 240 रन का टारगेट मिला।

सौ रन के भीतर ही भारत के 7 विकेट गिर गए थे

टारगेट का पीछा करते टीम इंडिया के सात विकेट 100 रन के भीतर ही गिर गए। न विराट, न रोहित, न केएल राहुल किसी का बल्ला नहीं चला। करोड़ों उम्मीदें एक बार फिर महेंद्र सिंह धोनी से जुड़ गईं। उन्होंने रविंद्र जडेजा के साथ 116 रन की साझेदारी करते हुए टीम का स्कोर 208 तक पहुंचा दिया।
इसी स्कोर पर जडेजा 77 रन बनाकर आउट हो गए। फिर भी धोनी की मौजूदगी से उम्मीदें बंधी हुईं थीं। जीत के लिए 32 रन और बनाने थे और तीन विकेट बाकी थे। भारतीय फैंस को यही लग रहा था कि माही है न।

मार्टिन गुप्टिल ने धोनी को रन आउट किया

टीम इंडिया की जीत की तरफ पहुंच रही थी। लेकिन, तभी धोनी के कदम लडख़ड़ा गए। वैसे वे जब दौड़ते हैं, तो विकेटकीपर के दस्ताने में गेंद पहुंचने से पहले ही पहुंच जाते हैं। लेकिन, उस दिन चूक गए। मार्टिन गुप्टिल का सीधा थ्रो विकेट पर लगा और बेल्स के साथ ही करोड़ों उम्मीदें भी टूट गईं। जीत के करीब पहुंचकर आउट होने से धोनी भी मायूस थे। वे भारी मन से मैदान से लौटे।

धोनी के रन आउट पर विवाद हुआ था

धोनी के रन आउट को लेकर तब विवाद भी हुआ था। सोशल मीडिया यूजर्स ने कुछ स्क्रीन शॉट शेयर किए थे, जिनके मुताबिक धोनी जिस बॉल पर आउट हुए वह नो-बॉल थी, लेकिन अंपायर ने ध्यान नहीं दिया। फैन्स ने धोनी के आउट होने से ठीक पहले का स्क्रीनशॉट भी सोशल मीडिया पर शेयर किया था।

यह फोटो 2019 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल की है। इसमें तीसरे पावरप्ले के दौरान 6 फील्डर 30 यार्ड के सर्कल के बाहर दिख रहे हैं, जबकि 5 फील्डर ही बाहर रह सकते हैं।
अंपायर की गलती से धोनी रन आउट हुए
इसमें तीसरे पावरप्ले के दौरान 6 फील्डर 30 यार्ड सर्कल के बाहर खड़े दिखाई दिए थे। जबकि नियमों के मुताबिक, आखिरी 10 ओवरों के तीसरे पावरप्ले में केवल 5 फील्डर ही सर्कल के बाहर खड़े रह सकते हैं। ऐसे में धोनी जिस गेंद पर आउट हुए वह नो-बॉल या फ्री हिट होनी थी। इस पर अंपायर्स और रैफरी दोनों का ध्यान नहीं गया और अंपायर की इस गड़बड़ी ने टीम इंडिया की सारी उम्मीदें पानी हो गईं।
खैर धोनी आउट कर मैदान से गए। यूं तो इस खिलाड़ी ने 350 से ज्यादा वनडे खेले हैं। लेकिन, उस दिन लगा कि धोनी बहुत भारी मन से लौटे। शायद उसी दिन उन्होंने हमेशा के लिए बल्ला टांगने का मन बना लिया था।
धोनी की राह पर रैना: धोनी के ऐलान के 1 घंटे बाद सुरेश रैना भी इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायर हुए; कहा- माही! आगे के सफर में भी आपके साथ चलना चाहता हूं
धोनी के ऐलान के 1 घंटे बाद सुरेश रैना भी इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायर हुए; कहा- माही! आगे के सफर में भी आपके साथ चलना चाहता हूं
माही के रिटायरमेंट पर प्रतिक्रियाएं: धोनी के रिटायरमेंट पर सहवाग ने लिखा- ओम फिनिशाय नमः, शोएब बोले- क्रिकेट की कहानी आपके बिना अधूरी रहेगी
धोनी के रिटायरमेंट पर सहवाग ने लिखा- ओम फिनिशाय नमः, शोएब बोले- क्रिकेट की कहानी आपके बिना अधूरी रहेगी
धोनी के कोच की जुबानी उनकी कहानी: क्लब में धोनी के कोच रहे चंचल भट्टाचार्य ने कहा- वे गुस्सा जताते नहीं, सिर्फ नाक टेढ़ी कर लेते हैं; किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर लेते थे
क्लब में धोनी के कोच रहे चंचल भट्टाचार्य ने कहा- वे गुस्सा जताते नहीं, सिर्फ नाक टेढ़ी कर लेते हैं; किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर लेते थे
धोनी ने 2 वर्ल्ड कप जिताए,एक बार चैम्पियंस ट्रॉफी भी जीती
धोनी 7 जुलाई को ही 39 साल के हुए हैं। उनका जन्म झारखंड (तब बिहार) के रांची में हुआ था। धोनी ने भारत के लिए अब तक सबसे ज्यादा 200 वनडे में कप्तानी की। इसमें भारत को 110 में जीत मिली। वे दुनिया के तीसरे ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने सबसे ज्यादा वनडे मैचों में कप्तानी की है। धोनी ने अपनी कप्तानी में देश को 2007 में टी-20 और 2011 में वनडे वर्ल्ड कप के अलावा 2013 में चैम्पियंस ट्रॉफी जिताई है। दिसंबर 2014 में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट से रिटायरमेंट लिया था।

90 टेस्ट,350 वनडे और 98 टी-20 वनडे खेले
धोनी ने अब तक 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी-20 खेले हैं। इसमें उन्होंने 4876, 10773 और 1617 रन बनाए हैं। धोनी ने आईपीएल में अब तक 190 मैच में 4432 रन बनाए हैं। उनकी कप्तानी में सीएसके ने लगातार दो बार 2010 और 2011 में आईपीएल का खिताब जीता था।

आईपीएल में बतौर कप्तान सबसे ज्यादा 104 मैच जीते
धोनी ने बतौर कप्तान आईपीएल में सबसे ज्यादा 104 मैच जीते हैं। इसमें सबसे ज्यादा 99 मैच चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए जीते,जबकि 5 मैच राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स को जिताए। दूसरे नंबर पर मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा हैं,जिन्होंने अपनी टीम को 104 में से 60 मैचों में जीत दिलाई है।

सहवाग बोले- धोनी जैसा प्लेयर यानी मिशन इम्पॉसिबल

आईपीएल टीम पंजाब ने लिखा- सिर्फ स्टम्प्स ही नहीं, हमारे दिल टूट गए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *