कोरोना अपडेट 3 बजे: नये केस हुए 43,प्रदेश में 402

उत्तराखंड में कोरोना के 43 नए मामले, आंकड़ा 400 के पार
देहरादून, । उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में दिन प्रतिदिन वृद्धि हो रही है। मंगलवार को कोरोना के 43 नए मामले सामने आए हैं,जिनमें 14 पिथौरागढ़,10 नैनीताल,छह टिहरी,छह हरिद्वार,तीन देहरादून, तीन अल्मोड़ा और दो ऊधमसिंहनगर से हैं। इसके बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 402 पहुंच गई है। हालांकि,इनमें 64 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं, अब तक कोरोना संक्रमित चार लोगों की मौत भी हो चुकी है।

टिहरी में छह लोगों में कोरोना की पुष्टि

टिहरी गढ़वाल के लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी फकोट नरेंद्रनगर डॉ. जगदीश जोशी ने बताया कि मुंबई से आने वाले 38 लोगों का सैंपल 21 मई को श्री पूर्णानंद इंटर कॉलेज मुनिकीरेती में लिया गया था। इन सभी को जीएमवीएन के गेस्ट हाउस ऋषि लोक में क्वारंटाइन किया गया है। इनमें से छह और लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इससे पहले इनमें नौ लोगों में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है।

मंडी के मुनीम समेत तीन कोरोना पॉजिटिव

देहरादून में तीन लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इनमें निरंजनपुर मंडी के आढती और मुनीम के अलावा मैक्स अस्पताल में भर्ती शामली की एक महिला शामिल हैं। इनकी कॉन्टेक्ट हिस्ट्री खंगाली जा रही है। उसी के अनुसार मरीजों के संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन किया जाएगा।

पिथौरागढ़ में 14,नैनीताल में 10 और ऊधमसिंह नगर में दो केस

वहीं, पिथौरागढ़ में 14 ,नैनीताल के रामनगर में नौ और ऊधमसिंह नगर में दो नए मामले सामने आए हैं,जिनमें से एक पिथौरागढ़ और एक युवक चंपावत का है। दोनों युवक 21 मई को मुंबई से हरिद्वार आई ट्रेन से पहुंचे थे,जिसके बाद से दोनों को पंत विवि स्थित क्वारंटाइन सेंटर में क्वारंटाइन किया गया है।
रुड़की में पुलिस-प्रशासन ने उत्तर प्रदेश के 37 लोगों को बसों से मुजफ्फरनगर के लिए रवाना किया। ये लोग रुड़की क्षेत्र में रोजगार और मजदूरी करते थे। इसके अलावा पश्चिमी बंगाल के 100 लोगों को बस से हरिद्वार के लिए रवाना किया गया है। हरिद्वार से यह लोग ट्रेन में सवार होकर पश्चिम बंगाल भेजे जाएंगे। टिहरी गढ़वाल जिले से जुड़े जिन आठ प्रवासियों की सैंपल रिपोर्ट सोमवार को पॉजिटिव आई थी। उन्हें सूर सिंह धार नर्सिंग कॉलेज टिहरी गढ़वाल के समीप बनाए गए कोविड केयर सेंटर में भेजा जा रहा है। रुड़की सिविल लाइन स्थित एसबीआइ की मुख्य शाखा में शारीरिक दूरी का जमकर उल्लंघन किया गया।
सोमवार को 40 मामले आए सामने
स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को 653 सैंपल की रिपोर्ट मिली है, जिनमें 613 की रिपोर्ट नेगेटिव और 40 की पॉजिटिव है। टिहरी जिले के भिलंगना ब्लॉक में मुंबई से लौटे 10 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले। इनमें आठ युवक 18 मई और दो युवक 20 मई को लौटे थे। नैनीताल में भी हालिया दिनों में लौटे 10 प्रवासी कोरोना संक्रमित मिले। इनमें नैनीताल निवासी आठ लोग 21 मई को महाराष्ट्र से और एक अन्य युवक 20 मई को दिल्ली से लौटा था।
हरिद्वार जिले में नौ लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। जिनमें लंढौरा क्षेत्र में पंजाब से वापस लौटे दो और रुड़की में मुंबई से वापस लौटा एक शख्स संक्रमित मिला है। दूसरी तरफ, 21 मई को मुम्बई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आए छह प्रवासियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। यह सभी मूल रूप से रुद्रप्रयाग के रहने वाले हैं। ऊधमसिंहनगर में पांच लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। ये सभी मुम्बई से लौटे थे। इसके अलावा काशीपुर के मोहल्ला लाहोरियान निवासी छह साल के मासूम की भी रिपोर्ट पॉजिटिव है। वह अपनी मां व भाई-बहन के साथ प्राइवेट कार से फिरोजाबाद से लौटा है।
जनपद पौड़ी में पाबौ ब्लॉक (पिपली गांव) निवासी जिस शख्स की चार दिन पहले क्वारंटाइन सेंटर में मौत हुई थी वह भी कोरोना पॉजिटिव निकला है। यहां गाजियाबाद से लौटी पाबौ ब्लॉक की एक महिला और गुरुग्राम से लौटी एकेश्वर ब्लॉक निवासी एक अन्य महिला की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। चमोली के थराली ब्लॉक के देवलग्वाड़ निवासी एक युवक भी कोरोना संक्रमित मिला है। वह कुछ दिन पहले गुरुग्राम से वापस लौटा था। चमोली में ही दिल्ली से वापस लौटा एक और व्यक्ति कोरोना पीड़ित मिला है। देहरादून जनपद में रानीपोखरी निवासी 32 वर्षीय एक महिला में कोरोना की पुष्टि हुई है। महिला 21 मई को मुंबई से वापस लौटी थी। उधर, पिथौरागढ़ में 19 मई को मुंबई से वापस लौटे एक व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव है। उसके संपर्क में आए 26 अन्य लोगों को भी क्वारंटाइन करा दिया गया है।

मृतक महिला के पति-भाई की रिपोर्ट नेगेटिव

शामली निवासी जिस महिला की दून अस्पताल में मौत हुई थी उसके पति व भाई की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।
महिला अस्पताल में आइसीयू में भर्ती थी। अस्पताल प्रशासन का कहना था कि इसके दिमाग में टीबी की गांठ थी। चिकित्सकों ने दवा के जरिए डिलीवरी कराने की कोशिश की, लेकिन ऐसा संभव नहीं हुआ। शनिवार को उसकी मौत हो गई। रविवार को उसमें कोरोना की पुष्टि हुई। जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने उसके भाई व पति को भी भर्ती कर लिया था।

प्रवेश द्वारों पर अनिवार्य क्वारंटाइन होंगे प्रवासी

बाहर से आने वाले प्रवासियों को देहरादून, हरिद्वार, कोटद्वार समेत विभिन्न प्रवेश स्थलों पर ही क्वारंटाइन किया जाएगा। उच्च शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉक्टर धन सिंह रावत ने कहा इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गए है।
बाहर से आने वाले प्रवासियों को अब सीधे गांवों में नहीं जाने दिया जाएगा। उन्हें अब इंट्री प्वाइंट यानी प्रवेश द्वारों पर क्वारंटाइन कराया जाएगा। हाईकोर्ट ने इस संबंध में राज्य सरकार को निर्देश दिए थे। बाहर से आ रहे प्रवासियों को बॉर्डर पर ही क्वारंटाइन किए जाने को सरकार व्यावहारिक नहीं मान रही है। इस मामले में पेश आने वाली दिक्कतों को प्रदेश सरकार हाईकोर्ट के समक्ष रखेगी। मंत्रिमंडल की बैठक में इस बारे में फैसला लिया गया। सरकार हाईकोर्ट में तो अपना पक्ष रखेगी, लेकिन इससे पहले प्रवेश द्वारों पर प्रवासियों को अनिवार्य रूप से क्वारंटाइन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *