7000 करोड़ के बैंक फ्रॉड के मामलों में 35 केस ,देशभर में 169 जगहों पर सीबीआई छापेमारी

सिंबॉलिक इमेज।
कार्रवाई / सीबीआई ने 7000 करोड़ के बैंक फ्रॉड के मामलों में 35 केस दर्ज किए, देशभर में 169 जगहों पर छापे
दिल्ली, यूपी और एमपी समेत 15 राज्यों में कार्रवाई,सीबीआई ने बैंकों, आरोपियों के नाम नहीं बताए
नई दिल्ली. सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) ने 7000 करोड़ रुपए के बैंक फ्रॉड के मामलों में 35 केस दर्ज किए हैं। इसी के बाद यह कार्रवाई हुई है। फिलहाल यह छापेमारी जारी है। इन मामलों में देशभर में 169 जगहों पर मंगलवार को छापेमारी की गई। सीबीआई ने आंध्रप्रदेश, चंडीगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, दादर एवं नागर हवेली में कार्रवाई की।केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सात हजार करोड़ रुपए से अधिक के बैंक धोखाधड़ी मामले में मंगलवार को यह छापे दिल्ली, आंध्र प्रदेश, चंडीगढ़, गुजरात, हरियाणा, कनार्टक, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दादरा एवं नगर हवेली समेत देश के विभिन्न राज्यों में 169 स्थानों पर छापेमारी की। सीबीआई ने सात हजार करोड़ रुपए से अधिक के बैंक धोखाधड़ी के मामले में 35 मामले भी दर्ज किए हैं।
बैंकों या आरोपियों के नाम का खुलासा नहीं
हालांकि, अधिकारी ने मामले में शामिल बैंकों या आरोपियों के नाम का खुलासा नहीं किया। यह पहली बार नहीं है जब केंद्रीय जांच एजेंसी ने इतने बड़े पैमाने पर छापेमारी अभियान चलाया है। इसने पिछले कुछ महीनों में बैंक धोखाधड़ी के मामलों में कई बार इस तरह की छापेमारी की है।
पीएमसी बैंक घोटाले से देशभर में हड़कंप
गौरतलब है कि मुंबई में पीएमसी बैंक घोटाले से देशभर में हड़कंप मचा हुआ है। पीएमसी बैंक घोटाला 4355 रुपये का है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा एक सीमा से अधिक पैसा निकालने पर रोक लगा दी गई है। इस रोक के बाद खाताधारक छह माह में केवल 40 हजार रुपये ही निकाल सकते हैं।
खाताधारकों की मौत
इस बैंक घोटाले से खाताधारकों के परेशानी का आलम इस बात से लगाया जा सकता है कि अब तक आठ लोगों की मौत हो गई है। गौरतलब है कि इस घोटाले के दो आरोपी राकेश वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन ईडी के हिरासत में हैं। ईडी इस मामले की मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत जांच कर रही है। ईडी ने घोटाले से जुड़े मनी लांड्रिंग केस में 3830 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की हैं। पीएमसी बैंक की देशभर में कुल 137 शाखाएं हैं।
सीबीआई ने रोजवैली घोटाले की जांच के सिलसिले में आईपीएस अधिकारी से की पूछताछ
केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने करोड़ों रूपये के रोजवैली घोटाले की जांच के सिलसिले में उपायुक्त (बंदरगाह संभाग) वकार रजा से सोमवार को पूछताछ की। सीबीआई के सूत्रों ने बताया कि आईपीएस अधिकारी रजा आरोपी नहीं हैं लेकिन जब रोजवैली समूह ने कथित रूप से वित्तीय अनियमितताएं की थी तब उनकी बतौर सीआईडी अधिकारी क्या भूमिका थी, उसका पता लगाने के लिए उन्हें यहां सीबीआई के सीजीओ परिसर कार्यालय में तलब किया गया था।
प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार इस समूह ने निवेशकों को 15,000 करोड़ रुपये का चूना लगाया था जिसमें ब्याज और जुर्माने की राशि भी शामिल है। कंपनी पर निवेशकों के प्रति अपनी देनदारियों को दबाने के लिए अपनी सहायक कंपनियों में निवेश करने का आरोप है। केंद्रीय एजेंसी ने 2015 में समूह के अध्यक्ष गौतम कुंडू को गिरफ्तार किया था और होटलों और रिसोर्ट समेत 2300 करोड़ रूपये की संपत्ति कुर्क की थी। सीबीआई इस घोटाले की जांच के तहत तृणमूल कांग्रेस के कई नेताओं और बंगाली फिल्मोद्योग के कई कलाकारों से पूछताछ कर चुकी है।। सीबीआई पिछले कुछ महीनों में इस तरह के मामलों में कई बार तलाशी अभियान चला चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *