शनिवार शाम 66 नये कोरोना केसों में नैनीताल से 29,प्रदेश में 2791

उत्‍तराखंड में शनिवार को आए 66 नए मामले, 90 लोग अस्‍पताल से हुए डिस्‍चार्ज
देहरादून, । उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। शनिवार शाम सात बजे तक कोरोना के 66 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 90 लोग विभिन्‍न अस्‍पतालों से डिस्‍चार्ज हुए हैं। प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 2791 हो गया है। इनमें से 1912 यानि 68.51 फीसदी मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं। अभी 824 मामले एक्टिव हैं। कोरोना संक्रमित 18 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं,जबकि 37 लोगों की मौत भी हो चुकी है।
उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 66 नए कोरोना संक्रमित मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही अब प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या 2791 पहुंच गई है। अपर सचिव स्वास्थ्य युगल किशोर पंत ने इसकी पुष्टि की है
स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, अल्मोड़ा में 11, बागेश्वर में सात, चमोली में दो, चंपावत में एक, देहरादून में आठ, नैनीताल में 29, पौड़ी में एक, रुद्रप्रयाग में तीन, टिहरी में दो और ऊधमसिंह नगर और उत्तरकाशी में एक-एक संक्रमित मामला सामने आया है।
वहीं, प्रदेश में अब तक 1909 संक्रमित मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। अभी भी 827 एक्टिव केस हैं। जबकि अब तक 37 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है।
देहरादून में प्रदेश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर
कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए प्रदेश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर देहरादून में तैयार हो गया है। इस सेंटर की क्षमता चार हजार बेड की है। इस सेंटर में स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ रोगियों में मानसिक तनाव दूर करने के लिए योग और ध्यान की सुविधा भी है।
प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार ने अब तक 13 जिलों में 297 कोविड केयर सेंटर बनाए हैं। जहां पर सामान्य लक्षणों वाले कोरोना मरीजों का इलाज किया जाएगा। एसडीआरएफ के माध्यम से रायपुर क्रिकेट स्टेडियम में कोविड केयर सेंटर बनाया गया है।
प्रदेश का यह पहला सेंटर है जहां पर एक ही जगह पर चार हजार बेड की क्षमता है। पहले चरण में यहां एक हजार बेड की व्यवस्था की जा रही है, 800 बेड लगाए भी जा चुके हैं। सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी ने बताया कि प्रदेश में अब तक जिला प्रशासन के माध्यम से बनाए गए 297 कोविड केयर सेंटरों में 22 हजार बेड की व्यवस्था की जा चुकी है। इसके अलावा पांच कोविड अस्पताल में 825 बेड और कोविड हेल्थ सेंटर में 1071 बेड की व्यवस्था है।
रुद्रप्रयाग में एक ही परिवार के तीन सदस्य कोरोना संक्रमित
रुद्रप्रयाग जिले में एक ही परिवार के तीन सदस्यों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मेडिकल जांच कर उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया है। यह तीनों लोग बीती 19 जून को मुंबई से लौटे थे।
प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉक्टर जितेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि परिवार को क्वारंटीन किया गया था। बुखार की शिकायत पर 24 जून को तीनों के सैंपल लेकर कोरोना जांच के लिए बेस अस्पताल, श्रीनगर भेजे गए थे। शनिवार को इनमें कोरोना संक्रमण निकला। अब तीनों को कम से कम दस दिन आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा।
इनके साथ क्वारंटीन 37 अन्य लोगों के सैंपल लेकर कोरोना जांच के लिए भेजे गए हैं। डॉक्टर नेगी के अनुसार जिले से अभी तक कुल 1567 सैंपल कोरोना जांच के लिए भेजे जा चुके हैं, जिनमें 1451 नेगेटिव निकले हैं। अभी 51 की रिपोर्ट का इंतजार है।
पिछले 24 घंटों में पांच की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव

एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में पांच लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इनमें एम्स संस्थान की एक जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर भी शामिल हैं। संस्थान की ओर से इस बाबत स्टेट सर्विलांस ऑफिसर को अवगत करा दिया गया है। एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि संस्थान में लिए गए सैंपल में पांच लोग संक्रमित पाए गए। इनमें एम्स यूजी हॉस्टल निवासी 27 वर्षीय युवती जो पीडियाट्रिक्स विभाग में जूनियर रेजिडेंट चिकित्सक है, गले से संबंधित समस्या से परेशान होकर 22 जून को एम्स ओपीडी में आई थी। उसका कोरोना सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। इसके बाद उन्हें एम्स के कोविड वॉर्ड में भर्ती कर दिया गया है।

क्वारंटाइन नियमों का उल्लंघन करने वालों पर हो कार्रवाई

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना वायरस संक्रमण के साथ ही डेंगू के रोकथाम और बचाव के लिए सभी जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए बैठख की। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि डेंगू से बचाव के लिए व्यापक स्तर पर जनजागरूकता अभियान चलाया जाए। स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण के लिए सर्विलांस सिस्टम को और अधिक मजबूत किया जाए। जो लोग होम क्वारंटाइन और होम आईसोलेशन में हैं उनकी लगातार निगरानी की जाए। नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जाए।

34 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को 1752 सैंपल की रिपोर्ट मिली,जिनमें 1718 की रिपोर्ट नेगेटिव और 34 केस पॉजिटिव थे। इनमें सर्वाधिक चौदह मामले जिला नैनीताल से हैं। यह सभी लोग दिल्ली से लौटे हैं। ऊधमसिंहनगर में भी कोरोना के 13 और मामले आए हैं। इनमें दो पुलिस कर्मी भी शामिल हैं। इसके अलावा दिल्ली और हल्द्वानी से आए तीन-तीन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव है। पांच अन्य लोग नोएडा,गुरुग्राम,बुलंदशहर,कोटा और गाजियाबाद से लौटे हैं।
देहरादून में मृतक के अलावा तीन और लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें एक निजी अस्पताल की नर्स, दिल्ली से लौटा एक व्यक्ति और एक स्थानीय शख्स शामिल है। चमोली में हरियाणा और दिल्ली से लौटे दो लोग संक्रमित मिले हैं। चंपावत में नोएडा से लौटा एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। इस बीच, शुक्रवार को नैनीताल से 27, देहरादून से 10, ऊधमसिंहनगर से आठ, अल्मोड़ा से सात, उत्तरकाशी से छह और बागेश्वर और चमोली से तीन-तीन लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किए गए हैं।

शुक्रवार को देहरादून में पांच कंटेनमेंट जोन हुए मुक्त

जनपद में शुक्रवार को पांच कंटेनमेंट जोन को मुक्त कर दिया गया है। अब देहरादून जनपद में कुल 28 कंटेनमेंट जोन हैं। जिसमें से 19 जोन अकेले दून शहर में हैं। ऋषिकेश, डोईवाला और विकासनगर में अवधि पूरी होने पर पांच कंटेनमेंट जोन को मुक्त कर दिया गया है। जिलाधिकारी देहरादून डॉक्टर आशीष कुमार श्रीवास्तव के निर्देश पर शुक्रवार को डोईवाला में आदर्श नगर लेन नंबर नौ जौलीग्रांट और जीवनवाला एरिया को कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया गया है। इसके अलावा विकासनगर में ग्राम लाइन जीवनगढ़ वार्ड-13 और हरबर्टपुर में वार्ड-नौ को भी कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया है। जबकि,ऋषिकेश में शिवाजी नगर और बीस बीघा को भी अवधि पूर्ण करने के बाद कंटेनमेंट जोन से बाहर कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *