लखनऊ हज़रतगंज चौराहे  का नाम अब  ‘अटल चौक’  

पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी लखनऊ से पांच बार सांसद रहे हैं और नगर निगम के भी 5 बार सदस्य चुने गए. वह खुद को लखनऊ से बहुत जुड़ा हुआ मानते थे.पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की पहली पुण्यतिथि पर कई घोषणाएं हुईं। लोकभवन में शुक्रवार को आयोजित श्रद्धांजलि सभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर सभी मंडलों में आवासीय विद्यालय खोलने की बात कही। इसके अलावा लखनऊ विश्वविद्यालय (लविवि) में अटल सुशासन पीठ बनाई जाएगी।इसके अलावा इस्माइलगंज के डिग्री कॉलेज को भी अब अटल बिहारी वाजपेयी नगर-निगम डिग्री कॉलेज के नाम से जाना जाएगा

UP-Lucknow's Hazratganj Chauraha was renamed as Atal Chowk 

लखनऊ: लखनऊ के दिल कहे जाने वाले हजरतगंज चौराहा अब अटल चौक के नाम से जाना जाएगा. लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि पर इसकी आधिकारिक घोषणा की. महापौर ने बताया कि हजरतगंज चौराहे का नाम पूर्व प्रधानमंत्री और लखनऊ से सांसद रह चुके दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर कर दिया गया है. अब इसे अटल चौक के नाम से जाना जाएगा. प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद से ही चर्चा चल रही थी कि उनके नाम पर सड़कों और चौराहों का नामकरण किया जाएगा, और उसी के तहत हजरतगंज चौराहे का नाम अटल के नाम पर किया गया है.लोकभवन में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का बहुआयामी व्यक्तित्व हमें आज भी प्रेरणा देता है। उन्होंने कभी अपने सिद्धांतों और आदर्शो से समझौता नहीं किया। योगी ने कहा कि 25 दिसंबर को अटल जी की जयंती पर लोकभवन में उनकी 25 फीट ऊंची प्रतिमा का लोकार्पण किया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश के सभी 18 मंडलों में अटल के नाम पर श्रमिकों के बच्चों की पढ़ाई के लिए आवासीय विद्यालय खोले जाएंगे।

 

श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा कि अटल जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए जवानों को शहीद का दर्जा देने के साथ ही उनके परिजनों को पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी आवंटित करने की व्यवस्था की। नेहरू से लेकर राजीव गांधी तक प्रधानमंत्री के रूप में यह सोच भी नहीं सके।

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि अटलजी ने राजनीति को संस्कृति की तरह जिया व प्रेरित किया। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अटलजी के विचार आज भी हमें ऊर्जित करते हैं। कार्यक्रम का संचालन कर रहे उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने अटल से जुड़े संस्मरण साझा किए। इसके पहले विधानसभा अध्यक्ष व मुख्यमंत्री ने लोकभवन में अटल के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

इसके अलावा इस्माइलगंज के डिग्री कॉलेज को भी अब अटल बिहारी वाजपेयी नगर-निगम डिग्री कॉलेज के नाम से जाना जाएगा.भाटिया ने बताया, “पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्घेय अटल बिहारी वाजपेयी जी की प्रथम पुण्यतिथि के अवसर पर जरहरा स्थित नगर निगम की पांच हेक्टेयर जमीन पर ‘अटल उदय वन’ बनाने के लिए एचसीएल फाउंडेशन के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर हुआ है.”एचसीएल लखनऊ नगर निगम द्वारा दी गई पांच हेक्टेयर जमीन पर स्थानीय पौधों का रोपण करेगा और कई चरणों में लगभग एक लाख पौधे लगाएगा और इनके रखरखाव की जिम्मेदारी उठाएगा.

एचसीएल फाउंडेशन इसके साथ ही अत्याधुनिक वैज्ञानिक और तकनीकी जानकारी का नगर निगम एवं क्रियान्वयन करने वाली अन्य एजेंसियों के साथ आदान-प्रदान करेगा, ताकि यहां पर चलाए जा रहे वृक्षारोपण एवं जल संरक्षण के प्रयासों में सहयाग मिले.

एमओयू की अन्य शतरें के तहत एचसीएल लखनऊ में किए जाने वाले जल संरक्षण के कार्यो के लिए तकनीकी साझेदार होगा. एमओयू की अवधि समाप्त हो जाने के बाद इन क्षेत्रों के रखरखाव की जिम्मेदारी लखनऊ नगर निगम की होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *