अतिरूद्री महायज्ञ देवपूजन से शुरू

रुड़की, 21 नवम्बर, । गुरु- कृपा आध्यात्मिक चेतना संस्थान श्री भवानी शंकर आश्रम रुड़की में आज 21 नवंबर को प्रातः काल अतिरूद्री महायज्ञ देव पूजन के साथ प्रारंभ हुआ जिसमें अनेक ब्राह्मणों द्वारा आचार्य पंडित गंगा राम शास्त्री ने वेद मंत्रों से कार्यक्रम का शुभारंभ किया ।
मध्याहन 2 बजे से श्री शिव महापुराण कथा का शुभारंभ श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर स्वामी मैत्रेयी गिरि महाराज, श्री महंत रिमा गिरि , श्री महंत त्रिवेनी गिरि के सान्निध्य में हुआ ।
कथा व्यास श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर स्वामी डॉक्टर हेमानन्द सरस्वती महाराज (कोटा, राजस्थान), ने शिव महापुराण की कथा की महिमा बताते हुए कहा कि कलयुग में जो भी जीव देवाधिदेव महादेव की कथा को श्रद्धा विश्वास से श्रवण करते हैं, वह सांसारिक समस्त सुखों की प्राप्ति कर अन्त में मोक्ष की प्राप्ति करते हैं ।
महालय की कथा में देवराज नामक ब्राह्मण के दृष्टांत के माध्यम से भगवान शंकर की दयालुता और कृपालुता का वर्णन किया गया । कथा के मध्य सारा वातावरण शिवमय हो गया ।
कथा में वीरेंदर, हिमानी, लक्ष्मी, राकेश चौधरी, स्वराज गोयल, सलोनी, अकुल, अरुण, पिल्लू, नीरज शर्मा, बीर सिंह (पानीपत), बालेन्द्र, संजय, चौधरी गौरव, डॉक्टर विनोद, सुशील (लीबेरहेड़ी), वीजय रानी (दिल्ली) आदि उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *