हरियाणा विस चुनाव पूर्व बड़ा झटका, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने छोडी कांग्रेस

अशोक तंवर अपने समर्थकों के लिए 15 टिकट मांग रहे थे लेकिन जब टिकटों की घोषणा हुई तो तंवर के हिस्से में एक भी सीट नहीं आयी. तीन दिन पहले नाराज़ तंवर ने अपने समर्थकों के साथ राजधानी दिल्ली में सोनिया गांधी के घर के बाहर शक्ति प्रदर्शन किया था.
नई दिल्ली: हरियाणा विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. टिकट बंटवारे में अपने समर्थकों की अनदेखी से नाराज कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. दरअसल, अशोक तंवर को हरियाणा विधानसभा चुनाव में एक भी टिकट नहीं दी गई है. अशोक तंवर अपने समर्थकों के लिए 15 टिकट मांग रहे थे लेकिन जब टिकटों की घोषणा हुई तो तंवर के हिस्से में एक भी सीट नहीं आयी. अशोक तंवर (Ashok Tanwar))ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. तंवर प्रदेश अध्यक्ष का पद जाने के बाद से नाराज चल रहे थे.
इससे पहले शुक्रवार को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी में सभी बड़े पदों से इस्तीफा दे दिया था. अशोक तंवर ने हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupendra Singh Hooda)पर निशाना. अशोक तंवर (Ashok Tanwar) ने आरोप लगाया है यह हरियाणा कांग्रेस (Congress) अब हुड्डा कांग्रेस (Congress) बन गई है.तंवर ने कहा उनके प्रदेश अध्यक्ष रहते हुए जिन लोगों ने अपना खून पसीना बहाया कांग्रेस (Congress) को मजबूत करने के लिए संघर्ष किया उन सभी को दरकिनार कर दिया गया और भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने अपनी मनमर्जी से टिकट बांट दी.
बता दें कि इससे पहले अशोक तंवर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर कहा था कि मैं जितने भी पदों हूं, मुझे सभी पदों से मुक्त कर दिया जाए और मैं एक साधारण कार्यकर्ता के तौर पर पार्टी के लिए काम करूंगा. अशोक तंवर ने कहा कि दुख की बात ये है कि पार्टी के अंदर ही ऐसी ताकते हैं जिन्होंने पार्टी का विरोध किया और जमीन पर काम करने वालों को रोका गया. ब्लॉक अध्यक्ष या फिर जिला अध्यक्ष तक मुझे नहीं बनाने दिया गया. मेरे साथी गुटबाज़ी की भेंट चढ़ गए.
अशोक तंवर ने सोनिया गांधी को यह भी कहा था कि हरियाणा कांग्रेस अब हुड्डा कांग्रेस में तब्दील हो चुकी है. पांच साल मैं हरियाणा कांग्रेस का अध्यक्ष रहा लेकिन मुझे ब्लॉक अध्यक्ष और जिलाध्यक्ष तक नियुक्त नहीं करने दिए गए क्योंकि कुछ व्यक्तियों के स्वार्थ उसमें शामिल थे. हरियाणा की राजनीति में कुछ ऐसे राजघराने हैं जिन्होंने आम परिवारों के युवाओं को आगे नहीं आने दिया कुछ ऐसे घराने कांग्रेस में हैं और कुछ बाक़ी राजनीतिक दलों में हैं.

तंवर ने दिल्ली में किया था शक्ति प्रदर्शन

तीन दिन पहले नाराज़ तंवर ने अपने समर्थकों के साथ राजधानी दिल्ली में सोनिया गांधी के घर के बाहर शक्ति प्रदर्शन किया था. इस दौरान उन्होंने हरियाणा के प्रभारी ग़ुलाम नबी आज़ाद, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा और प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी की था. इस दौरान तंवर ने कहा कि यह राजनीतिक हत्या करने का प्रयास हो रहा है. सोनिया गांधी ने हमेशा न्याय किया है और मुझे उम्मीद है कि हमें भी न्याय मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *