हाईकोर्ट की बीएमसी को फटकार:नींद से जाग नोटिस जारी कर दिया,और अवैध निर्माणों पर इतनी तेजी दिखाते

बीएमसी ने 2 घंटे कंगना का दफ्तर तोड़ा:हाईकोर्ट ने बीएमसी से कहा- अचानक नींद से जागे और नोटिस जारी कर दिया, इतनी तेजी बाकी अवैध निर्माणों पर दिखाते तो मुंबई कुछ और ही होती
मुंबई

ये फोटोज कंगना रनोट के मुंबई के पाली हिल स्थित ऑफिस की हैं। यहां उनके प्रोडक्शन हाउस ‘मणिकर्णिका फिल्म्स’ का ऑफिस है। बीएमसी ने बुधवार को यहीं कंस्ट्रक्शन तोड़ा।
  • बीएमसी ने कंगना के दफ्तर में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई की, कंगना हाईकोर्ट गईं और कोर्ट ने बीएमसी से जवाब मांगा
  • पाली हिल में 48 करोड़ की लागत से बना है मणिकर्णिका फिल्म्स का दफ्तर, कंगना ने कहा- मुंबई को पीओके कहकर कोई गलती नहीं की

कंगना रानोट के हिमाचल से मुंबई पहुंचने से पहले बीएमसी ने उनके मुंबई ऑफिस में अवैध कब्जा हटाने की कार्रवाई की। बीएमसी ने दफ्तर में दो घंटे तोड़फोड़ की। कंगना ने कहा कि उन्होंने मुंबई को पीओके कहकर कुछ गलत नहीं किया। कंगना का दफ्तर मुंबई के बांद्रा में पाली हिल इलाके में है। उन्होंने 48 करोड़ रुपए खर्च कर बनवाया है। यहां उनके प्रोडक्शन हाउस मणिकर्णिका फिल्म्स का ऑफिस है। वो अपना दफ्तर तोड़े जाने के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट गईं, जिसके बाद अदालत ने कार्रवाई पर रोक लगाते हुए बीएमसी से जवाब मांगा।

हाईकोर्ट की बीएमसी पर तीन तल्ख टिप्पणियां
1. बीएमसी ने जो कुछ किया, उसके पीछे दुर्भावना है और यह काम निंदनीय है। जिस तरह से बीएमसी ने निर्माण को ढहाने का काम किया, वह उसके पीछे अच्छी नीयत नहीं नजर आती। इसके पीछे बदनीयती नजर आती है।
2. अचानक बीएमसी नींद से जागता है और याचिकाकर्ता को नोटिस जारी कर देता है। और, वो भी तब जब वो राज्य से बाहर है।
3. हम मदद नहीं कर सकते, पर यह जरूर कहना चाहेंगे कि अगर बीएमसी ने इसी तरह की तेजी दूसरे अवैध निर्माणों पर एक्शन लेने में दिखाई होती तो यह शहर रहने के लिए कुछ और ही जगह होता।

बीएमसी ने 24 घंटे में दो नोटिस भेजे थे
बीएमसी ने उनके मुंबई स्थित ऑफिस में अवैध निर्माण को लेकर 24 घंटे में दूसरा नोटिस भेजा था। फिर बीएमसी की एक टीम जेसीबी मशीन, क्रेन और हथौड़े लेकर ऑफिस पहुंच गई और कंस्ट्रक्शन तोड़ा। कंगना के वकील रिजवान सिद्दीकी ने कहा कि बीएमसी ने जो नोटिस दिया, वो अवैध था। कर्मचारी अवैध तरीके से ही परिसर में दाखिल हुए। साफ समझ में आता है कि बीएमसी पहले से ही बिल्डिंग गिराने के लिए तैयार थी।

पवार ने कहा- कार्रवाई गैर-जरूरी, मुंबई में अवैध निर्माण नई बात नहीं
इस मामले पर सियासी बयान भी आने लगे। दिन में राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि कार्रवाई गैर-जरूरी थी। फिर शाम को भी उन्होंने इस मुद्दे पर बयान दिया कि मुंबई में अवैध निर्माण नई बात नहीं है। अगर बीएमसी की कार्रवाई नियमों के मुताबिक है तो ये सही है। इस बयान के कुछ ही देर बाद पवार महाराष्ट्र के सीएम उद्धव से मिलने पहुंचे। उधर, कंगना को ‘नॉटी’ बताने वाले शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- मेरा मामला अब खत्म हो गया है। कंगना का मुंबई में स्वागत है।

कंगना ने शिवसेना से कहा- याद रख बाबर, यह मंदिर फिर बनेगा

कंगना ने इस कार्रवाई पर लगातार 5 ट्वीट किए। उन्होंने कहा, ‘यह एक इमारत (ऑफिस) नहीं, राम मंदिर है, आज वहां बाबर आया है। उन्होंने कहा कि दुश्मनों ने साबित किया कि मुंबई को पीओके कहकर गलती नहीं की।’

दरअसल, एक्ट्रेस ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया था। केंद्र ने उन्हें Y कैटेगरी की सुरक्षा दी है, इस दौरान 11 सुरक्षाकर्मी हमेशा उनके साथ रहेंगे।

कंगना ने कहा कि मेरे आने से पहले ही महाराष्ट्र सरकार और उनके गुंडे मेरे ऑफिस के बाहर पहुंच गए हैं और उसे गिराने की तैयारी कर रहे हैं।

कंगना ने कार्रवाई पर पाकिस्तान का जिक्र करते इसे डेथ ऑफ डेमोक्रेसी कहा।

कंगना ने कहा, मैं कभी गलत नहीं थी। मेरे दुश्मनों ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि क्यों मुंबई पाक के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) है।

कंगना ने कहा कि मेरे घर में कोई अवैध निर्माण नहीं है। कोविड की वजह से सरकार ने भी 30 सितंबर तक किसी भी तरह की तोड़फोड़ पर रोक लगा रखी है। ‘बॉलीवुड’ अब देखो फासिज्म क्या होता है।

कार्रवाई पर बीएमसी ने क्या कहा
बीएमसी ने कहा, ‘नोटिस मिलने के बाद भी आपने काम जारी रखा। इसलिए नोटिस के मुताबिक, फौरन तोड़फोड़ कर रहे हैं। इसके लिए आप खुद जिम्मेदार हैं। यह काम आपके खर्च पर ही किया जाएगा।’

बीएमसी ने कंगना को उनके ऑफिस में अवैध निर्माण को लेकर चार नोटिस भेजे थे।
बीएमसी ने कंगना को उनके ऑफिस में अवैध निर्माण को लेकर चार नोटिस भेजे थे।

कंगना के ऑफिस में इन 10 कंस्ट्रक्शन को बीएमसी ने अन-ऑथराइज बताया था
1. ग्राउंड फ्लोर के टॉयलेट को ऑफिस का केबिन बना दिया।
2. स्टोर रूम में किचन बना दिया गया।
3. स्टोर में सीढ़ियों के पास और पार्किंग एरिया में नए टॉयलेट बनाए जा रहे हैं।
4. ग्राउंड फ्लोर पर पैन्ट्री बनाई जा रही है।
5. फर्स्ट फ्लोर पर लिविंग रूम में लकड़ी का पार्टीशन कर कमरा/केबिन बनाया जा रहा है।
6. फर्स्ट फ्लोर पर पूजा वाले कमरे में पार्टीशन कर मीटिंग रूम/केबिन बनाया गया।
7. फर्स्ट फ्लोर पर खुले चौक में टॉयलेट बनाए गए।
8. सैकेंड फ्लोर पर सीढ़ियों की स्थिति बदली गई।
9. फर्स्ट फ्लोर पर सामने की तरफ हॉरिजॉन्टल तरीके से 2.बाय 6.का स्लैब बढ़ाया गया।
10. सेकंंड फ्लोर पर दीवार हटाकर बालकनी बना दी गई।

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ हैशटैग ‘डेथ ऑफ डेमोक्रेसी’
कंगना के ऑफिस में अवैध निर्माण को लेकर बीएमसी कार्रवाई के बाद ट्विटर पर हैशटैग ‘डेथ ऑफ डेमोक्रेसी’ ट्रेंड किया। दोपहर 12 बजे तक एक लाख से ज्यादा लोग इस हैशटैग के साथ ट्वीट कर चुके थे। वहीं, हैशटैग ‘कंगना रनोट’ पर लोगों ने 40 हजार से ज्यादा ट्वीट किए।

कंगना के ऑफिस के खिलाफ सुबह 10:30 बजे कार्रवाई शुरू की गई थी।
कंगना के ऑफिस के खिलाफ सुबह 10:30 बजे कार्रवाई शुरू की गई थी।

कंगना कार से चंडीगढ़ पहुंची थीं
एक्ट्रेस सड़क के रास्ते मंडी (हिमाचल प्रदेश) से पहले चंडीगढ़ पहुंची थीं। इस बीच, मुंबई करणी सेना और रामदास अठावले की पार्टी आरपीआई ने भी उन्हें प्रोटेक्शन देने का ऐलान किया है। कंगना के मुंबई पहुंचते ही शिवसेना समेत कई अन्य पार्टियों की ओर से विरोध तय माना जा रहा है।

कंगना की यह फोटो चंडीगढ़ एयरपोर्ट की है। वे यहां से मुंबई के लिए रवाना हुईं।
कंगना की यह फोटो चंडीगढ़ एयरपोर्ट की है। वे यहां से मुंबई के लिए रवाना हुईं।

कंगना ने मुंबई रवाना होने से पहले भी ट्वीट किया

शिवसेना ने आज फिर कंगना के लिए अपशब्द का इस्तेमाल किया
शिवसेना ने मुखपत्र ‘सामना’ में लिखा, ‘राजनीतिक एजेंडे को सामने लाने के लिए देशद्रोही पत्रकार और सुपारीबाज कलाकारों के राजद्रोह का समर्थन करना भी ‘हरामखोरी’ ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *